बड़ी खबर: फर्स्ट डिवीज़न में पास होने वाली लड़कियों को दी जाएगी स्कूटी, राज्य सरकार ने किया फैसला

बड़ी खबर: फर्स्ट डिवीज़न में पास होने वाली लड़कियों को दी जाएगी स्कूटी, राज्य सरकार ने किया फैसला
राज्य सरका ने स्कूटी देने का फैसला किया है.

राज्य सरकार ने फर्स्ट डिवीज़न मे पास होने वाली लड़कियों को स्कूटी देने का फैसला किया है. इससे राज्य में महिलाओं की शिक्षा को लेकर तरक्की होगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 19, 2020, 11:51 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. राज्य में शिक्षा के स्तर को बढ़ाने के लिए सरकारें तरह तरह के प्रयास करती रहती हैं. खास कर लड़कियों की शिक्षा को लेकर कई तरह की स्कीमें भी लागू की जाती हैं. इसका बड़ा कारण यह है कि हमारा सामाजिक ताना-बाना कुछ ऐसा है कि कहीं न कहीं लड़कियों को अक्सर वे अवसर नहीं मिल पाते जो शायद लड़कों को मिल जाते हैं. शायद इसीलिए प्रधानमंत्री मोदी को 'बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ' स्कीम लानी पड़ी. हालांकि, इसके बावजूद देखा जाए तो शायद ही कोई ऐसा क्षेत्र है जिसमें लड़कियां लड़कों से पीछे दिखाई पड़ती हो. राजनीति से लेकर स्पेस रिसर्च तक सारे फील्ड्स में लड़कियां बेहतर परफॉर्म कर रही हैं. हाल ही में जारी हुए बोर्ड रिजल्ट्स में भी लड़कियों ने कई राज्यों में लड़कों से बेहतर प्रदर्शन किया.

12वीं की छात्रा को दी जाएगी स्कूटी
इसी कड़ी में को प्रोत्साहन देने के लिए असम सरकार ने फैसला किया है कि जिन लड़कियों ने 12वीं कक्षा में फर्स्ट डिवीज़न प्राप्त किया है उन्हें राज्य सरकार की ओर से स्कूटी जी जाएगी. मंगलवार को राज्य के शिक्षा मंत्री हेमंत विस्व सर्मा ने कहा कि 'प्रज्ञान भारती स्कीम' के तहत असम उच्चतर माध्यमिक शिक्षा परिषद की 12वीं कक्षा में फर्स्ट क्लास पास होने वाली छात्राओं को स्कूटी का वितरण किया जाएगा. इस तरह से 22 हज़ार स्कूटी का वितरण किया जाना है.

सरकारी कॉलेज में रिज़र्व की जाएगी
इसके अलावा शिक्षा मंत्री ने ये भी कहा कि सरकारी कॉलेजों में स्टेट बोर्ड के स्टूडेंट्स के लिए 25 फीसदी सीटें रिज़र्व की जाएंगी. सरकार ने कहा है कि जिन छात्राओं को स्कूटी की जरूरत हो वे वेबसाइट -sebaonline.org - पर जाकर अप्लाई कर सकती हैं. हर स्कूटी के लिए बजट 50 से 55 हज़ार रुपये तय की गई है.



बेची नहीं जा सकेगा स्कूटी
एनडीटीवी के मुताबिक स्कूटी का वितरण 15 अक्टूबर, 2020 तक पूरा कर लिया जाएगा. खास बात है कि जो छात्राएं स्कूटी लेंगी वे उसे तीन साल के पहले बेच नहीं सकेंगी. शिक्षा मंत्री ने आगे कहा कि सरकारी स्कूलों में 25 फीसदी सीटें बढ़ा दी जाएंगी जो कि राज्य के छात्रों के लिए रिज़र्व की जाएंगी.

ये भी पढ़ेंः


असम बोर्ड 12वीं का रिजल्ट 25 जून को घोषित किया गया. डेढ़ लाख से ज्यादा स्टूडेंट्स ने इसमें भाग लिया था. परीक्षा में पास प्रतिशत 78.28 फीसदी था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज