मेडिकल छात्रों के लिए बड़ी खबर, PoJKL कॉलेजों से पढ़ने वाला भारत में डॉक्टरी की प्रैक्टिस नहीं कर सकता: मेडिकल एजुकेशन रेगुलेटर

बोर्ड ऑफ गवर्नर्स ने ये जानकारी नोटिस जारी कर दी है.

अवैध रूप से कब्जाए गए भारत के इलाकों में स्थित चिकित्सा कॉलेजों से शिक्षा प्राप्त करने वाला व्यक्ति भारत में आधुनिक चिकित्सा की प्रैक्टिस करने के लिए योग्य नहीं होगा.

  • Share this:
    नई दिल्ली. भारत के शीर्ष चिकित्सा शिक्षा नियामक (Medical education regulator) ने कहा है कि पाकिस्तान के कब्जे वाले जम्मू कश्मीर और लद्दाख (पीओजेकेएल) स्थित मेडिकल कॉलेजों से शिक्षा प्राप्त करने वाला कोई भी व्यक्ति भारत में आधुनिक चिकित्सा की प्रैक्टिस करने के योग्य नहीं होगा.

    बोर्ड ऑफ गवर्नर्स
    भारतीय चिकित्सा परिषद की जगह लाए गए ‘बोर्ड ऑफ गवर्नर्स’ (बीओजी) ने 10 अगस्त को एक सार्वजनिक सूचना में कहा कि समूचा जम्मू कश्मीर और लद्दाख क्षेत्र भारत का अभिन्न अंग है. नोटिस में कहा गया, ‘‘पाकिस्तान ने क्षेत्र के एक हिस्से पर अवैध और जबरन कब्जा कर रखा है.’’

    महासचिव डॉक्टर आर के वत्स द्वारा जारी नोटिस
    बीओजी के महासचिव डॉक्टर आर के वत्स द्वारा जारी नोटिस में कहा गया है, ‘‘तदनुसार, पाकिस्तान के कब्जे वाले जम्मू कश्मीर और लद्दाख क्षेत्र स्थित किसी भी चिकित्सा संस्थान को भारतीय चिकित्सा परिषद अधिनियम, 1956 के तहत अनुमति और मान्यता की जरूरत है.’’

    नोटिस में कहा गया कि पीओजेकेएल स्थित ऐसे किसी भी चिकित्सा संस्थान को इस तरह की अनुमति नहीं दी गई है.

    ये भी पढ़ें-
    NEP के तहत 300 से ज्यादा कॉलेजों को मान्यता नहीं दे पाएंगे विश्वविद्यालय
    IAS Success Story: 22 साल की उम्र में पहले अटेम्पट में पास की UPSC परीक्षा
    अवैध रूप से कब्जाए गए भारत
    इसमें कहा गया है, ‘‘इसलिए, अवैध रूप से कब्जाए गए भारत के इन इलाकों में स्थित चिकित्सा कॉलेजों से शिक्षा प्राप्त करने वाला व्यक्ति भारत में आधुनिक चिकित्सा की प्रैक्टिस करने के लिए भारतीय चिकित्सा परिषद अधिनियम 1956 के तहत पंजीकरण हासिल करने के योग्य नहीं होगा.’’

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.