मोदी सरकार की दे रही है मेडिकल स्टोर्स खोलने का मौका, मोटी कमाई के लिए यहां करें आवेदन

मोदी सरकार का बेटियों को तोहफा

अगर आप एक्सट्रा इनकम (Own Business) चाहते हैं तो आपके लिए अच्छी खबर है. मोदी सरकार आपके लिए कमाई का शानदार मौका लेकर आ रही है.

  • Share this:
    नई दिल्ली. अगर आप एक्सट्रा इनकम (Own Business) चाहते हैं तो आपके लिए अच्छी खबर है. दरअसल, मोदी सरकार मार्च 2024 तक प्रधानमंत्री भारतीय जनऔषधि केंद्रों (PMBJK) की संख्या बढ़ाकर 10,000 करने का लक्ष्य रखा है. 11 जून, 2021 तक जनऔषधि केंद्रों (Jan Aushadhi Kendra) की संख्या बढ़कर 7,836 हो गई है, यानि आपके पास कमाई के मौके हैं. इस कारोबार की खास बात यह है कि इसे खोलने में सरकार आपकी पूरी मदद करेगी, साथ ही अच्‍छी कमाई होगी.

    सरकार कारोबार में दे रही छूट
    बता दें कि तालाबंदी के दौरान आम लोगों को भी सस्ते दामों पर आवश्यक दवाएं और अन्य चिकित्सकीय सामान उपलब्ध हो जा रहे हैं. दवाओं के कारोबार को सरकार छूट दे रही है. ऐसे में कोरोनाकाल में भी Jan Aushadhi Kendra चलाने वालों के आय पर किसी तरह का असर नहीं हुआ है. ऐसे में आप सरकार की मदद से जनऔषधि केंद्र खोलकर कमाई कर सकते हैं.

    ये भी पढ़ें- Gold Price Today: खुशखबरी! 8,000 रुपये सस्ता हुआ सोना! कीमतों में आई भारी गिरावट, फटाफट चेक करें लेटेस्ट रेट

    तो आइए जानते हैं क्या है  इसके बारे में सबकुछ....

    जानें क्‍या है जन औषधि केंद्र?
    Jan Aushadhi Kendra पर दवाएं 90 फीसदी तक सस्ती मिलती हैं, क्योंकि ये जेनेरिक दवाएं हैं. केंद्रीय रसायन और उर्वरक राज्य मंत्री मनसुख मंडाविया ने कहा कि जन औषधि केंद्रों ने सस्ती दर पर गुणवत्तापूर्ण जेनेरिक दवा उपलब्ध कराने के प्रधानमंत्री के सपने को साकार किया है. इन केंद्रों से स्थानीय लोगों को कम कीमतों पर गुणवत्तापूर्ण दवाएं मिल रही हैं.

    जानें कौन खोल सकता है मेडिकल स्टोर?
    अगर आप इनडिविजुअल दवा दुकान खोलना चाह रहे हैं तो आपके पास डी.फार्मा या बी.फार्मा की डिग्री होनी चाहिए. आवेदन करते समय इस डिग्री को लेकर उसे प्रूफ सबमिट करना होगा. अगर कोई आर्गनाइजेशन या NGO जनऔषधि केंद्र खोलना चाहता है तो उसके लिए भी जरूरी है कि वह किसी डी फार्मा या बी फार्मा डिग्री होल्डर को रोजगार दे रखा हो. अस्पतालों में भी कोई योग्य NGOs/चैरिटेबल आर्गनाइजेशन जनऔषधि केंद्र खोल सकता है. इसे खोलने के लिए आपके पास 120 वर्ग फुट की दुकान होनी चाहिए.

    ये भी पढ़ें- निवेशकों की बढ़ी परेशानी! NSDL के बयान के बाद भी Adani ग्रुप के शेयरों में गिरावट जारी, जानें आज का शेयर भाव

    जानिए कैसे खोले Jan Aushadhi kendra?
    Jan Aushadhi kendra खोलने के लिए 3 कैटेगरी हैं.
    पहली कैटेगरी : कोई भी व्यक्ति, बेरोजगार फार्मासिस्ट, डॉक्टर या रजिस्टर्ड मेडिकल प्रैक्टिशनर स्टोर शुरू कर सकता है.
    दूसरी कैटेगरी : ट्रस्ट, एनजीओ, प्राइवेट हॉस्पिटल, सोसायटी सेल्फ हेल्प ग्रुप.
    तीसरी कैटेगरी : राज्य सरकारों की तरफ से नॉमिनेटेड एजेंसी.

    जानें कैसे होगी कमाई?
    जनऔघधि केंद्र खोलने पर दवा की बिक्री पर 20 फीसदी मार्जिन दुकान चलाने वालों को दिया जाएगा. इसके अलावा नॉर्मल और स्पेशल इंसेंटिव का भी प्रावधान है. वहीं, नॉर्मल इंसेंटिव के रूप में सरकार दवा की दुकरान खोलने में आने वाले खर्च को वापस कर देती है. इसमें दुकान में फर्नीचर पर आने वाले 1.5 लाख रुपये तक का खर्च और कंप्यूटर व फ्रिज आदि रखने में आने वाला 50 हजार रुपये तक का खर्च शामिल है. इसे मंथली बेसिस पर अधिकतम 15 हजार रुपये तक तक तब वापस किया जाता है, जबतक कि 2 लाख की रकम पूरी न हो जाए. यह इंसेंटिव मंथली परचेज का 15 फीसदी या 15000 में जो अधिक हो, दिया जाता है. इतना ही नहीं महिला कारोबारी, दिव्यांग, SC, ST को जनऔषधि केंद्र खोलने पर स्पेशल इंसेंटिव दिया जाता है. या नॉर्थ ईस्ट या नक्सल प्रभावित इलाकों में सेंटर खोलने के लिए.

    ये भी पढ़ें- PNB के ग्राहक ध्यान दें! नेट बैंकिंग में आई गड़बड़ी, पैसे ट्रांसफर करने से पहले जानें बैंक ने क्या कहा?

    जानें कहां मिलेगा फार्म?
    जन औषधि केन्द्र के लिए रिटेल ड्रग सेल्स का लाइसेंस जन औषधि केंद्र के नाम से लेना होता है. https://janaushadhi.gov.in/ से फार्म डाउनलोड कर सकते हैं. फार्म डाउनलोड करने के बाद आपको आवेदन ब्यूरो ऑफ फॉर्मा पब्लिक सेक्टर अंडरटेकिंग ऑफ इंडिया के जनरल मैनेजर (A&F) के नाम से भेजना होगा.

    ये है एड्रेस-
    Bureau of Pharma Public Sector Undertakings of India (BPPI),
    8th Floor Videocon Tower,
    Block E1 Jhandewalan Extension,
    New Delhi –110055
    Tel – 011-49431800

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.