Home /News /business /

zerodha co founder nithin kamath cautions crypto investors against the prospect of coinbase global arnod

Zerodha वाले नितिन कामथ ने क्रिप्टो निवेशकों को किया आगाह, खतरे में पड़ जाएंगे एसेट्स

नितिन कामथ (फाइल फोटो)

नितिन कामथ (फाइल फोटो)

अमेरिका के सबसे बड़े क्रिप्टो एक्सचेंज (crypto exchange) कॉइनबेस के शेयरों में लगातार गिरावट आ रही है. अप्रैल 2021 में आईपीओ की लॉन्चिंग के बाद से इसमें 78 फीसदी की गिरावट आई है. एक्टिव यूजर्स और बिक्र घटने की वजह से कॉइनबेस को पहली तिमाही में 48 करोड़ डॉलर का घाटा हुआ है.

अधिक पढ़ें ...

नई दिल्ली. ब्रोकरेज फर्म जेरोधा (Zerodha) के सह-संस्थापक नितिन कामत (Nithin Kamath) ने एक बार फिर से भारतीय क्रिप्टो निवेशकों को आगाह किया है. उन्होंने कहा है कि अमेरिकी क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज कॉइनबेस ग्लोबल (Coinbase Global) के दिवालिया होने की स्थिति में निवेशकों की डिजिटल संपत्तियां खतरे में पड़ सकती है. कॉइनबेस ने हाल ही भारतीय बाजार से कारोबार समेटने की घोषणा की है.

नितिन कामत ने एक ट्वीट कर क्रिप्टोकरेंसी मार्केट (CRYPTOCURRENCY MARKET) पर फिर से निशाना साधा है. वे समय-समय पर क्रिप्टो में निवेश को लेकर निवेशकों को आगाह करते रहे हैं. उन्होंने भारतीय क्रिप्टो निवेशकों को कॉइनबेस में लगातार जारी गिरावट को लेकर सतर्क रहने की सलाह दी है.

ये भी पढ़ें- क्रिप्टोकरेंसी बाजार में तबाही: हफ्तेभर में एक बड़ा कॉइन 99% टूटा, बिटकॉइन 30 फीसदी डाउन

ग्राहकों के एसेट्स पर खतरा

नितिन कामत ने अपने ट्वीट में कहा है, “कॉइनबेस के दिवालिया होने पर ग्राहकों का एसेट्स खतरे में पड़ सकते हैं. शेयर बाजार के निवेशकों के शेयर डिपॉजिटरी के पास एक डीमैट खाते में होते हैं. निवेशकों के शेयर को ब्रोकर से जुड़ा कोई रिस्क नहीं होता है. वहीं क्रिप्टो एक्सचेंजेस में खतरा होता है.”

घाटे में है क्वॉइनबेस

अमेरिका के सबसे बड़े क्रिप्टो एक्सचेंज (crypto exchange) कॉइनबेस के शेयरों में इसके आईपीओ लॉन्चिंग के बाद से 78 फीसदी की गिरावट आई है. एक साल पहले अप्रैल 2021 में इसका आईपीओ आया था. कॉइनबेस ने इसी हफ्ते पहली तिमाही (जनवरी-मार्च) के नतीजे जारी किए हैं. तिमाही नतीजे अनुमान से कम रहे हैं. एक साल पहले की समान अवधि की तुलना में रेवेन्यू में 27 फीसदी की गिरावट आई है. पहली तिमाही में कॉइनबेस (Coinbase) के एक्टिव यूजर्स और बिक्री घटने की वजह से इसे 43 करोड़ डॉलर का घाटा हुआ है.

ये भी पढ़ें- Stock Market Opening : खुलते ही बाजार ने लगाया गोता, सेंसेक्‍स 800 अंक टूटकर 54 हजार से नीचे, निफ्टी भी धराशायी

बाकी क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज की तरह कॉइनबेस के लिए यह मुश्किल दौर है. ट्रेडिंग वॉल्यूम गिरने से इसका रेवेन्यू घटा है. चौथी तिमाही (अक्टूबर-दिसंबर 2021) की तुलना में पहली तिमाही में एक्टिव मंथली यूजर्स की संख्या 19 फीसदी कम रही है. विश्लेषकों को उम्मीद थी कि पहली तिमाही में 8 सेंट प्रति शेयर की आमदनी होगी, लेकिन ऐसा नहीं हुआ. अगर कॉइनबेस मुश्किल में फंसती है तो इसके ग्राहकों को बड़ी समस्या हो सकती है.

Tags: Business news in hindi, Crypto, Crypto currency, Cryptocurrency

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर