लाइव टीवी

प‍िछले 5 वर्ष में 23 IITs के 50 छात्रों ने दी जान, 14 आत्‍महत्‍याओं के साथ IIT गुवाहाटी सबसे ऊपर

News18Hindi
Updated: December 3, 2019, 1:53 PM IST
प‍िछले 5 वर्ष में 23 IITs के 50 छात्रों ने दी जान, 14 आत्‍महत्‍याओं के साथ IIT गुवाहाटी सबसे ऊपर
देश के व‍िभ‍िन्‍न आईआईटी संस्‍थानों में सुसाइड करने वाले छात्रोंं की संख्‍या में बढ़ोतरी हुई है.

देश के व‍िभ‍िन्‍न इंड‍ियन इंस्‍टीट्यूट ऑफ टेक्‍नोलॉजी, IITs में प‍िछले 5 साल के दौरान 50 से ज्‍यादा छात्रों ने आत्‍महत्‍याएं की हैं. 15 सुसाइड के साथ आईआईटी गुवाहाटी सबसे पहले पायदान पर है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 3, 2019, 1:53 PM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली: देश की सर्वश्रेष्‍ठ श‍िक्षण संस्‍थानों में से एक आईआईटी में आत्‍महत्‍याओं का आंकड़ा लगातार बढ़ता जा रहा है. मानव संसाधन व‍िकास मंत्रालय, HRD ने जो र‍िपोर्ट दी है, उसमें चौंकाने वाले तथ्‍य सामने आए हैं. र‍िपोर्ट की मानें तो प‍िछले पांच वर्षों में देश के 23 इंडियन इंस्‍टीट्यूट ऑफ टेक्‍नोलॉजी(IITs) में आत्‍महत्‍या करने वाले छात्रों की संख्‍या 50 पार कर चुकी है. इसमें आईआईटी गुवाहाटी (IIT Guwahati) के सबसे ज्‍यादा छात्र हैं. 14 आत्‍महत्‍याओं के साथ आईआईटी गुवाहाटी (IIT Guwahati) इस सूची में सबसे पहले पायदान पर है. यानी अगर ह‍िसाब लगाएं तो हर साल आईआईटी गुवाहाटी (IIT Guwahati) के तीन छात्र आत्‍महत्‍या कर रहे हैं.

वहीं, प‍िछले पांच वर्षों में 7 सुसाइड के साथ आईआईटी मद्रास (IIT Madras) और आईआईटी बांबे (IIT Bombay) दूसरे पायदान पर हैं. दूसरे टॉप आईआईटी संस्‍थानों, जैसे आईआईटी दिल्‍ली (IIT-Delhi) में इन पांच वर्षों के दौरान 4 छात्रों ने आत्‍महत्‍या की और आईआईटी खड़गपुर (IIT Kharagpur) में 5 छात्रों ने आत्‍महत्‍या की. जबकि, इसी दौरान आईआईटी कानपुर (IIT-Kanpur) के एक छात्र और आईआई रूरकी (IIT-Roorkee) के उसे छात्रों ने सुसाइड क‍िया.

इसमें से सबसे हालिया मामला आईआईटी गुवाहाटी (IIT Guwahati) और आईआईटी मद्रास (IIT Madras) का है, जहां एक जापानी छात्र हॉस्‍टल में मृत पाया गया और दूसरी ओर आईआईटी मद्रास (IIT Madras) के पहले वर्ष की छात्रा फात‍िमा लतीफ (Fathima Lateef) का शव उनके हॉस्‍टल के कमरे में पाया गया.

9 नवंबर को फात‍िमा लतीफ (Fathima Lateef) की मौत के बाद इस पूरे मामले को श‍िक्षकों के उत्‍पीड़न से जोड़कर देखा गया. हालांकि इस मामले पर जांच चल रही है. लेकिन इस बात से इंकार नहीं क‍िया जा सकता है क‍ि सफलता की चाहत और खुद को साबित करने की होड़ में कई बार छात्र खुद पर दबाव महसूस करने लगते हैं और इसे बरदाश्‍त नहीं कर पाते.

ऐसे बहुत से उदाहरण देखने को मिले हैं, ज‍िसमें छात्र ने IITs में एडमिशन तो ले लिया लेकिन उसे इंजीनियर बनने की कभी चाहत थी ही नहीं.

यह भी पढ़ें:
IIT के छात्रों पर हुई पैसों की बरसात, मिला 1.18 करोड़ का पैकेज

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए करियर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 3, 2019, 1:51 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर