NEET, JEE exams 2020: 90 प्रतिशत स्टूडेंट्स नीट और जेईई की परीक्षा देना चाहते हैं, लेकिन...

NEET, JEE exams 2020: 90 प्रतिशत स्टूडेंट्स नीट और जेईई की परीक्षा देना चाहते हैं, लेकिन...
नीट और जेईई की परीक्षाएं कोरोना के चलते दो बार स्थगित की जा चुकी हैं.

ज्वाइंट एंट्रेंस एग्जामिनेशन (Joint Entrance Examination) यानी जेईई मेन (JEE Main) की परीक्षा 1 से 6 सितंबर तक होगी, वहीं नेशनल एलिजिबिलिटी एंट्रेंस टेस्ट (National Eligibility Entrance Test) यानी नीट (NEET) का एग्जाम 13 सितंबर को होना है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 31, 2020, 9:47 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. नेशनल एलिजिबिलिटी एंट्रेंस टेस्ट (National Eligibility Entrance Test) यानी नीट (NEET) और ज्वाइंट एंट्रेंस एग्जामिनेशन (Joint Entrance Examination) यानी जेईई मेन (JEE Main) के आयोजन को लेकर देशभर में घमासान मचा है. जेईई मेन की परीक्षाएं 1 से 6 सितंबर तक आयोजित होनी है, जबकि नीट का एग्जाम 13 सितंबर को होगा. हालांकि देशभर में इन परीक्षाओं को टालने को लेकर प्रदर्शन किए जा रहे हैं और राजनीतिक दल भी इस मामले में लामबंद हो चुके हैं. बावजूद इसके सरकार और सुप्रीम कोर्ट ने साफ कर दिया है कि नीट और जेईई की परीक्षाएं रद्द नहीं की जाएंगी. इस बीच, भाजपा के वरिष्ठ नेता कैलाश विजयवर्गीय ने इस मामले में पश्चिम बंगाल (West Bengal) की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर निशाना साधा है.

दावा: प. बंगाल के 90 फीसदी स्टूडेंट्स परीक्षा देना चाहते हैं
कैलाश विजयवर्गीय ने दावा किया है कि पश्चिम बंगाल के 90 प्रतिशत स्टूडेंट्स नीट और जेईई मेन की परीक्षाएं देना चाहते हैं, लेकिन राज्य की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी उनका भविष्य बर्बाद करने पर तुली हैं. बता दें कि ममता बनर्जी ने देश में कोरोना वायरस संक्रमण के लगातार बढ़ते मामलों के मद्देनजर नेशनल एलिजिबिलिटी एंट्रेंस टेस्ट और ज्वाइंट एंट्रेंस एग्जामिनेशन की सितंबर में होने वाली परीक्षाएं टालने की मांग की है.

टाइम्स आफ इंडिया की रिपोर्ट के अनुसार, कैलाश विजयवर्गीय ने कहा, पश्चिम बंगाल सरकार स्टूडेंट्स के भविष्य के साथ खिलवाड़ कर रही है. भाजपा नेता ने यहां तक आरोप लगाया कि मुख्यमंत्री ममता बनर्जी 2021 में होने वाले विधानसभा चुनावों से पहले राज्य को हिंसा के रास्ते पर झोंकना चाहती हैं. पश्चिम बंगाल की जनता लोकतंत्र में विश्वास रखती है जबकि ममता बनर्जी हिंसा का विश्वास हिंसा में है.
ये भी पढ़ें


दिल्ली के लेफ्टिनेंट गवर्नर अनिल बैजल ने जेईई-नीट परीक्षा कराने की दी अनुमति!
NEET 2020: परीक्षा में रह गए हैं बस कुछ ही दिन, कम समय में ऐसे करें तैयारी

निशंक पर निशाना
इससे पहले ममता बनर्जी ने कोलकाता में हुई तृणमूल कांग्रेस की छात्र परिषद की वर्चुअल रैली में लोगों को संबोधित करते हुए भाजपानीत केंद्र सरकार के खिलाफ आगामी विधानसभा चुनाव में करो या मरो का नारा दिया था. इस बीच, राज्य के शिक्षा मंत्री पार्थ चटर्जी ने केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक पर हमला बोलते हुए कहा है कि जब परिवहन व्यवस्था पूरी तरह संचालित नहीं की जा रही है तो बच्चों के भविष्य को खतरे में क्यों डाला जा रहा है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज