Yes Bank Crisis- वित्त मंत्री ने कहा- यस बैंक संकट के लिए जिम्मेदार व्यक्ति की तलाश होगी

SBI अब Yes Bank में 49 फीसदी हिस्सा खरीदेगा.

SBI अब Yes Bank में 49 फीसदी हिस्सा खरीदेगा.

यस बैंक (Yes Bank) के संकट पर प्रेस कॉन्फ्रेंस कर वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि किसी भी जमाकर्ता का पैसा नहीं डूबेगा. बैंक पर सरकार और RBI दोनों मिलकर पूरी नजर रखे है.

  • Share this:

नई दिल्ली. यस बैंक (Yes Bank) के संकट पर प्रेस कॉन्फ्रेंस कर वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (Finance Minister Nirmala Sitharaman) ने कहा कि किसी भी जमाकर्ता का पैसा नहीं डूबेगा. बैंक पर सरकार और RBI दोनों मिलकर पूरी नजर रखे है. इसको पटरी पर लाने के लिए नया प्लान RBI ने अपनी वेबसाइट पर अपलोड कर दिया है. वित्त मंत्री ने बताया की Yes Bank की रीस्ट्रक्चरिंग से जुड़ा पूरा प्लान तैयार है. रीस्ट्रक्चरिंग के बाद नया बोर्ड बैंक को टेकओवर करेगा. SBI अब Yes Bank में 49 फीसदी हिस्सा खरीदेगा. उन्होंने कहा यस बैंक संकट के लिए जिम्मेदार व्यक्ति की तलाश होगी.

वित्त मंत्री ने बताया कि RBI साल 2017 से यस बैंक पर नजर रख रहा है. यस बैंक के कर्मचारियों की सैलरी 1 साल तक सुरक्षित है. उन्होंने कहा-यस बैंक में नई इक्विटी के लिए पूरी कोशिश की थी.

विशेष परिस्थितियों में ज्यादा रकम निकालने का ऑप्शन- वित्त मंत्री (Finance Minister) ने कहा कि अगर किसी को एमरजेंसी है तो वो नियमों के तहत ज्यादा रकम भी निकाल सकते है. नोटिफिकेशन में दी गई जानकारी के मुताबिक, कुछ विशेष परिस्थितियों में अकाउंटहोल्डर्स अपने खाते से 50,000 रुपये से अधिक रकम विड्रॉ कर सकते हैं. आइए जानते हैं कि किन परिस्थितियों में 50 हजार रुपये से अधिक की निकासी की जा सकती है.

ये भी पढ़ें-क्या है Yes Bank के संकट की पूरी कहानी?
गुरुवार की रात को Yes Bank में हुआ क्या -RBI ने 5 मार्च को नकदी संकट से जूझ रहे निजी क्षेत्र के यस बैंक के निदेशक मंडल को भंग करते हुए उस पर प्रशासक नियुक्त कर दिया है. इसके साथ ही बैंक के जमाकर्ताओं पर पैसे निकालने की लिमिट भी तय कर दी.

RBI ने अगले आदेश तक बैंक के ग्राहकों के लिए निकासी की सीमा 50,000 रुपये तय की है. फिलहाल यह रोक 5 मार्च से 3 अप्रैल तक लगी रहेगी. बैंक का नियंत्रण SBI के नेतृत्व में वित्तीय संस्थानों के एक समूह के हाथ में देने की तैयारी की गई है.

yes bank rbi news
मुंबई में Yes Bank की शाखा के बाहर लाइन में लगे लोग



आरबीआई ने देर शाम जारी बयान में कहा कि यस बैंक के निदेशक मंडल को तत्काल प्रभाव से भंग कर दिया गया है और भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) के पूर्व मुख्य वित्त अधिकारी (सीएफओ) प्रशांत कुमार को यस बैंक का प्रशासक नियुक्त किया गया है.

ये भी पढ़ें-यहां जानिए अपने Yes Bank के खाते से जुड़े सभी सवालों के जवाब

वित्त मंत्री निर्मला सीता रमण यस बैंक के मामले में शुक्रवार शाम प्रेस कांफ्रेंस कर रही हैं. इस प्रेस कांफ्रेंस में उन्होंने कहा है कि यस बैंक का मामला अचानक नहीं प्रकाश में नहीं आया है, बल्कि हम लंबे समय से इसे देख रहे हैं. उन्होंने कहा कि आरबीआई साल 2017 से इस मामले पर बारीकी से नजर रखे हुए है. उन्होंने कहा कि मई 2019 से वे खुद सीधे तौर पर मामले से जुड़े कार्य देख रही हैं. उन्होंने कहा कि सरकार लगातार मामले पर नजर बनाए हुए है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज