दिलचस्प खबर: कॉलेज ने बस में बनाई लाइब्रेरी, बच्चों तक पहुंचाई जा रही किताबें

दिलचस्प खबर: कॉलेज ने बस में बनाई लाइब्रेरी, बच्चों तक पहुंचाई जा रही किताबें
कोरोना वायरस के चलते देशभर के शिक्षण संस्थन छह महीने से बंद हैं. (प्रतीकात्मक लाइब्रेरी)

कोरोना वायरस (Coronavirus) के प्रकोप के बीच सोशल डिस्टेंसिंग (Social Distancing) के नियमों का पालन करते हुए बस की खिड़की से उपलब्ध कराई जा रही है किताबें

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 10, 2020, 9:22 AM IST
  • Share this:
आशिका सिंह
कोलकाता. कोरोना वायरस से उपजे हालात के बीच देश के करोड़ों छात्र—छात्राओं तक शिक्षा पहुंचाना भी किसी चुनौती से कम नहीं है. स्कूल और कॉलेज समेत देशभर के शिक्षण संस्थान करीब छह महीने से बंद पड़े हैं. केंद्र सरकार ने 16 मार्च को ही इन्हें बंद करने का ऐलान कर दिया था. इसके बाद ऑनलाइन पढ़ाई का चलन बढ़ा तो टीचर्स ने भी पढ़ाने के नए और अनोखे तरीके ईजाद करना शुरू कर दिया. ऐसी ही एक पहल पश्चिम बंगाल में भी की गई है.

...जिनके पास किताबें नहीं हैं
दरअसल, पश्चिम बंगाल के आसनसोल में कोरोना काल में बच्चों तक शिक्षा पहुंचाने के लिए एक इंजीनियरिंग कॉलेज ने नई पहल शुरू की है. आसनसोल इंजीनियरिंग कॉलेज ने बस में लाइब्रेरी बनाई है, जिसमें किताबें रखकर सड़कों पर उतारा गया है. बस में लाइब्रेरी बनाने का उद्देश्य उन छात्रों के बीच किताबों को पहुंचाना है, जिनके पास किताबें नहीं हैं.
लाइब्रेरी में इस तरह हो रही सोशल डिस्टेंसिंग
दिलचस्प बात ये है कि इस लाइब्रेरी में कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का भी पूरी तरह पालन किया जा रहा है. शारीरिक दूरी बनाये रखने के लिए बस की खिड़की से छात्रों को ये किताबें उपलब्ध कराई जा रही हैं. आसनसोल, दुर्गापुर से लेकर धनबाद तक ये मोबाइल लाइब्रेरी घूम रही है और बड़ी तादाद में छात्र भी इसका लाभ उठा रहे हैं.



टेक केयर, टीच देम...
इस बारे में कॉलेज की एक अधिकारी सी के रेशमा ने बताया, आसनसोल इंजीनियरिंग कॉलेज की ओर से ये एक पहल है. हमारा मोटिव है टेक केयर, टीच देम. महामारी के समय कॉलेज बंद है. लॉकडाउन के दौरान स्टूडेंट आ नहीं पा रहे. इसलिये हम लोगों ने बस को लाइब्रेरी में कन्वर्ट करने का फैसला किया. हम व्हाट्सऐप के जरिये स्टूडेंट्स से संपर्क कर रहे हैं और अलग-अलग जगह पर बस ले जा रहे हैं, ताकि अधिक से अधिक स्टूडेंट्स तक किताबें पहुंचा सकें.

ये भी पढ़ें
NEET 2020: आखिरी वक्त में ऐसे क्रैक करें एग्जाम, अपनाएं ये तरीका
शुरू हुआ बिटसेट काउंसिलिंग के लिए स्लॉट बुकिंग, bitsadmission.co पर करें चेक

मोबाइल लाइब्रेरी की मदद से किताबें पाने वाले एक स्टूडेंट ने कहा, लॉकडाउन के दौरान स्टूडेंट्स कॉलेज में आ नहीं पा रहे हैं. जिसके कारण मोबाइल लाइब्रेरी उनके घर तक जा रही है. कॉलेज की ओर से ये बहुत ही अच्छी पहल है जिससे स्टूडेंट्स को काफी सुविधा हुई है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज