लाइव टीवी

होम लोन की EMI सस्ती करने का ये है सबसे आसान तरीका!

News18Hindi
Updated: November 25, 2019, 5:59 AM IST
होम लोन की EMI सस्ती करने का ये है सबसे आसान तरीका!
होम लोन ट्रांसफर कर ब्याज की रकम में राहत पाई जा सकती है.

होम लोन (Home Loan) के बोझ को कम करने के लिए आप अपने होम लोन अकाउंट (Home Loan Account) को अन्य बैंक में ट्रांसफर करा सकते हैं. इसके लिए नए बैंक में आपको प्रो​सेसिंग फीस (Processing Fees) से लेकर ब्याज दरों (Interest Rate) का भी ध्यान रखना होगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 25, 2019, 5:59 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. होम लोन (Home Loan) आमतौर पर उन लोन की श्रेणी में आता है जो लंबी अवधि (Long Term Loans) के लिए होता है. सामान्य तौर पर होम लोन (Home Loan) की अवधि 15 से 30 साल तक के लिए होती है. ऐसे में आपके लिए जरूरी है कि आप पर होम लोन का बोझ कम हो. होम लोन की अवधि (Home Loan Tenure) के बीच आप बैंक बदलकर ब्याज के बोझ को कम कर सकते हैं. इससे आप अपने होम लोन के लिए बेहतर ब्याज दर चुन सकते हैं. खास बात है कि आप प्रोसेसिंग फीस (Processing Fees of Home Loan) ये प्रीपेमेंट पेनाल्टी भी नहीं देनी होगा.

क्या है महत्वपूर्ण बातें- होम लोन को एक बैंक से दूसरे बैंक में ट्रांसफर करने पर बेहतर ब्याज दर का लाभ मिलता है. लेकिन, होम लोन ट्रांसफर (Home Loan Transfer) करते वक्त आपको कई तरह की बातों को ध्यान में रखना चाहिए.

इसमें सबसे महत्वपूर्ण बात है कि अगर आप होम लोन की EMI नियमित तौर पर नहीं चुका रहे हैं तो आप होम लोन ट्रांसफर नहीं कर सकते हैं. आइए जानते हैं कि होम लोन ट्रांसफर करते वक्त आपको किन बातों को ध्यान में रखना चाहिए.

ये भी पढ़ें: दो साल में कुमार मंगलम बिड़ला के डूबे 21 हजार करोड़ रुपये, जानिए कैसे?


क्या है होम लोन का ट्रांसफर प्रोसेस- होम लोन ट्रांसफर करने का पहला स्टेप मौजूदा बैंक को इसके बारे में जानकारी देना होता है. इसके लिए मौजूदा बैंक को एक एप्लीकेशन (Home Loan Transfer Application) देना होता है, जिसमें लोन अकाउंट ट्रांसफर करने की रिक्वेस्ट होती है. इसी रिक्वेस्ट के आधार पर बैंक की तरफ से आपको एनओसी दिया जाएगा.

इस लेटर को नए बैंक को देकर लोन के बाकी रकम को ट्रांसफर करना होगा. लोन ट्रांसफर किए जाने के बाद मौजूदा बैंक आपके प्रॉपर्टी के पेपर भी नए बैंक को ट्रांसफर कर देगा.
कैसे आपको होगा फायदा-उदाहरण के लिए मान लीजिए कि आप 15 साल के लिए 9.05 फीसदी की ब्याज दर से 40 लाख रुपये का होम लोन लेते हैं तो इसके लिए आपको ब्याज के तौर पर 33.24 लाख रुपये देना होगा. ऐसे में अगर ब्याज दर में मामूल बदलाव भी होता है तो इससे आपके ब्याज की रकम पर बड़ा असर पड़ेगा.

ये भी पढ़ें: सऊदी अरामको के लिए ब्लॉकबस्टर साबित हुआ ऑर्डर बुकिंग का पहला 5 दिन, जुटाए इतने लाख करोड़

खासतौर से जब लोन की अवधि अधिक होती है तो इसका फायदा ज्यादा​ मिलेगा. मान लीजिए अगर आपको नए बैंक में लोन की रकम 8.05 फीसदी ब्याज दर मिलता है तो इससे ब्याज पर होने वाला खर्च घटकर 29 लाख रुपये हो जाएगा.



अतिरिक्त खर्च के तौर पर क्या देना होगा-होम लोन ट्रांसफर करने के लिए नया बैंक आपको प्रोसेसिंग फीस वसूलेगा. अगर आप अपने नए बैंक से रिक्वेस्ट करते हैं तो आप इस रकम को भी कम कर सकते हैं. आपको बता दें कि फिक्स्ड लोन रेट के लिए बैंक पेनाल्टी भी चार्ज लेता है.

हालांकि, अगर आप फ्लोटिंग रेट (Floating Interest Rate) पर होम लोन लेते हैं तो इसके लिए बैंक कोई भी पेनाल्टी नहीं चार्ज करेगा. आपको इस बात का भी ध्यान देना होगा कि स्टैंप ड्यूटी का खर्च भी आपको ही देना होगा.

ये भी पढ़ें: ऐसे ऑनलाइन भरें PF खाते में नॉमिनी की जानकारी, यहां जानिए पूरा प्रोसेस

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Mumbai से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 25, 2019, 5:59 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर