• Home
  • »
  • News
  • »
  • business
  • »
  • ZOMATO LIKELY TO LAUNCH ITS IPO IN SEPTEMBER KNOW DETAILS HERE NODVKJ

Zomato से कमाई करने का मौका, कंपनी सितंबर में लाने जा रही है IPO

प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर

ब्लूमबर्ग की रिपोर्ट के मुताबिक, कंपनी इस आईपीओ के लिए मार्केट रेगुलेटर सेबी के पास अप्रैल, 2021 में ड्राफ्ट रेड हेरिंग प्रोस्पेक्टस जमा करा सकती है.

  • Share this:
    नई दिल्ली. फूड डिलिवरी करने वाली कंपनी जोमैटो (Zomato) अपनी झोली इनिशियल पब्लिक ऑफरिंग यानी आईपीओ (IPO) से भरने का प्लान बना रही है. आईपीओ के जरिए कंपनी निवेशकों को भी मोटी कमाई करने का मौका देने वाली है. कंपनी मार्केट से 650 मिलियन डॉलर यानी 4700 करोड़ रुपये से अधिक जुटाने की योजना में है. इसके लिए कंपनी सितंबर, 2021 से पहले अपना आईपीओ लॉन्च करेगी.

    अप्रैल तक फाइलिंग की प्रक्रिया पूरी करने की तैयारी
    ब्लूमबर्ग की रिपोर्ट के मुताबिक, कंपनी इस आईपीओ के लिए मार्केट रेगुलेटर सेबी के पास अप्रैल, 2021 में ड्राफ्ट रेड हेरिंग प्रोस्पेक्टस जमा करा सकती है. इस मामले से जुड़े सूत्रों ने बताया कि कंपनी की योजना सितंबर, 2021 के अंत तक स्टॉक मार्केट्स में लिस्ट होने की है. इस संबंध में कंपनी बातचीत कर रहा है. आईपीओ का साइज क्या होगा- यह 4700 करोड़ रुपये से अधिक का होगा या कम का, यह अभी फाइनल नहीं है. हालांकि कंपनी ने अभी आधिकारिक तौर पर आईपीओ को लेकर कुछ नहीं कहा है.

    ये भी पढ़ें- आर्थिक मोर्चे पर आई खुशखबरी, मूडीज का अनुमान- 2021 में 12 फीसदी बढ़ेगी देश की इकोनॉमी

    सिरिल अमरचंद मंगलदास और इंडस लॉ बने लीगल एडवाइजर
    इससे पहले जनवरी, 2021 में कंपनी के सूत्रों ने मनीकंट्रोल को बताया था कि जोमैटो ने लीड इंवेस्टमेंट बैंकर के तौर पर कोटक महिंद्रा कैपिटल के साथ गोल्डमैन सैक्स, Morgan Stanley और Credit Suisse को नियुक्त किया है. इसके अलावा कानूनी सलाह के लिए कंपनी ने लॉ फर्म सिरिल अमरचंद मंगलदास और इंडस लॉ को लीगल एडवाइजर नियुक्त किया है.

    ये भी पढ़ें- Freecharge ऐप के जरिए करते हैं ज्यादा लेनदेन, इस क्रेडिट कार्ड के जरिए हर ट्रांजैक्शन पर मिलेगा 5 फीसदी कैशबैक

    जुटाई 1800 करोड़ रुपये की फ्रेश फंडिंग
    आईपीओ से पहले पिछले महीने जोमैटो ने अपने मौजूदा निवेशकों से 25 करोड़ डॉलर यानी 1800 करोड़ रुपये की फ्रेश फंड्स जुटाए थे. इसे कंपनी की प्री-आईपीओ फंडरेजिंग के रूप में देखा जा रहा है. इससे कंपनी का वैल्यूएशन अब 5.4 बिलियन डॉलर यानी करीब 40,000 करोड़ रुपये हो गया है, जबकि दिसंबर, 2020 में कंपनी का वैल्यूएशन केवल 28,000 करोड़ रुपये था.