CTET को लेकर बड़ा फैसला, सात साल के बजाय आजीवन होगी वैलिडिटी

CTET की वैलिडिटी को बढ़ाकर आजीवन कर दिया गया है.
CTET की वैलिडिटी को बढ़ाकर आजीवन कर दिया गया है.

CBSE Validity: एनसीटीई द्वारा जारी किए गए बयान में कहा गया कि सीटीईटी की वैधता अब आजीवन होगी. उत्तर प्रदेश टीटर्स एलिजिबिलिटी टेस्ट की वैधता सिर्फ पांच सालों के लिए है

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 21, 2020, 10:02 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेकेंडरी एजुकेशन (Central Board of Secondary Education, CBSE) ने सीटेट ((Central Teacher Eligibility Test, CTET) परीक्षा की वैलिडिटी को बढ़ा दिया है. अब इसकी वैलिडिटी सात साल के बजाय आजीवन कर दी गई है. नेशनल काउंसिल फॉर टीचर्स एजुकेशन, एनसीटीई ने यह फैसला 50वें जनरल एसेंबली मीटिंग में लिया गया. चूंकि सीटेट यूपी में टीचर्स के रिक्रूटमेंट में भी वैलिड है इसलिए राज्य के लाखों बेराजगार युवाओं को भी इससे फायदा मिलेगा.

13 अक्टूबर को एनसीटीई द्वारा जारी किए गए बयान में कहा गया कि सीटीईटी की वैधता अब आजीवन होगी. उत्तर प्रदेश टीटर्स एलिजिबिलिटी टेस्ट की वैधता सिर्फ पांच सालों के लिए है लेकिन सीटीईटी की वैधता आजीवन होने पर इसकी तरफ युवाओं का झुकाव बढ़ेगा.

साल में दो बार होती है परीक्षा
सीबीएसई साल में दो बार इस परीक्षा को आयोजित करवाता है. पहली परीक्षा जुलाई महीने में जबकि दूसरी परीक्षा दिसंबर में आयोजित की जाती है. सीटेट पहले पेपर में सफल होने वाले कैंडीडेट्स को पहली से पांचवी कक्षा के लिए टीचर्स के रिक्रूटमेंट के लिए योग्य माने जाते हैं. जबकि दूसरे पेपर में सफल होने वाले कैंडीडेट्स को 6ठीं से 8वीं कक्षा के लिए योग्य माना जाता है.
ये भी पढ़ें -


Bihar Board Exam: 10वीं और 12वीं के परीक्षा फॉर्म जमा करने की लास्ट डेट बढ़ी, जानिए नई तारीख
M.Phil और Phd कोर्सेज के लिए DUET आंसर-की हुई जारी, nta.ac.in पर करें चेक

इस परिवर्तन के बाद से सीटीईटी करने वाले युवाओं को थोड़ी राहत जरूर महसूस हो सकती है क्योंकि एक बार परीक्षा में सफल होने के बाद ये आजीवन वैलिड होगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज