लाइव टीवी

बैंकों में पैसा डूबने का सता रहा है डर तो यहां लगाएं पैसा! ज्यादा मुनाफे के साथ सरकार लेती है गारंटी

News18Hindi
Updated: October 19, 2019, 3:02 PM IST
बैंकों में पैसा डूबने का सता रहा है डर तो यहां लगाएं पैसा! ज्यादा मुनाफे के साथ सरकार लेती है गारंटी
आप चाहते है निवेश की गई पूरी रकम पर 100% सुरक्षा तो जान लीजिए ऑप्शन के बारे में...

बैंक के हर एक खाते पर 1 लाख रुपये तक का डिपॉजिट इंश्योरेंस (Deposit Insurance) होता है. ​देश के ​इतिहास में ऐसा कभी नहीं हुआ कि कोई कॉम​र्शियल बैंक (Commercial Bank) डूब गया हो.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 19, 2019, 3:02 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. पंजाब एंड महाराष्ट्र को-ऑपरेटिव बैंक (PMC Bank) संकट के बाद अब हर किसी को एक ही चिंता सता रही है कि अगर उनका बैंक डूब गया तो उनकी मेहनत की सेविंग्स का क्या होगा. हालांकि, बैंक के हर एक खाते पर 1 लाख रुपये तक का डिपॉजिट इंश्योरेंस (Deposit Insurance) है. ​देश के ​इतिहास में ऐसा कभी नहीं हुआ कि कोई कॉम​र्शियल बैंक (Commercial Bank) डूब गया हो. हालांकि, कुछ ऐसे मामले जरूर है, जब कुछ खस्ताहाल बैंकों का दूसरे बैंक के साथ विलय कर दिया गया, ताकि किसी डिपॉजिटर का पैसा न डूब सके. मौजूदा समय में डिपॉजिट इंश्योरेंस एंड क्रेडिट गारंटी कॉरपोरेशन स्कीम (DICGC) के तहत, बैंकों में सेविंग अकाउंट, करंट अकाउंट, रिकरिंग डिपॉजिट, बैंक फिक्स्ड डिपॉजिट पर 1 लाख रुपये तक का इंश्योरेंस होता है. इसमें मूलधन और उसपर मिलने वाला ब्याज भी शामिल होता है.

अगर आप अपनी तरफ से निवेश की गई पूरी रकम की 100 फीसदी सुरक्षा चाहते हैं तो इसके लिए हम आपको कुछ तरीके बताते हैं. आइए जानते हैं इन विकल्पों के बारे में...

ये भी पढ़ें: 1 नवंबर से यहां बदल जाएगा बैंकों के खुलने और बंद होने का समय, जानिए क्या है नया टाइम टेबल


1. गवर्नमेंट सेविंग बॉन्ड
केंद्र सरकार 7 सालों के लिए 7.75 फीसदी सेविंग्स बॉन्ड (Government Savings Bond) जारी करती है. वर्तमान में बैंकों के एफडी रेट्स (Interest Rates on FD) कम होते जा रहे हैं, ऐसे में केंद्र सरकार की तरफ से जारी किया जाने वाला यह बॉन्ड लंबी अवधि में निवेश के लिए आपको बेहतर विकल्प देता है. इन बॉन्ड्स पर आपको छह महीने पर या मैच्योरिटी के समय पर ब्याज मिलता है. यह रकम टैक्सेबेल होती है. मैच्योरिटी पर ब्याज लेने वाले विकल्प के तहत 10 लाख रुपये के निवेश पर 7 सालों में आपको 17.03 लाख रुपये मिलेंगे.

2. पोस्ट ऑफिस स्कीम्स
Loading...

इस साल जनवरी से लेकर अब तक भारतीय रिजर्व बैंक (Reserve Bank of India) नीतिगत ब्याज दरों (Policy Rates) में 135 आधार अंकों की कटौती कर चुका है. आने वाले दिनों में भी अभी और कटौती का कयास लगाया जा रहा है. लेकिन, इन सबके बीच अच्छी बात यह है कि दिसंबर तिमाही के लिए सरकार ने पोस्ट ऑफिस स्मॉल सेविंग्स स्कीम्स (Post office Small Saving Schemes) पर मिलने वाले ब्याज दरों में कोई बदलाव नहीं करने का फैसला किया है. ऐसे में एक निवेशक के तौर पर आपके पास विकल्प है कि ​आप इनमें लंबी अवधि के लिए निवेश करें. हाल ही में इंडिया पोस्ट मोबाइल बैंकिंग की भी सुविधा दी है, जिससे आप घर बैठे इनमें निवेश कर सकते हैं.

पोस्ट ऑफिस में टाइम डिपॉजिट (PO Time Deposit) पर 1, 2 और 3 सालों के लिए 6.9 फीसदी की दर से ब्याज मिल रहा है. वहीं, 5 सालों के लिए यह 7.7 फीसदी है. सीनियर सिटीजन को 5 सालों के लिए यह ब्याज दर 8.6 फीसदी है. नेशनल सेविंग सर्टिफिकेट पर ब्याज दर 7.9 फीसदी का है. पोस्ट ऑफिस स्कीम के तहत निवेशकों को उनकी रकम पर सबसे अधिक सुरक्षा मिलती है.

ये भी पढ़ें: LIC की खास पॉलिसी 1 हजार रुपये जमा करने पर मिलेगा 1 लाख, Loan की भी सुविधा

3. गवर्नमेंट सिक्योरिटीज
केंद्र सरकार गवर्नमेंट सिक्योरिटीज (Government Securities) भी जारी करती है. ऐसे में यहां भी निवेश करना सबसे सुरक्षित विकल्प हो सकता है. हालांकि, इसमें आपके लिए शर्त ये है कि आप मैच्योरिटी तक अपने पैसे को न निकालें. इन सिक्योरिटीज को सेकेंडरी मार्केट यानी एनएसई प्लेटफॉर्म पर खरीदा या बेचा जा सकता है.

4. प्रधानमंत्री व्यय वंदना योजना
प्रधानमंत्री व्यय वंदना योजना (Pradhan Mantri Vyay Vandana Yojna) पर 10 साल में 8 फीसदी की दर से ब्याज मिलेगा. इसके तहत निवेशक चाहे तो मासिक, तिमाही, छमाही या सालाना आधार पर रेग्युलर इनकम भी पा सकता है. यह एक सरकारी स्कीम है जो कि केवल एलआईसी ही ऑफर करता है. इसके लिए ​अंतिम तारीख 31 मार्च 2020 है. हालांकि, एक साल में इस स्कीम के तहत अधिकतम 1.2 लाख रुपये का ही पेंशन मिल सकता है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए इनोवेशन से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 19, 2019, 1:32 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...