वर्क फ्रॉम होम से बढ़ रहा साइबर क्राइम, देश की 80% कंपनियां साइबर सुरक्षा देने में नहीं हैं सक्षम

कोरोना वायरस संकट के बीच हैकिंग का खतरा बढ़ गया है.
कोरोना वायरस संकट के बीच हैकिंग का खतरा बढ़ गया है.

कोरोना महामारी से बचने के लिए आजकल लोग लॉकडाउन में घर से काम कर रहे हैं. बढ़ते साइबर हमले को नाकाम करने के लिए देश की 80 फीसदी कंपनियों के पास पुख्ता इंतजाम ही नहीं हैं. इन कंपनियों के कम्प्यूटर, इंटरनेट और कामकाज के तौर तरीके ऐसे हैं कि कभी भी हमलावर इनका डाटा चुराकर उन्हें बड़ी क्षति पहुंचा सकता है.

  • Share this:
नई दिल्ली. कोरोना महामारी से बचने के लिए आजकल लोग लॉकडाउन में घर से काम कर रहे हैं. बढ़ते साइबर हमले को नाकाम करने के लिए देश की 80 फीसदी कंपनियों के पास पुख्ता इंतजाम ही नहीं हैं. इन कंपनियों के कम्प्यूटर, इंटरनेट और कामकाज के तौर तरीके ऐसे हैं कि कभी भी हमलावर इनका डाटा चुराकर उन्हें बड़ी क्षति पहुंचा सकता है. केवल 20 फीसदी कंपनियों का संसाधन साइबर हमले झेलने में सक्षम हैं. फिक्की और अर्न्स्ट एंड यंग यानि ई एंड वाई की रिपोर्ट में बताया गया है कि देश की 80 फीसदी कंपनियों के सर्वर, नेटवर्क और इंटरनेट से जुड़े इंफ्रास्ट्रक्चर में तमाम खामियां हैं.

हैकर सिस्टम को हैक करके लोगों से रकम मांगते 
तमाम कंपनियों में पेनड्राइव के इस्तेमाल की खुली छूट होती है, वहीं वाइफाई में भी पासवर्ड नहीं लगाया जाता है. इससे खतरा बना रहता है. दुनियाभर में कोरोना महामारी के दौर में तमाम स्पैम ईमेल और लिंक भेजे जाते हैं, जिन्हें क्लिक करने से कम्प्यूटर पर काम करने के दौरान पूरा सिस्टम हैक किया जा सकता है. साथ ही कई मामलों में ये भी देखने को मिला है कि हैकर सिस्टम को हैक करके लोगों से रकम मांगता है.

ये भी पढ़ें: सिर्फ 10 रुपये रोजाना बचाकर पाएं 60 हजार रुपये पेंशन! सरकार ने अब दी ये राहत
 वर्क फ्रॉम होम कल्चर से बढ़ रहे हैं साइबर हमले के खतरे 


कोरोना संकट के दौर में बढ़ते वर्क फ्रॉम होम कल्चर से भी साइबर हमले के खतरे बढ़ रहे हैं. घर से कामकाज के दौरान आने वाली समस्याओं का समाधान हेल्प डेस्क के जरिए होता है. कई बार सिस्टम इस्तेमाल करने वाला व्यक्ति हेल्प डेस्क के जरिए पूरी तरह से समाधान नहीं निकाल पाता है और कम्प्यूटर में अपने हिसाब से सॉफ्टवेयर इन्सटॉल कर लेता है. इससे सुरक्षा के लिए खतरा बढ़ जाता है. एक बार वायरस किसी भी कम्प्यूटर के जरिए कंपनी के आईटी इंफ्रास्ट्रक्चर में घुस गया फिर वो पूरे सिस्टम को अपने कब्जे में लेकर मनमानी करने की ताकत रखता है.

ये भी पढ़ें: लॉकडाउन में भी हिट है ये बिजनेस, सरकार इसके लिए देती है 2.5 लाख रुपये
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज