1 लाख लगाकर शुरू करें ये कारोबार, हर महीने होगी 8 लाख की कमाई, सरकार करेगी मदद

खीरे की खेती ने कई लोगों को बनाया है लखपति

खीरे की खेती ने कई लोगों को बनाया है लखपति

How to start Cucumber Farming in India? गर आपके पास नौकरी नहीं है या फिर अपनी बोरिंग नौकरी से ऊब चुके हैं और अधिक पैसे कमाने के लिए अपना कारोबार शुरू करना चाहते हैं. लेकिन निवेश के लिए अधिक पैसा नहीं है तो हम आपको बता रहें हैं कि आप कम पैसे खर्च करके मोटी रकम कमा (How to earn money) सकते हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 28, 2021, 5:57 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. अगर आपके पास नौकरी नहीं है या फिर अपनी बोरिंग नौकरी से ऊब चुके हैं और अधिक पैसे कमाने के लिए अपना कारोबार (How can I start my own business) शुरू करना चाहते हैं. लेकिन निवेश के लिए अधिक पैसा नहीं है, तो हम आपको बता रहें हैं कि आप कम पैसे (Low invesment) खर्च करके मोटी रकम कैसे (How to earn money) कमा सकते हैं. इसके लिए सबसे अच्छा आइडिया है खेती (Farming). अब सवाल है कि खेती में क्या करें. तो बता दें कि इसके लिए आपको खीरे की खेती (Cucumber Farming) करनी होगी. इससे आपको कम समय में अधिक पैसे कमाने का मौका (earning money) मिल जाएगा. तो आइए जानते हैं खीरे की खेती का कारोबार कैसे करें?

मार्च में खीरे की पैदावार शुरू कर कमाएं लाखों रुपए

इस फसल का समय चक्र 60 से 80 दिनों में पूरा होता है. वैसे तो खीरा गर्मी के मौसम में होता है. परंतु वर्षा ऋतु में खीरे की फसल अधिक होती है. फरवरी माह का दूसरा सप्ताह खीरे की बुवाई के लिए सर्वश्रेष्ठ है. खीरे की खेती सभी प्रकार की मिट्टी में की जा सकमती है, लेकिन अच्छी पैदावार के लिए अच्छे जल निकास वाली दोमट एवं बलुई दोमट भूमि उत्तम मानी जाती है. खीरा की खेती के लिए भूमि का पी.एच. 5.5 से 6.8 तक अच्छा माना गया है. खीरे की खेती नदियों-तालाब के किनारे भी की जा सकती है.

ये भी पढ़ें- SBI की इस स्पेशल पॉलिसी में हर दिन जमा करें 100 रुपये से भी कम, मिलेगा 2.5 करोड़ का कवर, जानें डिटेल्स..
जानें क्या कहते हैं किसान

यूपी के एक किसान दुर्गाप्रसाद जो कि खीरे की खेती करके लाखों में कमा रहे हैं. वे कहते हैं खेती में मुनाफा कमाने के लिए अपने खेतों में खीरे की बुआई की और मात्र 4 महीने में 8 लाख रुपए कमाए है. इन्होंने अपने खेतो में नीदरलैंड के खीरे कि बुआई की थी. दुर्गाप्रसाद के मुताबिक, नीदरलैंड से इस प्रजाती खीरे के बीज मागवाकर बुआई करने वाले पहले किसान है. अहम बात यह कि इस प्रजाती के खीरो मे बीज नहीं होते है. जिसकी वजह से खीरे कि मांग बड़े-बड़े होटलों और रेस्त्रां खूब रहती है. दुर्गाप्रसाद बताते है कि वें उद्यान विभाग से 18 लाख रुपए की सब्सिडी लेकर खेत में ही सेडनेट हाउस बनवाया था. सब्सिडी लेने के बाद भी खुद से 6 लाख रुपए खर्च करने पड़े थे. इसके आलवा उन्होंने नीदरलैंड से 72 हजार रुपए के बीज मंगवाए. बीज बोने के 4 महीने बाद उन्होंने 8 लाख रुपए के खीरे बेचे.

ये भी पढ़ें- अब नहीं होगी पैसों की टेंशन, अपनाएं ये 4 तरीके और हो जाएं मालामाल!



जानें, क्यों डिमांड में है यह कारोबार

इस खीरे की खासियत कि इसकी कीमत आम खीरो के मुकाबले दो गुनी तक होती है. जहां देसी खीरा 20 रुपए प्रति किलो के हिसाब से बिक रहा है वहीं नीदरलैंड के बीज वाला यह खीरा 40 से 45 रुपए प्रति किलो के हिसाब से बिक रहा है. हालांकि, सभी तरह के खीरों की सालभर डिमांड रहती है. मार्केटिंग के लिए आप सोशल मीडिया का सहारा ले सकते हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज