1.1 करोड़ महिलाओं की नौकरी पर मंडरा रहा है खतरा, जानें वजह

विश्व की दस बड़ी अर्थव्यवस्थाओं (कनाडा, फ्रांस, जर्मनी, जापान, यूके, चीन, भारत, मेक्सिको और दक्षिण अफ्रीका) पर फोकस इस स्टडी के मुताबिक करीब 10.7 करोड़ महिलाओं की नौकरी जा सकती है.

News18Hindi
Updated: June 25, 2019, 6:40 PM IST
1.1 करोड़ महिलाओं की नौकरी पर मंडरा रहा है खतरा, जानें वजह
प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर
News18Hindi
Updated: June 25, 2019, 6:40 PM IST
कहते हैं कि प्रोफेशनल लाइफ में खुद को अपडेट रखना जरूरी है. अगर आप समय के साथ आप अपनी स्किल और नॉलेज नहीं बढ़ाते हैं तो आप पिछड़ जाते हैं. अब एक ऐसा ही खतरा हालिया रिसर्च में जताया गया. जी हां, शोध के मुताबिक दुनिया की हर छठी महिला की नौकरी पर खतरा मंडरा रहा है.

दरअसल कंसल्टेंसी फर्म मैकिन्जी की ताजा स्टडी के मुताबिक भले ही भविष्य में महिलाओं के लिए नौकरियों में 20 फीसदी अधिक अवसर उपलब्ध हो जाएं, लेकिन अगर आने वाले समय में उनकी स्किल में सुधार नहीं हुआ तो लगभग सभी कार्यक्षेत्रों में लैंगिक असमानता बढ़ने का अंदेशा जताया गया है. दुनिया की हर छठी महिला की नौकरी खतरे में है.



भारत में 1.1 करोड़ महिलाओं की नौकरी खतरे में!

योरस्‍टोरी में छपे शोध रिपोर्ट के मुताबिक भारत में लगभग 1.1 करोड़ महिलाओं को नौकरी से हाथ धोना पड़ सकता है. यह महिला वर्कफोर्स का आठ प्रतिशत है. हमारे देश में बदलते वक्त में ऑटोमेशन के साथ ढल जाना महिलाओं के लिए सबसे बड़ी चुनौती हो सकती है. वह पहले से ही अपने-अपने कार्यक्षेत्र में पारंपारिक रुकावटों से जूझ रही हैं.

बदलनी पड़ सकती है अपनी फील्‍ड
मैकिन्जी की 'द फ्यूचर ऑफ वूमेन एट वर्क: ट्रांसिशन इन द ऐज ऑफ ऑटोमेशन' शीर्षक स्टडी में बताया गया है कि आगामी एक दशक में विश्व में 10 करोड़ से अधिक महिलाओं की या तो नौकरियां जा सकती हैं, या फिर उन्हें अपनी फील्‍ड बदलनी पड़ सकती है. वहीं विश्व की दस बड़ी अर्थव्यवस्थाओं (कनाडा, फ्रांस, जर्मनी, जापान, यूके, चीन, भारत, मेक्सिको और दक्षिण अफ्रीका) पर फोकस इस स्टडी के मुताबिक, ऑटोमेशन के कारण करीब 10.7 करोड़ महिलाओं की नौकरी जा सकती है.
यह भी पढ़ें:

NHM Recruitment 2019: हेल्‍थ ऑफिसर के पदों पर निकली वैकेंसी

South Indian Bank में ग्रेजुएट्स के लिए 385 वैकेंसी

GOVT JOB:असिस्टेंट ब्लॉक रिसोर्स कोऑर्डिनेटर की 1207 वैकेंसी
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...