लाइव टीवी

यस बैंक को बचाने के लिए ये भारतीय आया आगे, देगा 8600 करोड़ रुपये

News18Hindi
Updated: November 30, 2019, 4:48 PM IST
यस बैंक को बचाने के लिए ये भारतीय आया आगे, देगा 8600 करोड़ रुपये
यस बैंक को विदेश व घरेलू निवेशकों से 2 अरब डॉलर मिलेगा.

यस बैंक ने शुक्रवार को नियामकीय फाइलिंग (Exchange Filing) में कहा है​ कि उसे 8 विदेशी और घरेलू निवेशकों से 2 अरब डॉलर की पूंजी मिल सकती है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 30, 2019, 4:48 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. यस बैंक (Yes Bank Share) ने शुक्रवार को जानकारी दी कि 8 विदेशी व घरेलू निवेशकों ने बैंक में 2 अरब डॉलर निवेश करने का फैसला लिया है. यस बैंक (Yes Bank Share Price) को 2 अरब डॉलर की इस रकम में सबसे अधिक भागीदारी SPGP होल्डिंग्स और इ​रविन सिंह ब्रेच (Erwin Singh Braich) की है. यह रकम करीब 1.2 अरब डॉलर (करीब 8,610 करोड़ रुपये) है. वहीं, Citax ग्रुप ने 500 मिलियन डॉलर का निवेश करने का फैसला लिया है.

भारतीय मूल के कानाडाई निवेशक करेंगे निवेश
इसके अलावा यस बैंक में निवेश करने की रुचि दिखाने वाले अन्य निवेशकों में GMR ग्रुप, रेखा झुनझुनवाला और आदित्य बिड़ला फैमिली ऑफिस भी शामिल है. इन सभी निवेशकों में सबसे अधिक रकम निवेश करने वाली कनाडाई भारतीय इरविन सिंह ब्रेच की कंपनी हांगकांग स्थित कंपनी SPGP होल्डिंग्स है. इस कंपनी ने यस बैंक में करीब 1.2 अरब डॉलर निवेश करने का फैसला लिया है. आइए जानते हैं कि आखिर कौन है ये इरविन सिंह ब्रेच.

ये भी पढ़ें: 2000 रुपये के नोटों की जमाखोरी रोकने के लिए सरकार ने उठाए ये 6 सख्त कदम!


कौन हैं इरविन​ सिंह ब्रेच
इरविन सिंह ब्रेच भारतीय मूल के कनाडाई उद्योगपति हैं. इरविन ब्रेच ग्रुप ऑफ कंपनीज एंड ट्रस्ट के संस्थापक हैं. इरविन सिंह के पिता हरमन सिंह ब्रेच साल 1927 में भारत छोड़कर कनाडा चले गए थे. उनकी मौत के बाद इरविन सिंह ने ब्रिटिश कोलम्बिया यूनिवर्सिटी की पढ़ाई छोड़कर अपने ​पारिवारिक बिजनेस को संभालना शुरू कर दिया था. 58 वर्षीय इरविन सिंह ने खुद को दिवालिया करार दिए जाने पर कनाडा सरकार से 14 साल तक एक केस भी लड़ा था. बाद में उन्हें इस केस में जीत मिली.
Loading...

इस केस के दौरान ब्रेच कनाडाई सरकार द्वारा अंतर्राष्ट्रीय दौरे करने पर भी रोक लगा दिया गया था. ब्रेच कनाडा के सबसे बड़ी अमीर शख्सीयतों में से एक हैं. साथ ही वो दुनियाभर के अमीर लोगों में भी शुमार हैं.

ये भी पढ़ें: यहां Free में मिल रहा फास्टैग, सरकार ने दी है 15 की मोहलत!

शुक्रवार को नियामकीय फाइलिंग में यस बैंक ने दी जानकारी
गौरतलब है कि शुक्रवार को एक नियामकीय फाइलिंग में यस बैंक ने कहा, 'निवेशकों के साथ बातचीत का दौर जारी है और बहुत जल्द ही इस बारे में कोई अंतिम निर्णय होगा. तब तक के लिए बाइंडिंग टर्म शीट की अंतिम तारीख को 31 दिसंबर तक बढ़ा दिया गया है.' नवंबर माह के शुरुआत में ही यस बैंक के CEO रवनीत सिंह गिल द्वारा मीडिया को दिए गए बयान में कहा है कि बैंक को 8 निवेशकों की तरफ से 3 अरब डॉलर निवेश की पेशकश की गई है.

25 सितंबर को यस बैंक ने कैपिटल जुटाने के प्लान के बारे में जानकारी दिया था. बैंक ने इस दौरान यह भी कहा था कि कई बड़े निवेशकों ने यस बैंक में निवेश करेन की इच्छा जाहिर की है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 30, 2019, 4:45 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...