CBSE Board Results 2019: पढ़िए सीबीएसई बोर्ड की मेरिट लिस्ट में आए सिद्धॉर्थ राय की सक्सेस स्टोरी

न्यूज 18 से बातचीत में सिद्धार्थ रॉय ने शेयर किया अपना अनुभव. जानिए कैसे सिद्धार्थ रॉय ने मेरिट लिस्ट में बनाई अपनी जगह.

Preeti George | News18 Chhattisgarh
Updated: May 2, 2019, 6:13 PM IST
CBSE Board Results 2019: पढ़िए सीबीएसई बोर्ड की मेरिट लिस्ट में आए सिद्धॉर्थ राय की सक्सेस स्टोरी
सिद्धार्थ रॉय
Preeti George | News18 Chhattisgarh
Updated: May 2, 2019, 6:13 PM IST
सीबीएसई बोर्ड ने गुरुवार को 12वीं की परीक्षा के नतीजे घोषित किए. टॉपर सूची में छत्तीसगढ़ के कोरिया जिले के चिरमिरी में रहने वाले सिद्धार्थ रॉय ने मेरिट लिस्ट में अपनी जगह बनाई है. सिद्धार्थ को H कैटेगरी में देश में सातवां रैंक हासिल हुआ है. सिद्धार्थ को कुल 500 में से 484 अंक मिलें हैं. सिद्धार्थ केन्द्रीय विद्यालय, चिरमिरी का छात्र है. सिद्धार्थ का पूरा परिवार उनकी इस उपलब्धि से काफी खुश है. सिद्धार्थ के माता-पिता दोनों एक प्राइवेट कंपनी में नौकरी करते हैं. घर में एक घोटी बहन है, जिसने अभी 10वीं की परीक्षा दी है. सिद्धार्थ कॉमर्स स्ट्रीम का छात्र है. सिद्धार्थ रॉय को पूर्व सीएम डॉ. रमन सिंह द्वारा भी सम्मान मिल चुका है. 10वीं क्लास में उन्होने स्टेट में टॉप किया था. पिता शंकर लाल रॉय का कहना है कि सिद्धार्थ शुरू से ही पढ़ाई को लेकर काफी गंभीर था. लेकिन हमने उसे कभी किसी चीज के लिए रोका नहीं. उसे जो करना होता था सिद्धार्थ वो ही करता था. सिद्धार्थ अपनी छोटी बहन के लिए भी रोल मॉडल है, उसकी पढ़ाई में भी मदद कर देते हैं. सिद्धार्थ आगे चलकर चार्टेड अकाउंटेंट बनना चाहते हैं. फिलहाल वो अपने ग्रेजुएशन की तैयारी कर रहे है. अच्छे कॉलेज में एडमिशन के लिए सिद्धार्थ अब अपनी तैयारी कर रहे हैं. न्यूज 18 से बातचीत में सिद्धार्थ रॉय ने शेयर किया अपना अनुभव. जानिए कैसे सिद्धार्थ रॉय ने मेरिट लिस्ट में बनाई अपनी जगह.

सिद्धार्थ अपनी दादी के साथ.


समर वेकेशन में भी की पढ़ाई:

सीबीएसई बोर्ड की मेरिट लिस्ट में जगह बनाने वाले सिद्धार्थ रॉय का कहना है कि उन्होने समर वेकेशन में भी काफी पढ़ाई की. अप्रैल-मई में हम समर वेकेशन मिलता है. इस दौरान मैने अपने सभी सब्जेक्ट का पूरा कोर्स खत्म कर दिया था. परीक्षा आते तक मेरे पास काफी समय था. परीक्षा से पहले मैने अच्छे से अपने विष्यों का रिविजन कर लिया था. उन्होने बताया कि 11वीं में थोड़ा कम प्रतिशत आया था. इस गैप को उन्होने 12वीं में कवर कर लिया.

जिस विषय को लेकर था नर्वस, उसी में मिले हाइयस्ट मार्क्स

सिद्धार्थ रॉय का कहना है उन्होने कोई कोचिंग नहीं ली है. घर पर ही पढ़ाई की है. एकाउंट्स विषय में उन्हे थोड़ा डर जरूर लगता था. उन्होने परीक्षा से पहले काफी सैंपल पेपर बनाए. अच्छे से तैयारी की. सिद्धार्थ ने कहना है कि एकाउंट्स को लेकर थोड़ा नर्वस था,लेकिन उसी में मुझे 99 प्रतिशत अंक मिला है. इकोनेमिक्स में भी मुझे 99 प्रतिशत अंक मिला. उनका कहना है कि अंग्रेजी में नंबर थोड़ा कम जरूर आया, नहीं तो 98 प्रतिशत अंक आ जाता.

chhatisgarh
टॉपर सिद्धार्थ रॉय परिवार के साथ.

पापा हैं मेरे लिए रोल मॉडल

सिद्धार्थ रॉय ने बताया कि उनका परीक्षा केंद्र घर से काफी दूर था. इस इलाके में बस भी नहीं जाती है. उनके पिता हादसे का शिकार हुए थे, उनके पैर में फ्रैक्चर था. उनका कहना है कि पैर में फ्रैक्चर होने के बावजूद पिता उन्हे परीक्षा केंद्र छोड़ने जाते थे. उनका कहना है कि पिता की ये मेहनत आज काम आई. उनका कहना है कि परिवार वालों का हमेशा से ही सपोर्ट रहा. किसी भी चीज के लिए कभी मना नहीं किया.

एमएस धोना के फैन हैं सिद्धार्थ

सिद्धार्थ रॉय क्रिकेट के बेहन शौकीन हैं. एमएस धोनी उन्हे बेहद पसंद हैं. पिता शंकर लाल रॉय का कहना है कि सिद्धार्थ एमएस धोनी का बहुत बड़ा फैन है. परीक्षा के दौरान सिद्धार्थ ने एमएस धोनी के कई मैच देखे. रात 12 बजे तक मैच देखता रहता था. हमे चिंता भी होती थी कि परीक्षा में कोई फर्क न पड़ जाए. लेकिन सिद्धार्थ एक ही बात कहता था कि मुझ पर विश्वास करिए और उसने अपनी बातों को सच कर दिया, हमारा नाम , पूरे छत्तीसगढ़ का नाम रौशन किया.

chhattisgarh
सिद्धार्थ रॉय पूर्व सीएम डॉ. रमन सिंह के हाथों सम्मानित हुए हैं.


कभी नहीं हारी उम्मीद

पिता शंकर लाल रॉय का कहना है कि सिद्धार्थ को बचपन से ही चलने में थोड़ी तकलीफ होती थी. लेकिन उसने कभी इस कमी को आड़े आने नहीं दिया. स्कूल में भी उसने कभी किसी तरह से कोई स्पेशल ट्रीटमेंट नहीं ली. सभी बच्चों के समान उसने भी पढ़ाई की. उनके पिता कहते है कि जब स्कूल के प्रिंसिपल सिद्धार्थ का फोटो लगाने की बात कहने थे,वो साफ मना कर देता था. वे अपने जूनियर की भी काफी मदद करता है.

ये भी पढ़ें:

गढ़चिरौली नक्सली हमले की सीएम भूपेश बघेल ने की निंदा, शहीद जवानों को दी श्रद्धांजलि 

राट सराफ अपहरण कांड में शामिल तीन आरोपियों को जेल, एक अभी भी फरार 

भिलाई के सेक्टर-9 अस्पताल के डॉक्टर को 3 साल की सजा, मरीज से रिश्वत लेते हुए थे गिरफ्तार

रायपुर में स्पा सेंटर की आड़ में चल रहा था सेक्स रैकेट, पुलिस ने 5 लड़कियों को लिया हिरासत में 

क क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स      
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...