यहां पर जिन्हें नौकरी से नहीं निकाला गया सरकार दे रही है उनकी पूरी सैलरी

इससे उस देश में बेरोजगारी की दर में और इजाफा होगा.
इससे उस देश में बेरोजगारी की दर में और इजाफा होगा.

अभी तक ब्रिटेन में सरकार की वेतन समर्थन योजना की वजह से अमेरिकी की तरह बेरोजगारी में भारी बढ़ोतरी नहीं हुई है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 13, 2020, 5:58 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. ब्रिटेन में अगस्त में बेरोजगारी की दर बढ़ गई है. यह इस बात का स्पष्ट संकेत है कि ब्रिटिश सरकार की ओर से दी जा रही वेतन-समर्थन योजना के इस महीने समाप्त होने के बाद देश में बेरोजगारी की दर में और इजाफा होगा.

Covid-19 jobless crisis: बेरोजगारी की दर 4.1 से बढ़कर 4.5 प्रतिशत
राष्ट्रीय सांख्यिकी कार्यालय ने मंगलवार को कहा कि अगस्त में समाप्त तीन माह की अवधि के दौरान बेरोजगारों की संख्या इससे पिछले तीन महीनों की तुलना में 1,38,000 बढ़ी है. इस तरह बेरोजगारी की दर 4.1 प्रतिशत से बढ़कर 4.5 प्रतिशत हो गई है.

Covid-19 jobless crisis: कर्मचारियों के पूरे वेतन का भुगतान सरकार कर रही है
अभी तक ब्रिटेन में सरकार की वेतन समर्थन योजना की वजह से अमेरिकी की तरह बेरोजगारी में भारी बढ़ोतरी नहीं हुई है. सरकार ऐसे कर्मचारियों के पूरे वेतन का भुगतान कर रही है जिन्हें नौकरी से निकाला नहीं गया है.



Covid-19 jobless crisis: ब्रिटेन की 30 प्रतिशत आबादी अवकाश पर
करीब 12 लाख लोगों ने इस योजना का लाभ लिया है. सरकार के लिए इसकी लागत 40 अरब पाउंड या 52 अरब डॉलर बैठ रही है. एक समय ब्रिटेन की 30 प्रतिशत आबादी अवकाश पर थी. हालांकि, ये कर्मचारी पिछले कुछ माह से काम नहीं कर रहे हैं, लेकिन इन्हें बेरोजगारों में नहीं गिना जा रहा है.

ये भी पढ़ें-
सामने आई इन फर्जी विश्वविद्यालयों की लिस्ट, भूलकर भी कभी न लें एडमिशन
आई.ए.एस. की परीक्षा में अब भी क्या है हिन्दी की स्थिति, पढ़ें डिटेल

Covid-19 jobless crisis: बेरोजगारी की दर में इजाफा 
यह कार्यक्रम अक्टूबर के अंत में समाप्त हो रहा है. इससे अवकाश पर चल रहे काफी लोगों को रोजगार गंवाना पड़ेगा. ऐसे में बेरोजगारी की दर में इजाफा हो सकता है. (भाषा के इनपुट के साथ)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज