बड़ी खबर: मई में होने वाला CA का एग्जाम रद्द, नवंबर चक्र के साथ होगा आयोजित

बड़ी खबर: मई में होने वाला CA का एग्जाम रद्द, नवंबर चक्र के साथ होगा आयोजित
मई सीए परीक्षा को नवंबर 2020 चक्र के साथ मिलाकर आयोजित किया जाएगा.

आईसीएआई को ‘‘नहीं अपनाने’’ और परीक्षा केंद्र के बदलाव के विकल्प पर भी लचीला रूख अपनाना चाहिए क्योंकि महामारी को लेकर परिस्थितियां लगातार बदल रही हैं.

  • Share this:
इंस्टीट्यूट ऑफ चार्टर्ड अकाउंटेंट्स ऑफ इंडिया (ICAI) ने सोमवार को सुप्रीम कोर्ट को सूचित किया कि 29 जुलाई से 16 अगस्त के बीच होने वाली CA परीक्षा को COVID-19 महामारी के कारण रद्द कर दिया गया है.

आईसीएआई की ओर से पेश वकील ने जस्टिस ए एम खानविलकर और संजीव खन्ना की पीठ को बताया कि अब मई सीए परीक्षा (May cycle CA exam) को नवंबर 2020 चक्र (merged with November 2020 cycle CA exam) के साथ मिलाकर आयोजित किया जाएगा.

शीर्ष अदालत वीडियो-कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए सुनवाई कर रही थी, जिसमें आईसीएआई द्वारा उपलब्ध कराए गए ऑप्ट आउट विकल्प को चुनौती दी गई थी.



‘इंडिया वाइड पेरेंट्स एसोसिएशन’ द्वारा इस याचिका में आरोप लगाया गया था कि यह विकल्प सीए की मई माह में होने वाली परीक्षा देने के इच्छुक अभ्यर्थियों के लिए पक्षपातपूर्ण है. याचिका में देश में इस परीक्षा के लिये और अधिक केन्द्र बनाने का निर्देश देने का भी अनुरोध किया गया था.
पीठ ने अपने आदेश में कहा, ‘‘आईसीएआई द्वारा छह जुलाई, 2020 को दाखिल अतिरिक्त हलफनामे के मद्देनजर जिसके अनुसार जुलाई, 2020 में होने वाली परीक्षा रद्द कर दी गयी है, इस याचिका में विचार के लिये अब और कुछ नहीं बचा है.’’ हालांकि, याचिकाकर्ता के वकील अलख आलोक श्रीवास्तव ने सीए की परीक्षाओं से संबंधित कुछ पहलुओं की ओर न्यायालय का ध्यान आकर्षित किया.

पीठ ने याचिकाकर्ता को इस संबंध में आईसीएआई को अपना प्रतिवेदन देने की अनुमति प्रदान की और कहा कि यह मिलने के बाद चार सप्ताह के भीतर इस पर फैसला किया जाये. इससे पहले, न्यायालय ने 29 जून को कहा था कि कोविड-19 महामारी के बीच आईसीएआई को परीक्षाओं का आयोजन करने में लचीला रूख अपनाना चाहिए और उम्मीदवारों की चिंताओं का भी ध्यान रखना चाहिए.

ये भी पढ़ें-
CBSE Board 12th Result 2020: जानिये दिल्‍ली में क‍ितने हुए फेल और क‍ितने पास
CBSE ने शुरू की पोस्ट-रिजल्ट काउंसलिंग, 1800 11 8004 पर करें कॉल

शीर्ष अदालत ने कहा था कि आईसीएआई को ‘‘नहीं अपनाने’’ और परीक्षा केंद्र के बदलाव के विकल्प पर भी लचीला रूख अपनाना चाहिए, क्योंकि महामारी को लेकर परिस्थितियां लगातार बदल रही हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज