बड़ा कदम : 23 साल का इंतजार खत्म, प्रसार भारती ने गठित किया अपना रिक्रूटमेंट बोर्ड

बड़ा कदम : 23 साल का इंतजार खत्म, प्रसार भारती ने गठित किया अपना रिक्रूटमेंट बोर्ड
प्रसार भारती (Prasar Bharati) की स्थापना साल 1997 में हुई थी, तब से लेकर अब तक रिक्रूटमेंट बोर्ड (Recruitment Board) के गठन का काम नहीं किया जा सका था.

प्रसार भारती (Prasar Bharati) की स्थापना साल 1997 में हुई थी, तब से लेकर अब तक रिक्रूटमेंट बोर्ड (Recruitment Board) के गठन का काम नहीं किया जा सका था.

  • Share this:
नई दिल्ली. आखिरकार 23 साल के लंबे इंतजार के बाद पब्लिक ब्रॉडकास्टर प्रसार भारती (Prasar Bharati) ने अपना रिक्रूटमेंट बोर्ड गठित कर ही लिया. अब ये रिक्रूटमेंट बोर्ड दूरदर्शन और आल इंडिया रेडिया में प्रसार भारती की नियुक्तियों की जरूरतों को पूरा करेगा. आधिकारिक आदेश के अनुसार, भारत प्रकाशन के डायरेक्टर जगदीश उपासने इस रिक्रूटमेंट बोर्ड के पहले चेयरमैन होंगे. प्रसार भारती रिक्रूटमेंट बोर्ड (Prasar Bharati Recruitment Board) में छह सदस्य होंगे. स्वायत्त संस्था होने के बावजूद प्रसार भारती के पास अभी तक खुद का रिक्रूटमेंट बोर्ड नहीं था.

23 साल से लंबित था मामला
हिंदुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, प्रसार भारती (Prasar Bharati) के चेयरमैन ए. सूर्यप्रकाश ने बताया कि प्रसार भारती की स्वायत्तता को और मजबूत करने की दिशा में ये अहम कदम है, जो पिछले 23 साल से लंबित था. प्रसार भारती अब खास श्रेणियों में फुल टाइम आधार पर अधिकारियों की नियुक्ति कर सकेगा. प्रसार भारती (ब्रॉडकास्टिंग कॉरपोरेशन आफ इंडिया) एक्ट, 1990 के अनुसार एक या अधिक रिक्रूटमेंट बोर्ड बनाए जाने थे, लेकिन इतने सालों में प्रसार भारती और केंद्र सरकार इसे लेकर एक पाले में नहीं आ सके.

ये भी पढ़ें
बड़ी खबर: टल सकता है CA का एग्जाम, अगले हफ्ते सुप्रीम कोर्ट में होगी सुनवाई



UPSC इंजीनियरिंग सर्विस & Geo-Scientist 2020 मेन एग्जाम स्थगित, पढ़ें डिटेल

रिपोर्ट के अनुसार, एक वरिष्ठ अधिकारी ने ये भी कहा था, इतने सालों में प्रसार भारती रिक्रूटमेंट बोर्ड इसलिए नहीं बनाया जा सका क्योंकि सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय और प्रसार भारती के बीच इसके ढांचे को लेकर मतभेद थे. या फिर हो सकता है कि किसी और वजह से ऐसा नहीं हो सका था. प्रसार भारती के सीईओ शशि शेखर ने सूचना एवं प्रसारण मंत्री प्रकाश जावडेकर और सचिव अमित खरे का इस मामले में बैठक कर फैसले तक पहुंचने के लिए आभार जताया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज