पेट्रोल-डीजल पर दुनिया में भारतीय चुका रहे हैं सबसे ज्यादा Tax, 70% पैसा जाता है सरकारों की जेब में

पेट्रोल-डीजल पर दुनिया में भारतीय चुका रहे हैं सबसे ज्यादा Tax, 70% पैसा जाता है सरकारों की जेब में
पेट्रोल-डीजल पर दुनिया में भारतीय चुका रहे हैं सबसे ज्यादा Tax

पेट्रोल पर 10 रुपये और डीजल पर प्रति लीटर 13 रुपये एक्साइज ड्यूटी बढ़ाई गई है. बता दें कि इसके साथ ही अब पंप मिलने वाले पेट्रोल-डीजल पर टैक्स बढ़कर 69 फीसदी हो गया है, जो दुनिया में सबसे ज्यादा है. भारत के अलावा सिर्फ फ्रांस, जर्मनी, इटली और ब्रिटेन में ही ईंधन पर टैक्स 60 फीसदी से ज्यादा है.

  • Share this:
नई दिल्ली. सरकार ने पेट्रोल और डीज़ल पर एक्साइज ड्यूटी (Government of India Hiked excise duty on Petrol) बढ़ा दी है. पेट्रोल पर 10 रुपये और डीजल पर प्रति लीटर 13 रुपये एक्साइज ड्यूटी बढ़ाई गई है. बता दें कि इसके साथ ही अब पंप मिलने वाले पेट्रोल-डीजल पर टैक्स बढ़कर 69 फीसदी हो गया है, जो दुनिया में सबसे ज्यादा है. भारत के अलावा सिर्फ फ्रांस, जर्मनी, इटली और ब्रिटेन में ही ईंधन पर टैक्स 60 फीसदी से ज्यादा है. मंगलवार रात एक अधिसूचना जारी कर बताया गया कि डीजल एवं पेट्रोल दोनों पर रोड एवं इन्फ्रा सेस बढ़ाकर 8 रुपये प्रति लीटर कर दिया गया है. इसे अलावा डीजल पर 5 रुपये लीटर का अतिरिक्त एक्साइज और पेट्रोल पर 2 रुपये लीटर का अतिरिक्त एक्साइज टैक्स लगाया गया है. यह भारत में ईंधन पर एक दिन में टैक्स की हुई सबसे बड़ी बढ़त है.

गौरतलब है कि दिल्ली सरकार ने भी डीजल पर वैट 7.1 रुपये लीटर और पेट्रोल पर 1.6 रुपये लीटर बढ़ा दियाहै. यानी अब दिल्ली में जो पेट्रोल 71.26 रुपये लीटर बिक रहा है, उस पर जनता 49.42 रुपये का टैक्स और 69.39 रुपये लीटर बिकने वाले डीजल पर 48.09 रुपये का टैक्स दे रही है.

ये भी पढ़ें:- SBI के इस अकाउंट में मिलेगा FD जितना ब्याज, जानिए कैसे खोला जा सकता है खाता



और देशों में इतना लगता है टैक्स



भारत में इतना टैक्स दुनिया के किसी भी देश में नहीं है. फ्रांस एवं जर्मनी में ईंधन की खुदरा कीमत पर टैक्स 63 फीसदी, इटली में 64 फीसदी, ब्रिटेन में 62 फीसदी, स्पेन में 53 फीसदी, जापान में 47 फीसदी, कनाडा में 33 फीसदी और अमेरिका में 19 फीसदी लगता है. पिछले साल तक भारत में भी डीजल और पेट्रोल पर टैक्स 50 फीसदी तक था.

कच्चे तेल की कीमतों में भारी गिरावट के बावजूद पेट्रोल-डीजल में राहत नहीं 
हालांकि सरकार ने कहा है कि एक्साइड ड्यूटी में बढ़त का ग्राहकों पर असर नहीं होगा, क्योंकि इस साल कच्चे तेल की कीमतें काफी कम हैं और इसलिए रेट नहीं बढ़ाए जाएंगे. कच्चे तेल की कीमतों में भारी गिरावट के बावजूद पेट्रोल एवं डीजल की खुदरा कीमतों में कोई कमी नहीं आ रही. पिछले पूरे महीने में दिल्ली में पेट्रोल की कीमत 69.87 रुपये और डीजल की कीमत 62.58 रुपये लीटर पर टिकी रही.

इसके पहले मार्च महीने में भी टैक्स बढ़ा था 
असल में केंद्र और राज्य दोनों तरह की सरकारें अपने खजाने की भरपाई के लिए तेल पर टैक्स लगाने का सहारा ले रही हैं. केंद्र सरकार ने इसके पहले मार्च महीने में ही पेट्रोल-डीजल पर 3 रुपये लीटर तक टैक्स बढ़ा दिया था, एक बार फिर इसे बढ़ाया गया है और ताकि कच्चे तेल की घटी कीमत का फायदा उठाया जा सके.

ये भी पढ़ें:- लॉकडाउन के बीच अगर आप जाना चाहते हैं अपने घर, तो करने होंगे आसान से ये तीन काम
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading