• Home
  • »
  • News
  • »
  • career
  • »
  • Career Guidance: संस्कृत में पढ़ाई कर बनाएं करियर, सम्मान के साथ मिलेगा अच्छा पैसा

Career Guidance: संस्कृत में पढ़ाई कर बनाएं करियर, सम्मान के साथ मिलेगा अच्छा पैसा

Career Guidance: संस्कृत भाषा पढ़ने वालों के लिए करियर 
बनाने के बेहतरीन अवसर हैं.

Career Guidance: संस्कृत भाषा पढ़ने वालों के लिए करियर बनाने के बेहतरीन अवसर हैं.

Career Guidance: संस्कृत का ज्ञान रखने वालों के लिए करियर (Career) की बेहतरीन संभावनाएं (opportunity) हैं. यूजीसी नेट (NET) एग्जाम पास करके संस्कृत में रिसर्च (Research) किया जा सकता है. रिसर्च फैलोशिप एग्जाम पास करने के बाद स्टूडेंट्स को आर्थिक मदद (Financial Help) भी मिलती है.

  • News18Hindi
  • Last Updated :
  • Share this:

    नई दिल्ली, Career Guidance: संस्कृत (Sanskrit) ना सिर्फ भारत (India) बल्कि दुनिया (World) की सबसे पुरानी भाषा (Language) में से एक है. इसलिए इसे देवभाषा भी कहा जाता है. संस्कृत भाषा से कई भाषाएं जैसे हिंदी, पंजाबी, बांग्‍ला, मराठी आदि की उत्पत्ति हुई है. स्टूडेंट्स (Students) अब इस भाषा को करियर (Career) के तौर पर भी अपनाने लगे हैं. सबसे ख़ास बात यह है कि इस भाषा की जानकारी होने के बाद स्टूडेंट्स को जॉब (Job) के लिए कहीं भटकना नहीं पड़ता है. संस्कृत का ज्ञान पूजा-पाठ, कुंडली मिलान, सोलह संस्कारों का संपादन स्वरोजगार के बेहतरीन अवसर (Opportunity) देता है.

    ये हैं करियर की संभावनाएं:
    संस्कृत में करियर बनाने के लिए यूजीसी नेट (NET) एग्जाम पास करके संस्कृत में रिसर्च (Research) किया जा सकता है. रिसर्च फैलोशिप एग्जाम पास करने के बाद स्टूडेंट्स को आर्थिक मदद (Financial Help) भी मिलती है. इसके अलावा संस्कृत में साहित्य (literature) से संबंधित शॉर्ट टर्म कोर्सेज भी उपलब्ध हैं. इस भाषा में पाण्डुलिपि संरक्षण में भी अच्छे अवसर हैं, जिनके तहत इन्हें संरक्षित कर इंटरनेट पर अपलोड करना होता है. वहीं इस भाषा के जानकार कर्मकांड साथ-साथ संस्कृत के ट्रांसलेटर, राइटर और टीचर के तौर पर भी काम कर सकते हैं. सरकारी नौकरियों जैसे सेना में भी शास्त्री और आचार्यों की भर्ती की जाती है.

    ये हैं कोर्स और शैक्षणिक योग्‍यता:
    संस्‍कृत की शिक्षा पारंपरिक और आधुनिक, दोनों तरह से दी जाती है. संस्‍कृत में ग्रेजुएशन करने के लिए आपको किसी भी मान्‍यता प्राप्‍त कॉलेज से 12वीं क्लास संस्कृत सब्जेक्ट के साथ कम से कम 50 प्रतिशत अंकों से पास होना जरूरी है. इसके बाद आप संस्कृत भाषा में स्पेशलाइजेशन के साथ बैचलर ऑफ आर्ट या अन्य डिप्लोमा कोर्सेस में एडमिशन ले सकते हैं. संस्कृत भाषा को ऑनर्स कोर्स के तौर पर लेकर स्टूडेंट्स 3 साल की अवधि में अपनी ग्रेजुएशन डिग्री कंप्लीट कर सकते हैं. वहीं स्टूडेंट्स इस भाषा में एक वर्षीय डिप्लोमा कोर्स भी कर सकते हैं. इसके अलावा स्टूडेंट्स मास्टर ऑफ आर्ट्स इन संस्कृत भी कर सकते हैं. यह दो साल का कोर्स होगा. जबकि संस्कृत में रिसर्चर के तौर पर रिसर्च करने के लिए स्टूडेंट्स को डॉक्टरेट की डिग्री लेनी होगी जिसके लिए उन्हें पीएचडी करनी होगी.

    ये भी पढ़ें-
    Railway Naukri : रेल कारखाने में 10वीं पास के 400 से अधिक नौकरियां
    Northern Railway Recruitment 2021: उत्तर रेलवे में 10वीं पास के लिए नौकरी, इस डेट से शुरू होगा आवेदन

    विदेशों तक है संस्कृत की पहुँच:
    जो भी लोग संस्‍कृत को कमतर आंक रहे हैं उन्हें यह बात समझ लेनी चाहिए कि यह भाषा पूरे देश में भाषायी तौर पर 15 यूनिवर्सिटी में पढाई जाती है. भारत की यूनिवर्सिटीज में लाखों स्टूडेंट्स संस्कृत पढ़ते हैं और इस पर रिसर्च भी करते हैं. इसका ख़ास कारण यह है कि संस्कृत को दुनिया की सबसे पुरानी भाषा होने का गौरव प्राप्त है. भारत से बाहर संस्कृत पूरी दुनिया के 250 से भी ज्यादा यूनिवर्सिटीज में पढ़ाई जाती है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज