• Home
  • »
  • News
  • »
  • business
  • »
  • सरकारी दफ्तरों में Work From Home लागू, माननी होंगी ये शर्तें

सरकारी दफ्तरों में Work From Home लागू, माननी होंगी ये शर्तें

घर से कम करेंगे सरकारी कर्मचारी

घर से कम करेंगे सरकारी कर्मचारी

कोरोना वायरस (Coronavirus) के बढ़ते मामले को देखते हुए सरकारी दफ्तरों में Work From Home लागू कर दिया गया है.

  • Share this:
    नई दिल्ली. दुनियाभर में कोरोना (COVID-19) के बढ़ते कहर के बाद अब केंद्र सरकार पूरी तरह से एक्शन में दिखाई दे रही है. पहले ही देश के कॉरपोरेट सेक्टर के एक बड़े हिस्से ने अपने कर्मचारियों की सेहत को ध्यान में रखते हुए 'Work From Home' की सुविधा देनी शुरू कर दी. अब केंद्र सरकार भी अपने कर्मचारियों को घर से काम करने की सुविधा देने जा रही है. कोरोना के खौफ के बीच अब सरकारी दफ्तरों में भी वर्क फ्रॉम होम की सुविधा लागू की जाएगी. गुरुवार को कार्मिक ​मंत्रालय (Ministry of Personnel) ने यह जानकारी दी.

    50 फीसदी सरकारी कर्मचारी घर से काम करेंगे
    कार्मिक मंत्रालय द्वारा प्राप्त जानकारी के मुताबिक, ग्रुप-B और ग्रुप-C कर्मचारियों को दो हिस्सों में बांटा गया है. इसके साथ ही फैसला लिया गया है कि 4 अप्रैल तक सरकारी दफ्तरों में वर्क फ्रॉम होम लागू कर दिया गया है. इसके तहत 50 फीसदी कर्मचारी अब घर से काम करेंगे.



    यह भी पढ़ें: कोरोना से रेलवे को लगा बड़ा झटका- रोजाना 4 लाख टिकट हो रहे है कैंसिल

    तैयार होगा कर्मचारियों का रोस्टर
    सरकार द्वारा जारी आज नोटिफिकेशन में कहा गया है कि कर्मचारियों के वर्किंग टाइम में भी बदलाव किया गया है. इस नोटिफिकेशन के मुताबिक, सभी डिपार्टमेंट के हेड अपने अंतर्गत आने वाले कर्मचारियों का हर सप्ताह एक रोस्टर तैयार करेंगे. कर्मचारी एक सप्ताह दफ्तर में और अगले सप्ताह घर से काम करेंगे. कर्मचारियों के लिए तीन टाइम स्लॉट बनाए गए हैं. जोकि इस प्रकार है- 9 am to 5.30 pm, 9.30 am to 6 pm and 10 am to 6.30 pm.

    यह भी पढ़ें: कोरोना वायरस के लिए देश का पहला इंश्योरेंस प्लान लॉन्च, 499 रुपये में इलाज

    4 अप्रैल तक जारी रहेगा आदेश
    घर से काम करने वाले कर्मचारी फोन और इले​क्ट्रॉनिक कम्युनिकेशन के जरिये अनिवार्य रूप से उपलब्ध रहेंगे. साथ ही यह भी कहा गया है कि किसी आपात स्थिति में कर्मचारी कार्यालय आने के लिए तैयार रहेंगे. घर से काम करने का आदेश 4 अप्रैल तक जारी रहेगा. इसके बाद स्थिति को देखते हुए फैसला लिया जाएगा.

    इमरजेंसी सेवा वाले कर्मचारियों को नहीं मिलेगी यह सुविधा
    हालां​कि, यह भी साफ किया गया है कि यह आदेश उन दफ्तरों और कर्मचारियों पर लागू नहीं होगा जो जरूरी या इमरजेंसी सेवा क्षेत्र के हैं. खासतौर से वो, जो सीधे तौर पर कोरोना वायरस से बचाव कार्य में जुटे हुए हैं.

    यह भी पढ़ें: रेलवे ने रद्द की तेजस एक्सप्रेस, 31 मार्च तक नहीं चलेगी ट्रेन

    स्पाइसजेट ने बंद की सभी अंतरराष्ट्रीय उड़ाने बंद की
    इसके लिए अलावा अस्थायी तौर पर सभी अंतरराष्ट्रीय उड़ानों को बंद कर दिया गया है. इस बीच विमान कंपनी स्पाइसजेट ने कहा है कि उसने 21 मार्च से 30 अप्रैल तक अपनी सभी विदेशी उड़ानों को रद्द कर दिया है. हालांकि, स्पाइसजेट ने साथ में यह भी कहा कि जैसे ही स्थिति सामान्य होती है तो उड़ानें बहाल कर दी जाएंगी. कोलकाता-ढाका की उड़ान जारी रखने की बात स्पाइसजेट की तरफ से कही गई है. कंपनी ने कहा है कि चेन्नई और कोलंबों की उड़ान भी 35 मार्च से शुरू होगी.

    यह भी पढ़ें: कोरोना का कहर! देश के 5 लाख रेस्टोरेंट 31 मार्च तक रहेंगे बंद

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज