• Home
  • »
  • News
  • »
  • career
  • »
  • BSEB 10th Result 2020 : बिहार बोर्ड की दसवीं क्लास में पास होने के लिए हर छात्र को करना होगा ये काम

BSEB 10th Result 2020 : बिहार बोर्ड की दसवीं क्लास में पास होने के लिए हर छात्र को करना होगा ये काम

एचपी टैट एग्जाम 26 जुलाई को आयोजित किया जाना था.

एचपी टैट एग्जाम 26 जुलाई को आयोजित किया जाना था.

BSEB 10th Result 2020 : बिहार बोर्ड की दसवीं कक्षा के परिणाम चेक करने के लिए biharboardonline.bihar.gov.in पर जाएं.

  • Share this:
    Bihar Board Class 10th Result 2020, BSEB 10th Result 2020 : बिहार बोर्ड की दसवीं क्लास के नतीजों का इंतजार 15 लाख से भी ज्यादा छात्र-छात्राएं कर रहे हैं. हालांकि पिछले करीब एक हफ्ते से रिजल्ट जारी करने की कवायद चल रही है, लेकिन बोर्ड ने अभी तक नतीजों का ऐलान नहीं किया है. हालांकि माना जा रहा है कि सोमवार को दसवीं का परीक्षा परिणाम जारी किए जाने की पूरी उम्मीद है. ऐसे में जबकि इस परीक्षा में बैठने वाले स्टूडेंट्स पास होने की दुआ कर रहे हैं, वहीं हम आपको बताने जा रहे हैं कि आखिर बिहार बोर्ड की दसवीं क्लास का एग्जाम पास करने के लिए छात्रों को क्या काम करना होगा.

    100 में से कम से कम 30 अंक
    दरअसल, इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार मिनिमम नंबर के पैमाने को देखते हुए छात्रों को 100 में से कम से कम 30 नंबर लाने जरूरी हैं और कुल 150 नंबर लाकर ही स्टूडेंट्स दसवीं की परीक्षा पास कर सकेंगे. एक छात्र को पास घोषित होने के लिए इंग्लिश व वैकल्पिक विषय को छोड़कर सभी विषयों में पास होना होगा. सोशल साइंस और साइंस समेत प्रैक्टिल विषयों में छात्र को थ्योरी और इंटरनल असेस्टमेंट दोनों में पास होना जरूरी होगा और इसके लिए 100 में से कम से कम 30 अंक लाने होंगे.

    ग्रेस नंबर बनेंगे सहारा
    बिहार बोर्ड (Bihar Board) ने ग्रेस नंबर देने की नीति अपना रखी है. इसके अनुसार, अगर कोई छात्र किसी एक विषय में 8 प्रतिशत और इससे कम नंबर व दो विषयों में 4-4 प्रतिशत व उससे कम नंबर से फेल हो जाता है तो ​उसे ग्रेस नंबर देकर अगली कक्षा में प्रमोट कर दिया जाता है. वहीं अगर कोई छात्र कुल 75 प्रतिशत अंक हासिल करता है और किसी एक विषय में 10 प्रतिशत से कम नंबर से फेल हो जाता है तो उसे पास घोषित कर दिया जाता है.

    पहली डिविजन के लिए 225 से 300 के बीच लाने होंगे नंबर
    ऐसे छात्र जो सिर्फ पास होने भर से संतुष्ट नहीं होते, उन्हें पहली डिविजन हासिल करने के लिए 225 से लेकर 300 तक अंक लाने होंगे. 225 और उससे कम अंक लाने वाले स्टूडेंट्स को सेकंड डिविजन मिलेगी. बिहार बोर्ड की दसवीं क्लास के पिछले साल के टॉपर सावन राज भारती ने कुल 97.2 प्रतिशत अंक हासिल किए थे. बिहार बोर्ड की मैट्रिक परीक्षा (Bihar Board Matric Exam 2020) में इस साल 15 लाख से अधिक स्टूडेंट्स ने हिस्सा लिया है.

    लॉकडाउन 4.0 के बाद कब खुलेंगे स्कूल-कॉलेज,कैसे होगी पढ़ाई, लें पूरी अपडेट

    रिजल्ट के पहले हरियाणा बोर्ड ने 10वीं के छात्रों के लिए जारी की नोटिस

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज