NEET के जरिए ही होगा अल्पसंख्यक संस्थानों में एडमिशन, SC ने दिया आदेश

NEET के जरिए ही होगा अल्पसंख्यक संस्थानों में एडमिशन, SC ने दिया आदेश
शराब की दुकानें बंद करने की याचिका सुप्रीम कोर्ट ने की खारिज.

सुप्रीम कोर्ट का यह आदेश निजी एवं गैर सहायता प्राप्‍त अल्पसंख्यक व्यावसायिक संस्‍थानों पर भी लागू होगा. यानी निजी एवं अल्पसंख्यक संगठनों द्वारा संचालित संस्‍थानों में भी एडमिशन के लिए अब नीट की परीक्षा पास करना जरूरी होगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 30, 2020, 12:20 PM IST
  • Share this:
नई दिल्लीः सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court of India) ने अपने एक आदेश में कहा कि राष्‍ट्रीय पात्रता सह प्रवेश परीक्षा,नीट (National Eligibility cum Entrance Test, NEET examination) किसी भी तरह से अल्पसंख्यकों द्वारा अपना खुद का संस्थान चलाने और शिक्षा देने के अधिकारों का हनन नहीं करती. यह आदेश निजी एवं गैर सहायता प्राप्‍त अल्पसंख्यक व्यावसायिक संस्‍थानों पर भी लागू होगा. यानी निजी एवं अल्पसंख्यक संगठनों द्वारा संचालित संस्‍थानों में भी एडमिशन के लिए अब नीट की परीक्षा पास करना जरूरी होगा. सुप्रीम कोर्ट ने ऐसा कहते हुए कई अल्पसंख्यक संस्थानों द्वारा दायर की गई याचिका को खारिज कर दिया है.

कोर्ट ने कहा, 'एक समान प्रवेश परीक्षा (नीट) तर्कसंगत है और इसका इसका मकसद मेडिकल शिक्षा में पनप रहीं तमाम खामियों और मेरिट में अंक प्राप्त करने वाले छात्रों से कैपिटेशन फीस लेकर उन्हें प्रवेश देने की प्रवृत्ति पर रोक लगाने के साथ शिक्षा में शोषण तथा इसके व्यवसायीकरण को रोकना है. पीठ ने कहा कि भारतीय चिकित्सा परिषद कानून के प्रावधान और नियम असंवैधानिक नहीं है और न ही वे सहायता प्राप्त व सहायता नहीं पाने वाले अल्पसंख्यक संस्थानों को संविधान के अलग अलग प्रावधानों में दिए गए अधिकारों का हनन करते हैं.

बता दें कि नीट के इन प्रावधानों का चुनौती देने का मामला काफी पहले से चल रहा है. कुछ गैर सहायता प्राप्त निजी अल्पसंख्यक संस्थानों ने अपने यहां प्रवेश को नीट के जरिए करवाए जाने को चुनौती दी थी. उनका कहना था कि इससे उनके भाषाई और धार्मिक अल्पसंख्यकों को शिक्षण संस्थान चलाने और प्रबंधन के अधिकार का उल्लंघन होता है. हालांकि, सुप्रीम कोर्ट ने उनकी ये दलील खारिज कर दी और कहा कि अनुच्छेद 30 में मिला अधिकार कानून और संविधान के अन्य प्रावधानों से ऊपर नहीं है. इस पर तर्कसंगत मानक तय किए जा सकते हैं..
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज