PNB में दो सरकारी बैंकों के मर्जर के बाद अब क्‍या बंद हो जाएंगे करोड़ों ग्राहकों के ATM कार्ड, जानिए जवाब

PNB में दो सरकारी बैंकों के मर्जर के बाद अब क्‍या बंद हो जाएंगे करोड़ों ग्राहकों के ATM कार्ड, जानिए जवाब
लॉकडाउन के बीच पंजाब नेशनल बैंक में दो सरकारी बैंकों का विलय 1 अप्रैल 2020 से प्रभावी हो गया है.

सार्वजनिक क्षेत्र के पंजाब नेशनल बैंक (PNB) में यूनाइटेड बैंक ऑफ इंडिया (UBI) और ओरिएंटल बैंक ऑफ कॉमर्स (OBC) के विलय (Merger) के बाद पीएनबी के कुल 18,000 एटीएम, 11000 शाखाएं हो गई हैं.

  • Share this:
नई दिल्‍ली. कोरोना वायरस के कारण लगाए गए लॉकडाउन के बीच सार्वजनिक क्षेत्र के पंजाब नेशनल बैंक (PNB) का ओरिएंटल बैंक ऑफ कॉमर्स (OBC) और यूनाइटेड बैंक ऑफ इंडिया (UBI) के साथ विलय (Merger) 1 अप्रैल 2020 से लागू हो गया है. इसके साथ ही पीएनबी देश का दूसरा सबसे बड़ा सरकारी बैंक बन गया है. इसके बाद पीएनबी के ग्राहकों के सामने अपने अकाउंट, एटीएम कार्ड, बैंक के एटीएम को लेकर कई तरह के सवाल खड़े हो गए. अकाउंट और एटीएम कार्ड को लेकर बैंक पहले ही अपने ग्राहकों को जानकारी दे चुका है. वहीं, आज बैंक ने ट्वीट कर अपने एटीएम नेटवर्क के बारे में भी जानकारी दी है.

फिलहाल बंद नहीं होंगे बैंक के एटीएम
देश के दूसरे सबसे बड़े सरकारी बैंक (Public Sector Bank) पीएनबी ने ट्वीट कर बताया है कि उसके एटीएम (ATM) फिलहाल बंद नहीं किए जाएंगे. वहीं, स्‍पष्‍ट किया है कि अब हर ग्राहक बिना कोई अतिरिक्‍त शुल्‍क का भुगतान किए 13,000 से ज्‍यादा एटीएम के नेटवर्क का बिना किसी झंझट या रुकावट के इस्‍तेमाल कर सकते हैं. साथ ही बताया कि अगर किसी ग्राहक को अपना मोबाइल नंबर या ई-मेल आईडी अपडेट या रजिस्‍टर करना हो तो अपने मूल बैंक की किसी भी शाखा में जाकर करा सकते हैं.

अब पीएनबी के हो गए 18 हजार एटीएम
पीएनबी को पहले बड़ी परियोजनाओं में निवेश के लिए 10-12 बैंकों से कर्ज लेना पड़ता था. विलय के बाद अब पीएनबी एक या दो बैंकों के साथ मिलकर बड़े प्रोजेक्ट की फंडिंग कर सकता है. इसके अलावा ओबीसी और यूबीआई के विस्तार वाले क्षेत्र में बेहतर तरीके से बैंकिंग सेवाएं (Banking Services) दे सकता है. विलय के बाद पीएनबी के कुल 18,000 एटीएम, 11000 शाखाएं हो गई हैं, जिनका करोबार 18 लाख करोड़ रुपये का होगा.





ये भी पढ़ें-इनकम टैक्स भरते वक्त अब बिजली के बिल की भी जानकारी देना जरूरी, जानिए सबकुछ

अब तेजी से होगी बकाया कर्ज की वसूली
विलय लागू होने से पहले ही तीनों बैंकों के नॉन-परफॉर्मिंग एसेट्स (NPA) को लेकर सारे एडजस्‍टमेंट 31 मार्च, 2020 को खत्म तिमाही में कर दिए गए हैं. पुराने एनपीए का बोझ नए कारोबार पर नहीं होगा. वहीं, पुराने खाताधारकों के साथ बकाया कर्जे की वसूली की प्रक्रिया अब ज्यादा तेज व प्रभावी होगी. बैंक का मानना है कि ओबीसी और यूबीआई के साथ विलय के बाद पीएनबी के सालाना कारोबार में 10-12 फीसदी की लगातार वृद्धि होगी.

ये भी पढ़ें- अच्‍छी खबर! अब इस कंपनी की कोरोना वैक्‍सीन का शुरू हो रहा है ह्यूमन ट्रायल

ये भी पढ़ें- SBI ग्राहकों के लिए बड़ी खबर! बैंक में जमा आपकी सिर्फ इतनी राशि ही है सुरक्षित
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज