MHRD ने मांगे सुझाव- भारत में रहकर कैसे पढ़ें ज्यादा छात्र, AICTE बना रहा है 'स्थिति रिपोर्ट'

MHRD ने मांगे सुझाव- भारत में रहकर कैसे पढ़ें ज्यादा छात्र, AICTE बना रहा है 'स्थिति रिपोर्ट'
समिति को 15 दिनों में रिपोर्ट पेश करनी है.

एआईसीटीई के अध्यक्ष ने कहा, हमने इस बात पर जोर दिया है कि छात्र देश को आत्मनिर्भर बनाने की दिशा में अपनी शिक्षा के साथ और क्या क्या कर सकते हैं.

  • Share this:
नई दिल्ली. अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद (All India Council for Technical Education, AICTE) विदेशों में शिक्षा प्राप्त करने वाले भारतीय छात्रों और उन्हें आकर्षित करने को लेकर ‘स्थिति रिपोर्ट’ तैयार कर रहा है. इसमें यह ब्यौरा होगा कि कितने छात्र विदेशों में पढ़ने जाते हैं. भारत में कहां ऐसी सुविधाएं उपलब्ध हैं. कोविड-19 के कारण विदेशों से स्वदेश वापसी करने वाले भारतीय छात्र कैसे सुचारू रूप से पढ़ाई कर सकते हैं. साथ ही बाहर जाने वाले छात्रों को कैसे आकर्षित किया जा सकता है.

‘भारत में रहे, भारत में पढ़े’ पर खास ध्यान
एआईसीटीई के अध्यक्ष अनिल सहस्रबुद्धे ने न्यूज एजेंसी से इंटटरव्यू में कहा, हम एक स्थिति रिपोर्ट तैयार कर रहे हैं जिसमें ‘भारत में रहे, भारत में पढ़े’ पर खास ध्यान दिया जायेगा. यह रिपोर्ट 7-8 दिन में तैयार हो जायेगी. उन्होंने कहा कि इस उद्देश्य के लिये कुलपतियों एवं संस्थानों के निदेशकों आदि से विचार विमर्श किया जायेगा ताकि कुछ अच्छे सुझाव सामने आ सकें.

सहस्रबुद्धे ने कहा कि इस कड़ी में शनिवार को तकनीकी संस्थानों एवं विश्वविद्यालयों के कुलपतियों से विमर्श शुरू हो गया है.
मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने मांगे थे सुझाव


गौरतलब है कि मानव संसधन विकास मंत्रालय ने शुक्रवार को विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) के अध्यक्ष के नेतृत्व में एक समिति गठित करने का निर्णय किया. भारत में रहकर अधिक छात्र पढ़ सकें तथा कोविड-19 के कारण विदेशों से भारतीय छात्र सुचारू रूप से स्वदेश वापसी कर सकें, समिति इससे संबंधित उपायों के बारे में अपने सुझाव देगी. समिति को 15 दिनों में रिपोर्ट पेश करनी है.

देश से बाहर पढ़ने वाले छात्रों की पसंद पर ध्यान
एआईसीटीई के अध्यक्ष सहस्रबुद्धे ने कहा कि रिपोर्ट तैयार करते समय हम यह ध्यान दे रहे हैं कि कितने छात्र देश से बाहर पढ़ रहे हैं. वे किस तरह के कोर्स को पसंद कर रहे हैं और भारत में कहां कहां इस तरह की सुविधाएं उपलब्ध हैं.

देश को आत्मनिर्भर बनाने की दिशा
आत्मनिर्भर भारत अभियान का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि हमने इस बात पर जोर दिया है कि छात्र देश को आत्मनिर्भर बनाने की दिशा में अपनी शिक्षा के साथ और क्या क्या कर सकते हैं.

देश में ‘हार्डवेयर’ का विकास 
उन्होंने कहा कि हाल ही में सरकार द्वारा चीन के 59 एप को प्रतिबंधित किये जाने की पृष्ठभूमि में क्या यहां के छात्र इस प्रकार का कोई एप तैयार कर सकते हैं, क्या वे किसी ‘हार्डवेयर’ का विकास कर सकते हैं जिनका हम आयात करते हैं. ऐसे कई विषयों पर विचार होगा.

ये भी पढ़ें-
सेंट जेवियर से निकाले 100 विद्यार्थी, निष्कासन के खिलाफ झारखंड HC में याचिका
GATE 2021: IIT बॉम्बे ने जारी किया पेपरों का शेड्यूल, जानें एलिजिबिलिटी क्राइटएरिया में हुए बदलाव

सहस्रबुद्धे ने कहा कि नवाचार को बढ़ावा देने के लिये ‘नेशनल एजुकेशन एलायंस फॉर टेक्नोलॉज’ पोर्टल भी तैयार किया गया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading