बड़ी खबरः देशभर में आज से खुले स्कूल, जानिए क्या है आपके राज्य का हाल

21 सितंबर से स्कूलों को खोला जाना है.
21 सितंबर से स्कूलों को खोला जाना है.

Schools Reopening: आज यानी 21 सितंबर से स्कूलों को खोला जाना है. लेकिन अलग अलग राज्यों ने कोविड-19 की स्थितियों को देखते हुए अलग अलग फैसले लिए हैं. ऐसे में जानिए क्या है आपके राज्य की स्थिति.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 21, 2020, 8:21 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. पूरे देश में फैले कोरोना वायरस महामारी (Coronavirus Pandemic) के बीच आज यानी 21 सितंबर से स्कूलों को खोलने का सिलसिला शुरू होने जा रहा है. लेकिन चूंकि अभी भी कोरोना का कहर खत्म नहीं हुआ है इसलिए कुछ राज्यों में तो स्कूलों को खोलने की तैयारी हो गई है लेकिन कुछ राज्यों में अभी भी नहीं स्कूलों को नहीं खोला जा रहा. वहीं कुछ राज्यों में स्कूलों को कुछ शर्तों के साथ खोला जा रहा है. ऐसे में हम आपको बताते हैं कि किन राज्यों में क्या स्थिति है.

आंध्र प्रदेश
आंध्र प्रदेश सरकार ने 21 सितंबर से स्कूलों को आंशिक तौर पर खोलने का अनुमति दे दी है. हालांकि, छात्रों को इस बात की च्वाइस दी गई है कि वे फिजिकली या वर्चुअली किसी भी तरह से क्लासेज ले सकते हैं. यानी कि 9वीं से 12वीं तक से स्टूडेंट स्कूल जा भी सकते हैं और ऑनलाइन क्लासेज भी कर सकते हैं. सरकार द्वारा जारी आधिकारिक नोटिस में कहा गया कि स्कूलों को सोमवार से फिर से खोला जाएगा. 9वीं से 12वीं कक्षा के छात्र अपनी इच्छानुसार रेग्युलर क्लासेज ले सकते हैं या फिजिकली भी स्कूल जा सकते हैं.

असम
असम में भी स्कूलों को खोलने की अनुमति दे दी गई है. हालांकि, इसके लिए स्टैंडर्ड ऑपरेटिंग प्रोसीजर जारी किया गया है. ताकि बच्चों को कोरोना वायरस खतरे से बचाया जा सके. एसओपी के तहत क्लासेज को ऑल्टरनेट डेज़ में चलाया जाएगा. 9वीं और 12वीं कक्षा सोमवार, बुधवार और शुक्रवार को चलेगी जबकि 10वीं और 11वीं कक्षा गुरुवार, मंगलवार और शनिवार को चलेगी. वहीं सभी कक्षाओं के लिए छात्रों की संख्या 20 से कम होगी.



बिहार
बिहार में भी स्कूलों को खोलने की तैयारी हो गई है. हालांकि, लाइव हिंदुस्तान की खबर के मुताबिक 80 से 85 फीसदी पैरेंट्स अपने बच्चों को स्कूल नहीं भेजना चाहते. पैरेंट्स का कहना है कि कोरोना अभी पूरी तरह से खत्म नहीं हुआ है और चूंकि ऑनलाइन क्लासेज चल रही हैं इसलिए बच्चों को स्कूल भेजने की जरूरत नहीं है. साथ ही उनका यह भी कहना है कि स्कूल महीनों से बंद पड़े हैं ऐसे में धूल इत्यादि में बच्चों को जुकाम या सर्दी हो सकती है. हालांकि, स्कूलों की तरफ से सैनिटाइजेशन से लेकर सोशल डिस्टेंसिंग तक की पूरी तैयारी है. वहीं मास्क लगातार स्कूल न आने वाले बच्चों को भी मास्क देकर ही स्कूल के अंदर घुसने दिया जाएगा.

उत्तर प्रदेश
वहीं यूपी में स्कूलों को 30 सितंबर तक न खोले जाने का फैसला लिया गया है. यूपी के उप मुख्यमंत्री डॉ. दिनेश शर्मा ने रविवार को यह जानकारी दी. उन्होंने यह भी कहा कि 50 फीसदी अध्यापक स्कूल बुलाए जा सकेंगे. उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार की गाइडलाइन्स के मुताबिक 21 सितंबर से स्कूलों को खोला जाना था लेकिन राज्य में कोरोना वायरस महामारी के कारण हालात ऐसे नहीं हैं कि स्कूलों को खोला जाए इसलिए फिलहाल स्कूलों को बंद ही रखा जाएगा.

दिल्ली
वहीं दिल्ली में 5 अक्टूबर तक स्कूलों को बंद रखा जाएगा. अगर सीनियर स्कूलों को जरूरत महसूस हो तो वे टीचर्स से गाइडेंस के लिए स्कूल आ सकते हैं लेकिन फिलहाल किसी भी स्टूडेंट के लिए आंशिक तौर पर स्कूलों को नहीं खोला जाएगा.

गोवा
गोवा के मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत ने भी 2 अक्टूबर तक स्कूलों को बंद रखने का फैसला लिया है. मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार पहले कोविड-19 की स्थितियों का जायज़ा लेगी उसके बाद ही स्कूलों को खोला जाएगा.

पंजाब
पंजाब में कंटेनमेंट ज़ोन के बाहर के 9वीं से 12वीं कक्षा के छात्र अपनी इच्छानुसार अपने टीचर्स से गाइडेंस ले सकते हैं. वहीं पीएचडी स्कॉलर और पोस्ट ग्रेजुएट स्टूडेंट्स के लिए हायर एजुकेशन इन्सटीट्यूट्स को खोलने का फैसला लिया गया है.

ओडिशा, कर्नाटक, जम्मू कश्मीर
ओडिशा में सारे संस्थान दुर्गा पूजा तक बंद रहेंगे. कोविड -19 की स्थिति को देखते हुए मुख्यमंत्री नवीन पटनायक द्वारा यह फैसला लिया गया है. कर्नाटक में भी 9वीं से 12वीं के छात्रों के स्कूल आने पर रोक है. जम्मू कश्मीर में भी 50 पर्सेंट स्टाफ के साथ स्कूलों को खोला जाएगा. अधिकारियों का कहना है कि स्कूलों में सुरक्षा के सभी मानकों का पालन किया जाएगा.

ये भी पढ़ें-
दिल्ली HC का सरकार को निर्देश, DU प्रोफेसरों की पेंडिंग सैलरी का करे रिव्यू
ई-रिक्शा ड्राइवर का बेटा लंदन के ballet school के लिए ‘क्राउडफंड’ से जुटा रहा फीस

बता दें कि केंद्र सरकार द्वारा जारी नियम के मुताबिक 21 सितंबर से राज्य सरकार 9वीं कक्षा से ऊपर के लिए क्लासेज शुरू कर सकती है. हालांकि, छात्रों को इसकी सूचना स्कूल को देनी होगी कि वे क्लासेज लेने के लिए फिजिकली शामिल होंगे या कि ऑनलाइन क्लासेज लेंगे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज