सरकार दे रही है सस्ते में सोना खरीदने का शानदार मौका, मिलेंगे ये 3 फायदे

सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड में निवेश का मौका

सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड में निवेश का मौका

7 से 11 अक्टूबर के दौरान आप सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड (Sovereign Gold Bond) में निवेश कर सकते हैं. वित्त मंत्रालय की तरफ से जारी बयान के मुताबिक, इस बार ऑनलाइन माध्यम से निवेश करने पर प्रति ग्राम 50 रुपये की छूट भी मिलेगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 6, 2019, 6:15 AM IST
  • Share this:

नई दिल्ली. इस त्योहारी सीजन (Festive Season) अगर आप भी सोने में निवेश (Investment in Gold) करने का प्लान बना रहे हैं तो आपके पास शानदार मौका है. सरकार आगामी 7 अक्टूबर से सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड 2019-20 (Sovereign Gold Bond Scheme) के पांचवे सीरीज में निवेश का मौका दे रही है. आप सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड (SGB) में 7 अक्टूबर से लेकर 11 अक्टूबर तक निवेश कर सकते हैं. इसमें आप 3,788 रुपये प्रति ग्राम की दर से निवेश कर सकते हैं. अगर आप इस गोल्ड बॉन्ड में ऑनलाइन माध्यम से निवेश करते हैं तो इसपर आपको 50 रुपये प्रति ग्राम की छूट भी मिलेगी. वित्त मंत्रालय (Ministry of Finance) ने इसके बारे में जानकारी दी है. ऑनलाइन माध्यम से गोल्ड बॉन्ड (Online Investment in Gold Bond) में निवेश करने पर निवेशकों के लिए यह दर 3,738 रुपये प्रति ग्राम ही होगी. आइए जानते हैं इसके बारे में.

10 ग्राम पर होगी 1020 रुपये की बचत

पिछले माह भी सरकार ने सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड सीरीज जारी किया गया था. पिछली बार के मुकाबले इस बार गोल्ड बॉन्ड में आप 100 रुपये की कम दर पर निवेश कर सकते हैं. सितंबर माह में जारी गोल्ड बॉन्ड में निवेश के लिए सरकार ने 3,890 रुपये प्र​ति ग्राम भाव तय किया था. ऐसे में यदि आप इस बार 10 ग्राम सोने में निवेश करतें हैं तो आप 1020 रुपये की बचत कर सकेंगे. बता दें कि ऊपरी स्तरों से सोने के दाम में करीब 2,000 रुपये की कमी आ चुकी है. यही वजह है कि सरकार ने इस बार सरकारी गोल्ड बॉन्ड के मूल्य में कमी की है.

सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड में निवेश का मौका

ये भी पढ़ें: अक्टूबर में अब 10 दिन बंद रहेंगे बैंक, RBI की ओर से जारी छुट्टियों की लिस्ट यहां करें चेक



नवंबर 2015 में सरकार ने सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड लॉन्च किया था

सरकार ने सबसे पहले सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड को नवंबर 2015 में लॉन्च किया था. इस गोल्ड बॉन्ड को जारी करने के पीछे सरकार का मकसद था कि बाजार में फिजिकल गोल्ड की मांग कम की जा सके.

क्या है सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड की खास बातें

>> सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड की सबसे खास बात यह है कि सोने की कीमतों में बढ़ोतरी होने पर आपको सीधे तौर पर फायदा मिलता है. इतना ही नहीं, इसपर सालाना 2.5 फीसदी का ब्याज भी मिलता है. इस ब्याज का भगुतान 6 महीने में होता है.

>> आप भी सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड में न्यूनतम 1 ग्राम का निवेश कर सकते हैं. वहीं, इसमें प्रतिवर्ष कोई एक व्यक्ति 500 ग्राम सोने में निवेश कर सकता है. हिंदू अविभाजित परिवार (HUF) के लिए निवेश की सीमा 4 किलोग्राम है. वहीं, ट्रस्ट के लिए निवेश की सीमा 20 किलोग्राम तय की गई है. इस बॉन्ड में भारतीय ना​गरिकों के अलावा ट्रस्ट, यूनिवसिर्टटी और चैरिटेबल संस्थान निवेश कर सकते हैं.

ये भी पढ़ें: आप भी हैं इस बैंक के ग्राहक तो हो जाएं खुश, जरूरत की हर सामान पर मिल रहा कैशबैक और डिस्काउंट

सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड में निवेश का मौका

>> एक बार आपने इसमें निवेश कर दिया तो इसे आप बाजार में मौजूदा कीमत पर भुना सकते हैं. इस बॉन्ड को बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (BSE) और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (NSE) पर लिस्ट होना जरूरी है. इससे शेयर बाजार (Share Market) में लिक्विडिटी सुनिश्चित होती है.

>> आपको बता दें कि अगर आप सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड को मैच्योरिटी तक होल्ड करते हैं तो इसपर आपको कोई कैपिटल गेंस टैक्स नहीं देना होगा. हालांकि, मैच्योरिटी की तारीख से पहले अगर आप एक्सचेंज के जरिए इसे बेचते हैं तो आपको इसपर टैक्स देना होगा. अगर आप सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड को खरीदने के 3 साल के अंदर बेचते हैं तो इसे शॉर्ट टर्म गेन माना जाता है. इस तरह की गेन को निवेशक की इनकम के तौर पर माना जाता है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज