होम /न्यूज /व्यवसाय /Unicorn Club: एक और कंपनी यूनिकॉर्न क्‍लब में हुई शामिल, जानिए कंपनी का नाम और काम!

Unicorn Club: एक और कंपनी यूनिकॉर्न क्‍लब में हुई शामिल, जानिए कंपनी का नाम और काम!

यह स्टार्टअप भारत में 29,000 से अधिक पिन कोड्स पर सर्विस देने का दावा करता है.

यह स्टार्टअप भारत में 29,000 से अधिक पिन कोड्स पर सर्विस देने का दावा करता है.

लॉजिस्टिक प्लेटफॉर्म शिपरॉकेट (Shiprocket) अब भारत के यूनिकॉर्न क्लब में शामिल हो गया है. फंडिंग के ताजा राउंड में कंपन ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

लॉजिस्टिक प्लेटफॉर्म शिपरॉकेट (Shiprocket) जोमैटो द्वारा समर्थित है.
ताजा राउंड की फंडिंग में कंपनी ने 33 मिलियन डॉलर (लगभग 260 करोड़ रुपये) प्राप्त किए.
टेमासेक और लाइटरॉक ने क्रमशः ₹78 करोड़ और ₹75 करोड़ का निवेश किया.

नई दिल्ली. जोमैटो द्वारा समर्थित लॉजिस्टिक प्लेटफॉर्म शिपरॉकेट (Shiprocket) अब भारत के यूनिकॉर्न क्लब में शामिल हो गया है. हाल ही में हुए ताजा राउंड में कंपनी ने अपने वर्तमान निवेशकों में से एक टेमासेक होल्डिंग्स और लाइटरॉक इंडिया (Temasek Holdings and Lightrock India) से 33 मिलियन डॉलर (लगभग 260 करोड़ रुपये) प्राप्त किए हैं.

कॉर्पोरेट मामलों के मंत्रालय के साथ फाइलिंग से पता चला है इस नए निवेश ने कंपनी का मूल्यांकन 1.2 बिलियन डॉलर तक बढ़ा है. 1 बिलियन डॉलर के अधिक के मूल्यांकन वाले स्टार्टअप को यूनिकॉर्न की श्रेणी में रखा जाता है. हालांकि 2021 के बाद भारत में यूनिकॉर्न बनने वाली कंपनियों की संख्या घटी है, क्योंकि बाजार में जारी उतार-चढ़ाव से काफी डरे हुए थे.

ये भी पढ़ें – करोड़ों बुजुर्गों के लिए वरदान बनेगा रतन टाटा का ये कदम, एक अद्भुत स्‍टार्टअप में किया निवेश

शिपरॉकेट से पहले इस स्तर को छूने वाला स्टार्टअप था फायर. इसे अंग्रेजी में 5ire लिखा जाता है. यह 15 जुलाई को यूनिकॉर्न कंपनियों के क्लब में शामिल हुआ था.

इस साल यूनिकॉर्न बने केवल 20 भारतीय स्टार्टअप
इस साल केवल 20 भारतीय स्टार्टअप यूनिकॉर्न बने हैं, उनमें से भी ज्यादातर साल के पहले तीन महीनों में बने, जबकि पिछले साल 42 स्टार्टअप इस क्लब में शामिल हुए थे. शिपरॉकेट, को बिगफुट रिटेल सॉल्यूशंस प्राइवेट द्वारा संचालित किया जाता है, जिसने सीरीज E2 में 59,793 कंप्लसरी कन्वर्टीबल प्रेफरेंस शेयर बेचे हैं. एक शेयर की वेल्यू 43,394.13 रुपये थी. कंपनी के बोर्ड ने 10 अगस्त को हुई बैठक में बिक्री को मंजूरी दी थी.

लाइवमिंट ने एक रिपोर्ट में बताया कि टेमासेक और लाइटरॉक ने क्रमशः ₹78 करोड़ और ₹75 करोड़ का निवेश किया. बर्टेल्समैन नीदरलैंड, मार्च वेंचर कैपिटल मैनेजमेंट सर्विसेज LLC, मूरे स्ट्रैटेजिक वेंचर्स LLC, हडल कलेक्टिव और पेपल इंक ने बाकी की पूंजी डाली.

ये भी पढ़ें – रुपये में गिरावट से स्टार्टअप्स की फंडिंग और वैल्युएशन पर लग रहा ग्रहण, क्या कहते हैं विशेषज्ञ?

क्या कहा शिपरॉकेट के सीईओ साहिल गोयल ने
दिसंबर में, शिपरॉकेट ने अपने सीरीज E राउंड में Zomato, Temasek और Lightrock के सह-नेतृत्व के 185 मिलियन डॉलर जुटाए थे. गौतम कपूर, साहिल गोयल और विशेष खुराना द्वारा 2017 में स्थापित, शिपरॉकेट छोटे और मध्यम आकार के बिजनेस, डायरेक्ट टू कंज्यूमर ब्रांड्स और सोशल कॉमर्स सेलर्स को लॉजिस्टिक सेवाएं प्रदान करता है. स्टार्टअप भारत में 29,000 से अधिक पिन कोड्स पर सर्विस देने का दावा करता है.

शिपरॉकेट के सीईओ और सह-संस्थापक साहिल गोयल ने कहा, “यह निवेश हमारे रोडमैप को स्पीडअप करने में मदद करेगा और हमें भारत में हर डायरेक्ट कॉमर्स रिटेलर के लिए विश्व स्तरीय ई-कॉमर्स अनुभव लाने में भी मदद करेगा.”

Tags: Business news, Business news in hindi, Indian startups, Successful business leaders, Zomato

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें