लाइव टीवी

IIT दिल्‍ली के बाद अब DU भी मांगेगा पुराने छात्रों से डोनेशन, जानें क्‍या है वजह

News18Hindi
Updated: December 24, 2019, 9:08 AM IST
IIT दिल्‍ली के बाद अब DU भी मांगेगा पुराने छात्रों से डोनेशन, जानें क्‍या है वजह
क्यूएस वर्ल्ड यूनिवर्सिटी रैंकिंग (QS World University Ranking) में भी डीयू ने टॉप 500 में अपनी जगह बनाई है.

दिल्‍ली यूनिवर्सिटी को हाल ही में सरकार ने इंस्‍ट‍िट्यूट ऑफ ऐमिनेंस का टैग दिया है, जिसके आधार पर विश्‍वविद्यालय को अगले पांच वर्षों में एक हजार करोड़ रुपये का फंड प्राप्‍त होगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 24, 2019, 9:08 AM IST
  • Share this:
नई द‍िल्‍ली: हाल ही में आईआईटी दिल्‍ली ने अपने पुराने छात्रों से डोनेशन देने को कहा था. अब दिल्‍ली यूनिवर्सिटी भी कुछ ऐसा ही करने जा रही है. दिल्‍ली यूनिवर्सिटी (Delhi University) के कॉलेजों में पढ़ाई कर चुके पूर्व छात्रों से विश्‍वविद्यालय डोनेशन मांगेगा. दरअसल, पुराने छात्रों के डोनेशन से विश्‍वविद्यालय एक 'डीयू एंडाउमेंट फंड' करने की तैयारी कर रहा है. इस फंड का इस्‍तेमाल छात्रों को बेहतर शिक्षा और सुविधा देने के लिये होगा. इसके जरिये एक हजार करोड़ रुपये जुटाने का लक्ष्‍य रखा गया है.

पुराने छात्रों के नाम पत्र:
दिल्‍ली यूनिवर्सिटी के वीसी ने इस बाबत विश्‍वविद्यालय के सभी पुराने छात्रों के नाम एक पत्र जारी किया है. अपने पत्र में डीयू के वीसी ने पुराने छात्रों से फंड देने की अपील की है. बता दें कि दिल्‍ली यूनिवर्सिटी को हाल ही में सरकार ने इंस्‍ट‍िट्यूट ऑफ ऐमिनेंस का टैग दिया है, जिसके आधार पर विश्‍वविद्यालय को अगले पांच वर्षों में एक हजार करोड़ रुपये का फंड प्राप्‍त होगा. विश्‍वविद्यालय को यह फंड, उन अकादमिक पहल के लिये दिया जाएगा, जिसमें वह पीछे है और फंड मिलने के बाद विश्‍वविद्यालय उस क्षेत्र में कार्य आगे बढ़ा सकेगा.

वीसी ने अपने पत्र में इस बात का जिक्र किया है कि सरकार ने जो इंस्‍ट‍िट्यूट ऑफ ऐमिनेंस का टैग दिया है, उसकी मदद से टीचिंग और रिसर्च में कई नई अकादमिक गतिविधियां शुरू करने मदद मिलेगी. बाहर की प्रतिभाओं को लाने और स्‍टेकहोल्‍डर बनाने में भी इस टैग से मदद मिलेगी. वीसी ने endowment@du.ac.in पर पुराने छात्रों से सुझाव भी मांगे हैं.



क्यूएस वर्ल्ड यूनिवर्सिटी रैंकिंग (QS World University Ranking) में भी डीयू ने टॉप 500 में अपनी जगह बनाई है. अपने पत्र में वीसी ने लिखा है कि यूनिवर्सिटी को अगले 10 वर्षों में टॉप-100 का हिस्‍सा बनाना है. ऐसा करने के लिये छात्रों व शिक्षकों को उच्‍च स्‍तरीय मॉडर्न रिसर्च सुविधाओं और इंफ्रास्‍ट्रक्‍चर देना होगा. ऐसे में अगर पुराने छात्र फंड जुटाने में मदद करते हैं तो उन्‍हें 100 फीसदी टैक्‍स छूट प्राप्‍त होगी. पुराने छात्रों का परिवार भी डोनेशन दे सकता है.



दिल्‍ली यूनिवर्सिटी जुटाए गए फंड और उसके खर्च का पूरा ब्‍योरा अपनी वेबसाइट पर अपलोड करेगी और साथ ही सीएजी इसकी ऑडिंग भी करेगा. यानी फंड देने वाले छात्रों को यह मालूम रहेगा कि उनके डोनेशन का इस्‍तेमाल कैसे और कहां हो रहा है. छात्र अपने इच्‍छा के अनुसार किसी निश्‍चित क्षेत्र या विभाग के लिये भी फंड दे सकते हैं. जुटाए गए फंड का 50 फीसदी हिस्‍सा छात्राओं के लिये सुरक्षित रहेगा.

यह भी पढ़ें- JNU ने 6 छात्रों को किया निष्‍कासित, फैसले पर छात्र संघ ने जताया ऐतराज
केंद्रीय विद्यालयों में 6,000 पदों पर टीचर्स भर्ती प्रक्रिया जल्‍द होगी शुरू

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए करियर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 24, 2019, 8:55 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading