कारोबार के लिए Jewar Airport के पास जमीन चाहिए तो 25 मार्च तक है मौका, जानें क्या करना होगा?

जेवर एयरपोर्ट के पास अब घर-दुकान के लिए सरकारी जमीन भी हो जाएगी महंगी

जेवर एयरपोर्ट के पास अब घर-दुकान के लिए सरकारी जमीन भी हो जाएगी महंगी

जेवर इंटरनेशनल एयरपोर्ट (Jewar International Airport) का काम शुरु हो चुका है. कई और दूसरे बड़ी योजनाएं भी एयरपोर्ट के आसपास यमुना एक्सप्रेस-वे (Yamuna Expressway) के किनारे शुरु हो रही हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 22, 2021, 12:23 PM IST
  • Share this:
 नोएडा. जेवर इंटरनेशनल एयरपोर्ट (Jewar International Airport) का काम शुरु हो चुका है. कई और दूसरे बड़ी योजनाएं भी एयरपोर्ट के आसपास यमुना एक्सप्रेस-वे (Yamuna Expressway) के किनारे शुरु हो रही हैं. इसी कड़ी में यमुना अथॉरिटी (Yamuna Authority) एयरपोर्ट के पास ही फैक्ट्री बनाने का मौका भी दे रही है. लेकिन अब मौके का फायदा उठाने के लिए आवेदन करने को सिर्फ 4 दिन ही बचे हैं. यह स्कीम बीते 20 फरवरी को शुरु हुई थी. इस स्कीम के तहत अथॉरिटी की ओर से फैक्ट्री के लिए कई तरह के साइज में प्लाट बेचे जाएंगे. लेकिन फैक्ट्रियों को बेचे जाने वाले प्लाट के लिए एक शर्त रखी गई है.

फैक्ट्री के लिए इस साइज में मिलेगा प्लाट

यमुना अथॉरिटी के अधिकारियों की मानें तो फरवरी को लांच हुई इस योजना में एक हज़ार प्लाट होंगे. कमर्शियल के लिए इस योजना में 300 वर्ग मीटर, 450, 1000, 1800, 1952, 8300 वर्ग मीटर के प्लाट बेचे जाएंगे. खास बात यह है कि 20 फरवरी को लांच हुई इस योजना में ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों तरह से आप आवेदन कर सकते हैं. आवेदन की आखिरी तारीख 25 मार्च है.

टॉय-हैंडीक्राफ्ट और फर्नीचर सिटी योजना पर चल रहा है काम
जेवर एयरपोर्ट के पास यमुना अथॉरिटी टॉय और हैंडीक्राफ्ट योजना पर भी काम कर रही है. इस योजना में कुल प्लाट की संख्या 71 होगी. सभी 71 प्लाट में से टॉय सिटी के लिए 24, हैंडीक्राफ्ट और फर्नीचर यूनिट के लिए 47 प्लाट होंगे. लेकिन दोनों ही योजनाओं के लिए एक शर्त यह भी रखी गई है कि कमर्शियल प्लाट सिर्फ वो ही लोग खरीद सकेंगे जिन्होंने 2019-20 में जीएसटी रिर्टन दाखिल किया हो.

 ये भी पढ़ें-  आम्रपाली के 40 हजार खरीदारों को करना होगा यह काम, फिर मिलेगा फ्लैट

स्टार्टअप को मौका और बढ़ावा देने के लिए प्लाट आवंटन में 20 फीसद का आरक्षण दिया जाएगा. लेकिन इसके लिए डिपार्टमेंट फॉर प्रमोशन ऑफ इंडस्ट्री एंड इंटरनल ट्रेड (डीपीआईआईटी) में रजिस्ट्रेशन होना जरूरी होगा.



फैक्ट्री के पास ही घर भी दे रही है नोएडा अथॉरिटी

यमुना अथॉरिटी के अधिकारियों की मानें तो इस योजना में कुल एक हज़ार प्लाट है. इसमे से आवासीय योजना के लिए बेचे जाने वाले प्लाट का साइज 60 वर्ग मीटर, 90, 120, 200, 300, 500, 1000, 2000 और 4000 वर्ग मीटर होगा. 200 प्लॉट स्टार्टअप को मौका देने के लिए रिजर्व रखे गए हैं. एक हजार प्लॉट में से 729 प्लॉट सिर्फ घर-मकान बनाने के लिए रखे गए हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज