इंटीरियर डिजाइनिंग में हैं करियर की ढेरों संभावनाएं, ये हैं कोर्सेज, यहां से करें पढ़ाई

इस कोर्स के तहत छात्र को बेसिक डिजाइनिंग, फॉर्मेटिंग, स्ट्रक्चर बनाना, वास्तुकला, ड्रॉइंग, बजट कॉस्टिंग, सही वस्तुओं का चयन, फर्नीचर के प्रकार आदि की जानकारी दी जाती है.

इस कोर्स के तहत छात्र को बेसिक डिजाइनिंग, फॉर्मेटिंग, स्ट्रक्चर बनाना, वास्तुकला, ड्रॉइंग, बजट कॉस्टिंग, सही वस्तुओं का चयन, फर्नीचर के प्रकार आदि की जानकारी दी जाती है.

इस कोर्स के तहत छात्र को बेसिक डिजाइनिंग, फॉर्मेटिंग, स्ट्रक्चर बनाना, वास्तुकला, ड्रॉइंग, बजट कॉस्टिंग, सही वस्तुओं का चयन, फर्नीचर के प्रकार आदि की जानकारी दी जाती है.

  • Share this:

नई दिल्ली. अगर आपको घर, दुकान, ऑफिस, शोरूम, होटल, हॉस्पिटल से लेकर रिसॉर्ट्स तक कि आंतरिक साज-सज्जा का शौक है या उसका ज़रा भी ज्ञान है तो यकीन मानिए कि इंटीरियर डिजाइनिंग (Interior Designing) का कैरियर (Career) आपके लिए ही बना है. दरअसल, एक इंटीरियर डिज़ाइनर का काम फ्लैट, अपार्टमेंट, कोठी, और अन्य तमाम सार्वजनिक क्षेत्र की संपत्तियों को इंटर्नली एक आकर्षक रूप देना होता है. इस तरह के डिज़ाइनर को ही हम Interior Designer कहते हैं. चलिए आज जानते हैं इंटीरियर डिजाइनिंग क्षेत्र कैरियर और उससे जुड़ी Jobs की संभावनाओं के बारे में.

क्या होती है इंटीरियर डिजाइनिंग:

भवनों, इमारतों (Buildings) और ऑफिशियल कॉम्प्लेक्स (Office Complex) आदि की अंदरूनी साज-सज्जा और व्यवस्था बनाने को ही इंटनियर डिजाइनिंग कहते हैं. इसके तहत फर्नीचर, सोफे के कवर, पर्दों दीवारों के रंग, दरवाजों और खिड़कियों के रंग आदि की योजना तैयार की जाती है. एक इंटीरियर डिजाइनर में कल्पनाशीलता होना बहुत जरूरी है. किसी बड़े अपार्टमेंट, कोठी, बैंक, शोरूम, क्लब, रेस्टोरेंट या होटल की आंतरिक साज-सज्जा में इंटीरियर डिजाइनर की महत्वपूर्ण भूमिका होती है.

ये हैं कोर्सेज:
इंटीरियर डिजाइनिंग में आप 10+2 के बाद सर्टिफिकेट (Certificate), डिप्लोमा (Diploma) और डिग्री (Degree) कोर्स कर सकते हैं. सर्टिफिकेट कोर्स 6 महीने से एक साल की अवधि का होता है, जबकि डिप्लोमा कोर्स एक साल से दो साल की अवधि तक होता है. वहीं डिग्री कोर्स 3 से 4 साल की अवधि का होता है.

ये हैं कोर्स कराने वाले संस्थान:

1. इंटरनेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ फैशन टेक्नोलॉजी (IIFT, Delhi)



2. वीमेंस पॉलीटेक्निक, नई दिल्ली (Womens Polytechnic, New Delhi)

3. इंटरनेशनल पॉलीटेक्निक फ़ॉर वीमेन (International Polytechnic for Women)

4. नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ डिज़ाइन (National Institute of Design).

5. वोगे इंस्टिट्यूट ऑफ़ फैशन टेक्नोलॉजी (Vogue Institute of Fashion Technology, Bangalore)

ये है कोर्स का ज्ञान:

इस कोर्स के तहत छात्र को बेसिक डिजाइनिंग, फॉर्मेटिंग, स्ट्रक्चर बनाना, वास्तुकला, ड्रॉइंग, बजट कॉस्टिंग, सही वस्तुओं का चयन, फर्नीचर के प्रकार आदि की जानकारी दी जाती है.

ये हैं कैरियर विकल्प:

इंटीरियर डिजाइनिंग में कैरियर की संभावनाएं लगातार बढ़ती जा रही हैं. अगर आप सर्टिफिकेट कोर्स करने के बाद भी अपने कैरियर की शुरुआत करते हैं तो 10 से 12 हजार रुपए हर महीने कमा सकते हैं. वहीं डिप्लोमा करने के बाद तमाम होटल्स और प्राइवेट कंपनियों में आप 18 से 20 हजार रुपए महीना कमा सकते हैं. अगर आप इंटीरियर डिजाइनिंग में ग्रेजुएट हैं तो आप हर महीने 40 से 50 हजार रुपए महीने की इनकम (Income) कर सकते हैं.

ये भी पढ़ें -

Jharkhand Board Exam : कोरोना के चलते झारखंड में 10वीं और 12वीं की परीक्षा रद्द

Anganwadi Recruitment 2021: 5वीं पास के लिये आंगनबाड़ी में नौकरी, इतनी होगी सैलरी

सभी राज्यों की बोर्ड परीक्षाओं/ प्रतियोगी परीक्षाओं, उनकी तैयारी और जॉब्स/करियर से जुड़े Job Alert, हर खबर के लिए फॉलो करें- https://hindi.news18.com/news/career/

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज