Home /News /career /

कोरोना वायरस के खिलाफ जंग में आगे आए 'अब्दुल कलाम' के कर्मवीर!

कोरोना वायरस के खिलाफ जंग में आगे आए 'अब्दुल कलाम' के कर्मवीर!

सईद भोपाली का मंगलवार को फिर एक नया वीडियो वायरल हुआ है. (Demo Pic)

सईद भोपाली का मंगलवार को फिर एक नया वीडियो वायरल हुआ है. (Demo Pic)

कोरोना वायरस (Coronavirus) के खिलाफ जंग में सभी अपनी-अपनी तरह से योगदान दे रहे हैं.

    नई दिल्ली. जानलेवा महामारी कोरोना वायरस (Coronavirus) के खिलाफ जंग में दुनियाभर के लोग एकजुट हो रहे हैं. अपनी-अपनी क्षमता के अनुसार सभी इस लड़ाई में अपना योगदान देते नजर आ रहे हैं. भारत में भी हालात अलग नहीं हैं. यहां इस महामारी के चलते अभी तक करीब 900 लोगों की जान जा चुकी है. यहां कोरोना के खिलाफ लड़ाई में अब यूनिवर्सिटी भी आगे आ रहीं हैं. इसी कड़ी में डॉक्टर अब्दुल कलाम टेक्निलक यूनिवर्सिटी (Dr APJ Abdul Kalam Technical University) ने भी मदद के हाथ बढ़ाए हैं.

    कलाम अन्नक्षेत्र
    दरअसल, हिंदुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, अब्दुल कलाम टेक्निकल यूनिवर्सिटी (Dr APJ Abdul Kalam Technical University) ने अपने कम्युनिटी किचन ‘कलाम अन्नक्षेत्र’ के जरिये गरीबों को खाना खिलाने की शुरुआत की है. यूनिवर्सिटी के वाइस चांसलर विनय कुमार पाठक के अनुसार, शुरुआत में हर रोज 1000 जरूरतमंदों को खाने के पैकेट दिए जा रहे थे, लेकिन अब 1750 लोगों को खाना मुहैया कराया जा रहा है.

    अब तक 43500 लोग
    अब्दुल कलाम टेक्निकल यूनिवर्सिटी (Dr APJ Abdul Kalam Technical University) के वाइस चांसलर विनय कुमार पाठक के अनुसार, टीचर्स, नॉन टीचिंग स्टाफ, प्राइवेट वेंडर्स, एफिलिएटेड इंस्टीट्यूशंस और प्राइवेट कॉलेज भी इस काम में हाथ बंटा रहे हैं ताकि कोई भूखे पेट न सो सके. डिनर पैकेट देने का ये सिलसिला कुछ समय पहले शुरू हुआ था और अब तक 43500 लोगों को कलाम अन्नक्षेत्र के जरिये खाना दिया जा चुका है.

    रात का खाना
    बता दें कि कोरोना वायरस (Coronavirus) के चलते भारत में करीब 900 लोगों की मौत हो चुकी है. कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए देश में लॉकडाउन की अवधि 3 मई तक बढ़ाई गई थी. वाइस चांसलर विनय पाठक ने साथ ही कहा, हम जरूरतमंदों को डिनर पैकेट उपलब्ध करा रहे हैं, वो इसलिए क्योंकि अधिकतर संस्थाएं जरूरतमंदों को दिन में खाना उपलब्ध करा रही हैं.

    राशन पहुंचाने का भी इंतजाम
    यूनिवर्सिटी के प्रवक्ता आशीष मिश्रा ने बताया कि जरूरतमंदों को भोजन उपलब्ध कराते वक्त हमें ये पता चला कि कई लोगों के पास पैसे हैं, लेकिन वे राशन खरीद नहीं पा रहे हैं. ऐसे में यूनिवर्सिटी ने तय किया है कि ऐसे लोगों तक राशन पहुंचाने का काम भी किया जाएगा. उन्होंने साथ ही बताया कि ये राशन लगभग एक महीने के लिए काफी रहेगा.

    यूपी में नहीं बढ़ेगी स्कूल फीस, माध्यमिक शिक्षा विभाग ने जारी किया आदेश

    जरूरी खबर : जेईई एडवांस पर आई बड़ी अपडेट, अब इस तारीख को हो सकती है परीक्षा!

    Tags: Dr. A P J Abdul Kalam, Education, HRD ministry, University

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर