जोमैटो ने दी कंपनी को लेकर नई जानकारी, बताई विस्तार की नई रणनीति

तैयार खाद्य सामग्री की ऑनलाइन आपूर्ति करने वाली कंपनी जोमैटो की ओर से जारी ताजा बयान में कहा गया है कि उनकी पहुंच अब देश के 500 शहरों तक हो गई है.

News18Hindi
Updated: August 1, 2019, 5:54 PM IST
जोमैटो ने दी कंपनी को लेकर नई जानकारी, बताई विस्तार की नई रणनीति
जोमैटो ने दी कंपनी को लेकर नई जानकारी, बताई विस्तार की नई रणनीति
News18Hindi
Updated: August 1, 2019, 5:54 PM IST
तैयार खाद्य सामग्री की ऑनलाइन आपूर्ति करने वाली कंपनी जोमैटो की ओर से जारी ताजा बयान में कहा गया है कि उनकी पहुंच अब देश के 500 शहरों तक हो गई है. वहीं, कंपनी ने कई और बड़ी जानकारियां दी है. आपको बता दें कि फूड डिलिवरी ऐप Zomato एक विवाद में घिरता नजर आ रहा है, जिसकी शुरुआत डिलिवरी बॉय बदलने की मांग और धर्म को लेकर हुई थी. बीते दिनों एक यूजर ने 'गैर-हिंदू' डिलिवरी बॉय से अपना खाना लेने से इनकार कर दिया था और बदले में ऐप ने यूजर को रिफंड भी नहीं किया. यूजर अमित शुक्ला की ओर से यह बात ट्विटर पर शेयर की गई तो जोमैटो ने उसके जवाब में लिखा, 'खाने का कोई धर्म नहीं होता. खाना खुद एक धर्म है. इसके बाद कई कस्टमर्स ने सोशल मीडिया पर ऐप के खिलाफ पोस्ट करते हुए लिखा कि इसके बावजूद 'हलाल मीट' की मांग करने वाले यूजर्स को ऐप अच्छी प्रतिक्रिया देता है और उनकी मांग स्वीकार करता है.

कंपनी की ओर से जारी बयान- कंपनी की खाद्य सामग्री आपूर्ति के लिये वर्तमान में 1.5 लाख रेस्तरांओं के साथ साझेदारी है और उसके साथ जुड़े आपूर्तिकर्ताओं की संख्या 2.3 लाख है.

>> जोमैटो ने बयान में कहा कि अप्रैल में उसने अपनी सेवाओं को 200 शहरों तक बढ़ाया था और सितंबर तक इसे बढ़ाकर 500 शहरों तक पहुंचाने का लक्ष्य रखा था. हालांकि, समय से पहले इस लक्ष्य को हासिल कर लिया गया.

>> कंपनी ने कहा, जोमैटो अब देशभर के 500 शहरों में सेवाएं दे रही हैं. पिछले महीने में हर दिन चार नए शहरों को जोड़ा गया है.

>> जोमैटो देश में तीसरे और चौथे श्रेणी के शहरों में अवसर खोजने के लिए तेजी से अपनी खाद्य आपूर्ति सेवा का विस्तार कर रही है."

>> कंपनी ने केरल, तमिलनाडु, दमन, मेघालय और महाराष्ट्र जैसे राज्यों में नए शहरों में विस्तार किया है.

>> जोमैटो के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (खाद्य आपूर्ति) मोहित गुप्ता ने कहा, "उभरते हुए शहर हमारे कारोबार में 40 प्रतिशत का योगदान कर रहे हैं."
First published: August 1, 2019, 5:41 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...