17 फीसदी कैंडीडेट बीएड प्रवेश परीक्षा में नहीं हुए शामिल, सोशल डिस्टेंसिंग की उड़ी धज्जी

इस साल 17 फीसदी छात्रों ने परीक्षा छोड़ दी.

इस साल 17 फीसदी छात्रों ने परीक्षा छोड़ दी.

पिछले साल की तुलना में इस साल ज्यादा छात्रों ने बीएड परीक्षा छोड़ दी. साथ ही कोविड 19 के समय में सोशल डिस्टेंसिंग का भी पालन नहीं किया जा सका.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 10, 2020, 7:07 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. रविवार को बीएड संयुक्त प्रवेश परीक्षा करवाई गई. इसमें 17 फीसदी अभ्यर्थी शामिल नहीं हो सके. परीक्षा यूपी के 73 जिलों के 1089 केंद्रों पर करवाई गई. परीक्षा में रजिस्टर्ड कुल 4,31,904 छात्रों मे से 3,57,064 कैंडीडेट्स ने ही परीक्षा दी. इस बार परीक्षा की निगरानी के काफी पुख्ता इंतज़ाम किए गए थे लेकिन फिर भी कुछ मामले सामने आए. मेरठ में फर्जी प्रवेश पत्र के सहारे एक महिला परीक्षा देने की कोशिश कर रही थी उसे रोका गया वहीं, कोरोना संक्रमण की आशंका और तापमान ज्यादा होने पर चार परीक्षार्थियों की परीक्षा अलग कमरे में बिठाकर कराई गई. इनमें तीन परीक्षार्थी प्रयागराज तथा एक बहराइच का था.

अमर उजाला के मुताबिक परीक्षा समन्वयक प्रो. अमिता बाजपेयी ने बताया कि सभी अभ्यर्थियों, कक्ष-निरीक्षकों और नोडल अधिकारियों की सुरक्षा के सभी प्रोटोकॉल एवं निर्देशों का पालन कराया गया. परीक्षा-केंद्र पर सीसीटीवी कैमरे और राउटर आदि के सहारे लखनऊ से निगरानी की गई. किसी भी केंद्र पर कोई अप्रिय घटना की सूचना नहीं है. लखनऊ विश्वविद्यालय ने कोरोना संक्रमण को देखते हुए अभ्यर्थियों को अपना परीक्षा केंद्र बदलने की सुविधा भी दी थी. प्रयास था कि सभी परीक्षार्थियों को उनके जिले में ही केंद्र आवंटित किया जा सके.

सोशल डिस्टेंसिंग नहीं हो पाई मेनेटेन

कई केंद्रों पर अंदर भले ही सोशल डिस्टेंसिंग को मेनटेन करने की कोशिश की गई हो लेकिन परीक्षा केंद्र के बाहर की स्थिति बुरी थी. केंद्र के बाहर छात्रों का हुजूम लगा हुआ था और लोग एक दूसरे से काफी सटे हुए थे. इस तरह की कई फोटोज़ सोशल मीडिया पर भी वायरल हुईं. लखनऊ में राजकीय पॉलीटेक्निक सेंटर के बाहर लगी भीड़ की फोटो सोशल मीडिया पर खूब वायरल हुई. गोरखपुर और महाराजगंज की फोटो भी सोशल मीडिया पर घूमती रहीं. इस पर सरकार की खूब आलोचना हुई.
पिछले साल की तुलना में ज्यादा रही अनुपस्थिति

इस साल पिछले साल की तुलना में अनुपस्थिति ज्यादा रही. पिछले साल परीक्षा में छह लाख नौ हजार कैंडीडेट रजिस्टर्ड थे. इसमें से 42 हजार ने परीक्षा नहीं दी थी. इस हिसाब से अनुपस्थित रहने वाले परीक्षार्थियों का आंकड़ा 6.9 फीसदी था. इसको देखते हुए इस साल परीक्षा छोड़ने वाले अभ्यर्थियों की संख्या काफी ज्यादा थी. हालांकि लखनऊ विश्विद्यालय प्रशासन का दावा था कि प्रवेश परीक्षा में आमतौर पर करीब 20 फीसदी अभ्यर्थी गैर हाजिर रहते हैं. बता दें कि पिछले साल रुहेल खंड यूनिवर्सिटी ने परीक्षा करवाई थी.

तीन बार टली परीक्षा



बता दें कि परीक्षा तो कोरोना वायरस महामारी के चलते तीन बार टाला जा चुका है. पहले बीएड संयुक्त प्रवेश परीक्षा पहले 8 अप्रैल को होनी थी. लॉकडाउन के कारण इसे 22 अप्रैल फिर 29 जुलाई किया गया. 29 को भी परीक्षा कराना संभव नहीं हुआ तो इसे 9 अगस्त किया गया.

सभी राज्यों की बोर्ड परीक्षाओं/ प्रतियोगी परीक्षाओं, उनकी तैयारी और जॉब्स/करियर से जुड़े Job Alert, हर खबर के लिए फॉलो करें- https://hindi.news18.com/news/career/

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज