केंद्रीय और नवोदय विद्यालयों के 27% बच्चों के पास ऑनलाइन क्लास लेने के लिए फोन, लैपटॉप नहीं है

केंद्रीय और नवोदय विद्यालयों के 27% बच्चों के पास ऑनलाइन क्लास लेने के लिए फोन, लैपटॉप नहीं है
कुल 35,000 छात्रों में से लगभग 28 प्रतिशत छात्रों, शिक्षकों, प्राचार्यों और अभिभावकों ने बड़ी बाधा बिजली की कमी को बताया.

नेशनल काउंसिल ऑफ एजुकेशनल रिसर्च एंड ट्रेनिंग (NCERT) द्वारा कराए गए सर्वे में CBSE से मान्यता प्राप्त स्कूलों, केंद्रीय विद्यालयों (KVs) और नवोदय विद्यालयों (NV) में पढ़ने वाले 18,188 छात्रों को शामिल किया गया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 20, 2020, 11:57 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. कोविड-19 की वजह से कई महीनों से स्कूल बंद हैं. स्टूडेंट्स ऑनलाइन क्लासेज के जरिए पढ़ाई कर रहे हैं. लेकिन ऑनलाइन क्लासेज में पहुंचने के लिए 27 प्रतिशत छात्रों के पास स्मार्टफोन और लैपटॉप नहीं हैं. लेकिन जो लोग क्लास ले पाते हैं, उनमें से अधिकांश ऑनलाइन शिक्षा प्राप्त करने से "खुश या संतुष्ट" तो हैं, हालांकि गणित और विज्ञान इन क्लासेज से पढ़ना सबसे कठिन हैं. ये आंकड़े एक सरकारी सर्वे में पाए गए.

NCERT द्वारा कराया गया सर्वे 
नेशनल काउंसिल ऑफ एजुकेशनल रिसर्च एंड ट्रेनिंग (NCERT) द्वारा कराए गए सर्वे में CBSE से मान्यता प्राप्त स्कूलों, केंद्रीय विद्यालयों (KVs) और नवोदय विद्यालयों (NV) में पढ़ने वाले 18,188 छात्रों को शामिल किया गया.

33% ने ऑनलाइन सीखने को 'कठिन' महसूस किया
शिक्षा मंत्रालय द्वारा साझा किए गए निष्कर्षों के अनुसार, 'स्टूडेंट्स लर्निंग एनहांसमेंट गाइडलाइंस ’के हिस्से के रूप में, लगभग 33 प्रतिशत ने ऑनलाइन सीखने को 'कठिन' या 'बोझ' महसूस किया.



84 प्रतिशत स्मार्टफोन पर निर्भर
सर्वेक्षण में पाया गया कि जो लोग ऑनलाइन कक्षाएं लेने में सक्षम हैं उनमें लगभग 84 प्रतिशत ऑनलाइन कक्षाओं तक पहुंचने के लिए स्मार्टफोन पर निर्भर हैं. लैपटॉप, लगभग 17 प्रतिशत द्वारा उपयोग किया जा रहा है, जबकि टीवी और रेडियो ऑनलाइन सीखने के लिए सबसे कम उपयोग किए गए.

बिजली की कमी, बड़ी बाधा
सर्वेक्षण के अनुसार, कुल 35,000 छात्रों में से लगभग 28 प्रतिशत छात्रों, शिक्षकों, प्राचार्यों और अभिभावकों ने बड़ी बाधा बिजली की कमी को बताया.

ये भी पढ़ें-
बस सेवा बंद, 105 km साइकिल चलाकर बेटे को परीक्षा दिलाने ले गया पिता
नौकरी के ल‍िये सरकार उठा रही है ये बड़ा कदम, जॉब पाने में होगी आसानी

ये सर्वे एनसीईआरटी द्वारा "लॉकडाउन के दौरान और बाद में छात्रों के बीच सीखने के नुकसान से संबंधित मुद्दों का समाधान करने" के लिए किया गया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading