Board exams 2021: 10वीं, 12वीं में हाई स्कोर के लिए ये हैं तैयारी की टिप्स

छात्रों को अगर परीक्षा में बेहतर अंक हासिल करने हैं तो उन्‍हें रणनीति बनाकर तैयारी करनी होगी.

छात्रों को अगर परीक्षा में बेहतर अंक हासिल करने हैं तो उन्‍हें रणनीति बनाकर तैयारी करनी होगी.

प्रैक्टिकल परीक्षाएं मार्च में आयोजित की जाएंगी, बोर्ड परीक्षाएं मई के लिए निर्धारित है. परीक्षा की तैयारी के दौरान खाने-पीने का खास ध्‍यान रखने की जरूरत है. एक्‍ट‍िव रहने के लिये अच्‍छा और हेल्‍दी खाना खायें. इस दौरान फास्‍ट-फूड खाने से दूर रहें और खूब सारा पानी पियें.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 9, 2021, 6:04 PM IST
  • Share this:
सीबीएसई (CBSE) के साथ ही अन्‍य राज्यों के बोर्ड ने भी 10वीं और 12वीं बोर्ड परीक्षा 2021 के लिए तारीखें जारी कर दी हैं. परीक्षा में शामिल होने जा रहे छात्रों के पास तैयारी के लिये बस कुछ समय ही शेष बचे हैं. ऐसे में छात्रों को अगर परीक्षा में बेहतर अंक हासिल करने हैं तो उन्‍हें रणनीति बनाकर तैयारी करनी होगी. पढे़ं तैयारी के लिए टिप्स.

1. पढ़ाई के लिये टाइम-टेबल तैयार करें

हर विषय के लिए एक टाइमटेबल तैयार करें और उसे सख्‍ती से फॉलो भी करें. टाइम के अनुसार सिलेबस को बांट लें, ताकि एक ही विषय को लंबे समय तक पढ़ने में बोरियत महसूस ना हो. हर दिन के लिये एक टार्गेट बनाएं और उसे पूरा करें. अगर ऐसा करते हैं तो छात्र बोर्ड परीक्षा एग्‍जाम के पूरे सिलेबस को कवर कर सकते हैं.

2. शॉर्ट नोटिस तैयार करें
पढ़ने के दौरान महत्‍वपूर्ण बिन्‍दुओं और फॉर्मूलों का एक शॉर्ट नोट बना लें. ये शॉर्ट नोट आप अपनी भाषा में बनाएं. जिसे समझने में आपको आसानी हो. परीक्षा के वक्‍त, टॉपिक्‍स रिवाइज करने के लिये ये शॉर्ट नोट सबसे ज्‍यादा काम आते हैं. ऐसे भी किसी चीज को लिख लेने के बाद, वह ज्‍यादा समय तक याद रहती है.



3. सभी नोटिफिकेशन बंद करें:




मोबाइल पर आने वाले सभी नोटिफिकेशन को बंद कर दें. यहां तक कि खुद को मोबाइल से दूर कर लें. खासतौर से तब जब आप पढ़ाई कर रहे हों. क्‍योंकि मोबाइल की आवाज आपकी एकाग्रता तोड़ता है और किताबों पर केंद्रित करने में आपको काफी वक्‍त लग जाता है.

4. रूटीन बेहद जरूरी

पढ़ाई के लिये रूटीन होना जरूरी है. रूटीन के अनुसार चलेंगे तो तैयारी करना आसान हो जाएगा कौन सा विषय पढ़ें, यह तय करने में समय बरबाद किए बिना छात्र रूटीन की मदद से विषयों का चुनाव कर सकते हैं.

5. मदद मांगने में न हिचके

प्रैक्टिस करने पर एक ही तरह की गलती बार-बार हो रही है तो इसका मतलब है कि आपको उस टॉपिक का कॉन्सेप्ट क्लीयर नहीं है. बहुत से छात्र एक सी गलतियों को बार-बार दोहराते हैं, क्योंकि वे अपनी शंकाओं को स्पष्ट नहीं करते. इसलिए अपनी गलती को समझने के लिए टीचर से समझते हए झिझके नहीं.

CBSE की ओर से प्रैक्टिकल परीक्षाएं मार्च में आयोजित की जाएंगी, बोर्ड परीक्षाएं मई के लिए निर्धारित है.

सभी राज्यों की बोर्ड परीक्षाओं/ प्रतियोगी परीक्षाओं, उनकी तैयारी और जॉब्स/करियर से जुड़े Job Alert, हर खबर के लिए फॉलो करें- https://hindi.news18.com/news/career/

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज