होम /न्यूज /व्यवसाय /आईपीओ, वर्क फ्रॉम होम और बुल मार्केट की वजह से जिरोधा की बल्ले बल्ले, पढ़िए कैसे और कितना बढ़ा मुनाफा ?

आईपीओ, वर्क फ्रॉम होम और बुल मार्केट की वजह से जिरोधा की बल्ले बल्ले, पढ़िए कैसे और कितना बढ़ा मुनाफा ?

 कामत ने कहा कि अगर मार्केट में गिरावट में आती है तो यूजर कम हो जाते हैं. लिहाजा एक्टिव ट्रेडर और रेवेन्यू में कमी आती है.

कामत ने कहा कि अगर मार्केट में गिरावट में आती है तो यूजर कम हो जाते हैं. लिहाजा एक्टिव ट्रेडर और रेवेन्यू में कमी आती है.

Zerodha के सीईओ नितिन कामथ ट्वीट कर बताया क साल 201-22 के लिए कंपनी के मुनाफे और राजस्व दोनों में 50% से अधिक की उछाल आ ...अधिक पढ़ें

मुंबई . देश की सबसे बड़ी ऑलनाइन ब्रोकरेज में से एक जिरोधा (Zerodha) ने पिछले साल रिकॉर्डतोड़ मुनाफा कमाया है. Zerodha के सीईओ नितिन कामथ ट्वीट कर बताया क साल 201-22 के लिए कंपनी के मुनाफे और राजस्व दोनों में 50% से अधिक की उछाल आई है. पिछले दो साल में बुल मार्केट, आईपीओ और वर्क फ्रॉम होम के साथ अन्य कई चीजों की वजह से जिरोधा की बल्ले बल्ले हो गई है.

कंपनी के को-फाउंडर ने बताया कि पिछले 2 साल में इन कारणों से कंपनी को भारी मुनाफा हुआ है. कामथ ने ट्वीट में लिखा कि जिरोधा के राजस्व का एक बड़ा हिस्सा एक्टिव ट्रेडर्स से आता है. ब्रोकरेज इंडस्ट्री के राजस्व को बनाए रखने के लिए ट्रेडर्स का भी रेगुलर पैसा कमाना जरूरी है.

News18 Hindi

मुनाफे के लिए बुल मार्केट जरूरी 

हालांकि, नए और एक्टिव ट्रेडर को पाने के लिए बाजार में तेजी बनी रहनी चाहिए. अगर मार्केट में गिरावट में आती है तो यूजर कम हो जाते हैं. लिहाजा एक्टिव ट्रेडर और रेवेन्यू में कमी आती है.

यह भी पढ़ें- Rainbow Children’s Medicare IPO: सब्सक्रिप्शन के मामले में आईपीओ रहा हिट, ग्रे मार्केट में क्या चल रहा भाव ?

इसके अलावा, एक अमेरिकी वित्तीय सेवा कंपनी रॉबिनहुड मार्केट्स इंक का उदाहरण देते हुए, ज़ेरोधा बॉस ने लिखा कि कंपनी का मार्केट कैप 80 अरब डॉलर के उच्च स्तर से गिरकर 9 अरब डॉलर पर आ गया है.

कामथ ने लिखा कि, “पिछली कुछ तिमाहियों में रॉबिनहुड के शेयर की कीमत और वित्तीय स्थिति से पता चलता है कि रिटेल ब्रोकर के प्रदर्शन का का बाजार के सेंटीमेंट के साथ कितना गहरा संबंध है.

कामथ ने कहा कि मार्केट कैप में गिरावट अमेरिकी बाजार में तेज गिरावट के कारण नए यूजर की संख्या में गिरावट से सीधा संबंध है.

यह भी पढ़ें- बीएसई पर लिस्टेड एफआईआई और म्यूचुअल फंडों के ये डार्लिंग शेयर, क्या आपके पोर्टफोलियो में हैं?

रॉबिनहुड से मिली सीख

भारत के मामले में, कामत ने कहा कि उनकी ब्रोकरेज फर्म ने नए यूजर और रेवेल्यू के मामले में एक मील का पत्थर स्थापित किया. लेकिन अगर बाजार गिरता है तो हमारा भी हश्र रॉबिनहुड जैसा हो सकता है. मैं खुद को और अपनी टीम को यह सब दिलाता रहता हूं कि स्थितियां बदलती रहती हैं.

Tags: Share market, Stock market today, Stock Options, Stock tips, Stocks

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें