लाइव टीवी

गोल्ड में भारत समेत पूरी दुनिया की दिलचस्पी हुई कम, WGC ने बताया फिर भी क्यों बढ़ रहे हैं दाम

News18Hindi
Updated: January 30, 2020, 2:05 PM IST
गोल्ड में भारत समेत पूरी दुनिया की दिलचस्पी हुई कम, WGC ने बताया फिर भी क्यों बढ़ रहे हैं दाम
WGC ने सोने को लेकर ताजा रिपोर्ट जारी की हैं.

डब्ल्यूजीसी यानी वर्ल्ड गोल्ड काउंसिल (WGC- World Gold Council) की ताजा रिपोर्ट के मुताबिक, साल 2019 की अक्टूबर-दिसंबर तिमाही में कुल सोने की डिमांड 1 फीसदी कम हुई है. इस मांग के घटने का सबसे बड़ा कारण भारत और चीन में आभूषणों की मांग में 80 फीसदी की गिरावट है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 30, 2020, 2:05 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. एशिया की दो सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था के लोग अब सोने के गहानों से दूरी बनाने लगे हैं. डब्ल्यूजीसी यानी वर्ल्ड गोल्ड काउंसिल (WGC- World Gold Council) की ताजा रिपोर्ट के मुताबिक, साल 2019 की अक्टूबर-दिसंबर तिमाही में कुल सोने की डिमांड 1 फीसदी कम हुई है. इस मांग के घटने का सबसे बड़ा कारण भारत और चीन में आभूषणों की मांग में 80 फीसदी की गिरावट है. वहीं, सोने की बढ़ती कीमतों और आर्थिक सुस्ती ने भी सोने की डिमांड पर निगेटिव असर किया है.

सोने से मोह हुआ भंग- रिपोर्ट में बताया गया हैं कि अक्टूबर-दिसंबर तिमाही के दौरान चीन में ज्वेलरी की डिमांड 10 फीसदी फीसदी गिरकर 159.7 टन रह गई हैं. वहीं, इस दौरान कुल डिमांड 7 फीसदी गिरकर 673.3 टन रही.

ये भी पढ़ें-SBI ने ग्राहकों को भेजा ये खास SMS! नहीं मानने वालों का खाता हो सकता है ब्लॉक

भारत में फिर गिरी सोने की डिमांड

(1) भारत में सोने से बनी ज्वेलरी की डिमांड 17 फीसदी गिरकर 149 टन रही. जबकि, कुल डिमांड में 9 फीसदी की गिरावट दर्ज हुई है. अक्टूबर-दिसंबर तिमाही में यह गिरकर 690.4 टन रह गई.

(2) वर्ल्ड गोल्ड काउंसिल की रिपोर्ट के मुताबिक इस साल सोने की मांग 9 फीसदी घटकर 690.4 टन रह गई, जो एक साल पहले तक 760.4 टन थी.

(3) अगर पैसों की बात करें, तो साल 2019 में 2,17,770 करोड़ रुपए का गोल्ड खरीदा गया, जो कि पिछले साल से 3 फीसदी ज्यादा है. इस साल धनतेरस पर गोल्ड खरीदारी फीकी रही.
आंकड़ों में देखिए सोने की डिमांड...


(4) साल 2019 की चौथी तिमाही में घरेलू स्तर पर सोने की बढ़ी कीमतों और कमजोर आर्थिक गतिविधियों के चलते गोल्ड की बिक्री कम रही. भारत में साल 2019 में गोल्ड डिमांड में 14 फीसदी गिरकर 646 टन रह गई, जो साल 2018 में 755 टन थी.

(5) भारत में सोने के इंपोर्ट में गिरावट की वजह घरेलू मार्केट में सुस्त डिमांड और रिसाइकिल्ड गोल्ड में इजाफा रहा. साल 2019 में कुल 119 टन रिसाइकिल्ड गोल्ड का इस्तेमाल किया गया.

(6) डब्ल्यूजीसी की रिपोर्ट में कहा गया कि सरकार को गोल्ड इंपोर्ट में कमी लानी चाहिए. लेकिन इसके लिए कस्टम ड्यूटी को 12.5 फीसदी करना सही नहीं है. सरकार को इसे 12.5 फीसदी से घटाकर 10 फीसदी करना चाहिए.

क्यों आई सोने की कीमतों में तेजी-डब्ल्यूजीसी यानी वर्ल्ड गोल्ड काउंसिल (WGC- World Gold Council) की नई रिपोर्ट में बताया गया हैं कि ग्लोबल आर्थिक सुस्ती की वजह से लोगों का रुझान सोने में सेफ इन्वेस्टमेंट के तौर पर बढ़ा है. इसीलिए सोने की कीमतों में तेजी आई है.



साल 2020 में कैसी रहेगी सोने की डिमांड

WCG इंडिया के मैनेजिंग डायरेक्टर सोमसुंदरम पीआर ने कहा कि सरकार पॉलिसी के स्तर पर कदम उठा रही है, जिससे सिस्टम में पारदर्शिता आएगी और अगले कुछ साल में इसके परिणाम दिखेंगे.

साथ ही, साल 2020 में भारत में सोने की डिमांड 700-800 टन के बीच रहने की उम्मीद है. आपको बता दें केंद्र सरकार ने 15 जनवरी 2020 से गोल्ड पर हॉलमार्क (क्वॉलिटी सर्टिफिकेशन) को अनिवार्य बना दिया है.

सोमसुंदरम पीआर का कहना हैं हॉलमार्किंग गोल्ड की विश्वसनियता को बढ़ाएगा और खरीदारी में इजाफा देखा जाएगा.

वर्ल्ड गोल्ड काउंसिल की रिपोर्ट में 9वें स्थान पर भारत मौजूद है. हमारे पास 618.2 टन सोने का रिजर्व है. इस सोने की विदेशी मुद्रा भंडार में हिस्सेदारी 6.9% है.
वर्ल्ड गोल्ड काउंसिल की रिपोर्ट में 9वें स्थान पर भारत मौजूद है. हमारे पास 618.2 टन सोने का रिजर्व है. इस सोने की विदेशी मुद्रा भंडार में हिस्सेदारी 6.9% है.


लगातार 10 साल से दुनियाभर के सेंट्रल बैंक कर रहे हैं सोने की खरीदारी

भारत समेत दुनियाभर के सेंट्रल बैंक सोने की खरीदारी कर रहे हैं. रिपोर्ट में बताया गया हैं कि लगातार दसवें साल सेंट्रल बैंकों ने खरीदारी की है. साल 2019 में दुनिया के 15 सेंट्रल बैंकों ने 650.30 टन सोना खरीदा हैं. वहीं, इससे पहले साल यानी 2018 में 656.2 टन सोना खरीदा था.

WCG की रिपोर्ट में कहा गया हैं कि साल 2010 से लेकर 2019 से दुनियाभर के सेंट्रल बैंकों ने करीब 5019 टन सोना खरीदा हैं यानी हर साल 500 टन सोने की खरीदारी की हैं. इससे पहले दशक में सालाना 443 टन सोने की खरीदारी हुई थी. अगर आसान शब्दों में कहें तो हर साल 57 टन सोना ज्यादा खरीदा गया हैं.

ये भी पढ़ें-सिर्फ 10 साल बन जाएं कंजूस, इस सरकारी स्कीम में बन जाएगा 23 लाख रु का फंड

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Mumbai से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 30, 2020, 1:09 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर