• Home
  • »
  • News
  • »
  • career
  • »
  • Career Tips: 12वीं के बाद ये हैं मेडिकल फील्ड में टॉप 10 करियर ऑप्शन

Career Tips: 12वीं के बाद ये हैं मेडिकल फील्ड में टॉप 10 करियर ऑप्शन

मेडिकल फील्ड में करियर गाइडेंस

मेडिकल फील्ड में करियर गाइडेंस

Career Tips: मेडिकल फील्ड (Medical Field) में 12वीं पास करने वाले स्टूडेंट्स (Students) अब आगे के लिए बेहतर करियर ऑप्शन (Career) की तलाश में हैं. सभी को पता है कि लिमिटेड सीट्स के चलते हर कोई MBBS डॉक्टर (Doctor) नहीं बन सकता.

  • Share this:

    नई दिल्ली, न्यूज़ 18. विभिन्न शैक्षणिक और राज्य बोर्ड्स (Boards) के 12वीं क्लास के रिजल्ट्स (Results) या तो आ चुके हैं या अगले 2-3 दिन में आ जाएंगे. ऐसे में साइंस (Science) स्ट्रीम में मेडिकल फील्ड (Medical Field) में 12वीं पास करने वाले स्टूडेंट्स (Students) अब आगे के लिए बेहतर करियर ऑप्शन (Career) की तलाश में हैं. सभी को पता है कि लिमिटेड सीट्स के चलते हर कोई MBBS डॉक्टर (Doctor) नहीं बन सकता. और हर कोई इस कोर्स के लिए प्राइवेट कॉलेज (Private College) यूनिवर्सिटी और उनकी फीस भी अफ्फोर्ड (Afford) नहीं कर सकता. ऐसे में स्टूडेंट्स के पास इसके अलावा और क्या ऑप्शन (Options) मौजूद है. चलिए आज करियर गाइडेंस सेक्शन में हम आपको बताते है कि क्या हैं 12वीं के बाद मेडिकल फील्ड के टॉप 10 कोर्स, जिनके बाद आप मेडिकल फील्ड में अपना करियर बनाने का सपना पूरा कर सकते हैं.

    1. बेचलर ऑफ़ मेडिसिन एंड बेचलर ऑफ़ सर्जरी (M.B.B.S):
    MBBS डिग्री करने के बाद आप डॉक्टर बन जाते हैं. यह एक महत्वाकांक्षी एलोपैथिक डॉक्टर की बेसिक डिग्री है. मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया (MCI) चिकित्सा पाठ्यक्रमों की आधिकारिक संस्था है. यह 5.5 वर्ष का कोर्स है और इसमें 4.5 वर्ष की शैक्षणिक शिक्षा और 1 वर्ष की इंटर्नशिप होती है जो अनिवार्य है. इस कोर्स में, छात्रों को मानव शरीर रचना विज्ञान, चिकित्सा, ड्रग्स निर्माण, शरीर क्रिया विज्ञान, फार्माकोलॉजी, पैथोलॉजी, जैव रसायन, माइक्रोबायोलॉजी और सर्जरी की विधि सिखाई जाती है.

    2. बेचलर ऑफ़ आयुर्वेदिक मेडिसिन एंड सर्जरी (B.A.M.S):
    BAMS कोर्स मुख्य तौर पर प्राकृतिक जड़ी-बूटियों को दवा के रूप में उपयोग करके चिकित्सा क्षेत्र की आयुर्वेदिक प्रणाली में एक डिग्री है. इसे Central Council of Indian Medicine (CCIM) द्वारा नियंत्रित किया जाता है. BAMS कोर्स की अवधि 5.5 वर्ष है. इस कोर्स को करने के बाद आप आयुर्वेदिक डॉक्टर कहलाते हैं.

    3. बेचलर ऑफ़ होम्योपैथिक मेडिसिन एंड सर्जरी (B.H.M.S):
    होम्योपैथी वैकल्पिक दवाओं की एक ख़ास प्रणाली है. मानव शरीर की प्राकृतिक चिकित्सा शक्ति द्वारा रोगी ठीक हो जाते हैं क्योंकि शरीर स्वयं कायाकल्प करता है. BHMS कोर्स की अवधि 5.5 वर्ष है. होम्योपैथी में स्नातक करने के बाद Professional एक Government Doctor के रूप में काम कर सकते हैं या एक Private Clinic चला सकते हैं या होम्योपैथी कॉलेज में पढ़ा सकते हैं या आगे एमडी कर सकते हैं.

    4. बेचलर ऑफ़ यूनानी मेडिसिन एंड सर्जरी (B.U.M.S):
    यूनानी चिकित्सा पद्धति के इस कोर्स में स्टूडेंट्स को यूनानी मेडिसिन, वर्कआउट, टर्की बाथ, एनिमल ड्रग्स और सर्जरी के बारे में सिखाया जाता है. इस कोर्स की अवधि 4.5 वर्ष होती है. इस कोर्स के बाद आपको यूनानी पद्धति के डॉक्टर के तौर पर जाना जाता है.

    5. बेचलर ऑफ़ डेंटल सर्जरी (B.D.S):
    इस कोर्स की अवधि 4 वर्ष है. कोर्स करने के बाद आप डेंटल सर्जन के तौर पर जाने जाते हैं. डेंटल सर्जन मूल रूप से दांतों के सर्जन के साथ-साथ जबड़े की हड्डियों और दांतों के क्षेत्र में किसी भी चिकित्सा उपाय के लिए जरुरी होते हैं. इस कोर्स के बाद आप विभिन्न हॉस्पिटल्स में जॉब करने के साथ अपना डेंटल क्लिनिक भी खोल सकते हैं.

    6. बेचलर ऑफ़ फार्मेसी (B. Pharma):
    अगर आपको मेडिसिन यानि दवाइयों के बारे में इंटरेस्ट और उत्सुकता रहती है तो फार्मासिस्ट के तौर पर आप बेहतरीन करियर बना सकते हैं. इस के लिए स्टूडेंट्स को B.Pharma (Bachelor of Pharmacy) की डिग्री करनी होती है. B.Pharma कोर्स की अवधि 4.5 वर्ष होती है.

    7. बेचलर ऑफ़ फिजियोथेरेपी (B.P.T):
    इस कोर्स में पेशेंट्स की शारीरिक स्थिति और कार्यों को बनाए रखने के बारे में सिखाया जाता है जैसे कि Neurological Disorders, Physical Therapy, Exercise, Physically Disabled पेशेंट्स को बिना दवाइयों के सिर्फ एक्सरसाइज और मशीनों की मदद से कैसे ठीक कर सकते हैं. यह कोर्स 4.5 साल का होता है.

    8. बेचलर ऑफ़ ऑक्यूपेशनल थेरेपी (B.O.T):
    इस कोर्स के बाद स्टूडेंट्स को अक्षम रोगियों के साथ काम करने में कुशल होने की आवश्यकता होती है. व्यावसायिक चिकित्सक मरीजों को सुरक्षित रूप से और उचित तरीके से स्ट्रेच करने और व्यायाम करने के लिए चिकित्सा सहायता प्रदान करता है. इसमें कैरियर बनाने के लिये उम्मीदवार के पास अच्छा Communication Skills भी होना आवश्यक हैं. इस कोर्स की अवधि 4.5 वर्ष है.

    9. बेचलर ऑफ़ मेडिकल लैब तकनीशियन (BMLT):
    यह भी एक स्नातक डिग्री है. इस कोर्स में रक्त पर किए गए संपूर्ण प्रयोगशाला अभ्यास, कंप्यूटर के ऊतक निर्माण, प्रयोगशाला उपकरण ए, सूक्ष्मदर्शी शामिल हैं. इस कोर्स की अवधि 3 वर्ष होती है.

    10. सेनेटरी इंस्पेक्टर (Sanitary Inspector):
    इस कोर्स में स्वच्छता, पोषण और महामारी विज्ञान शामिल हैं. इस कोर्स में छात्रों को Study Environment को साफ़ और जनता को एक सुरक्षित शारीरिक स्थिति प्रदान करना सिखया जाता है. इस कोर्स की अवधि महज 1 वर्ष है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज