CBSE Board दिलचस्प किस्से: ऑटो चालक के बेटे ने किया कमाल, आंखों से कम दिखने के बावजूद पाए 98% अंक

CBSE Board दिलचस्प किस्से: ऑटो चालक के बेटे ने किया कमाल, आंखों से कम दिखने के बावजूद पाए 98% अंक
अजय राज ने पार्शियल ब्लाइंड होने के बावजूद 98 फीसदी अंक हासिल किए

CBSE 10th, 12th Board Results 2020: केरल में एक ऑटो रिक्शा ड्राइवर के बेटे अजय राज ने डिसएबल़्ड कैटेगरी में 12वीं कक्षा में टॉप किया. पार्शियली ब्लाइंड होते हुए भी उन्होंने 98 फीसदी अंक हासिल किए.

  • Share this:
नई दिल्ली. ये कहानी है एक ऑटो रिक्शा ड्राइवर के बेटे (Auto Rickshaw Driver Son) की जिसने शारीरिक अक्षमता के बावजूद सीबीएसई बोर्ड की परीक्षा (CBSE Board Exam Results 2020) में 98 फीसदी अंक लाकर कमाल कर दिया. दरअसल, केरल में एक ऑटो रिक्शा ड्राइवर के बेटे अजय आर राज (Ajay R Raj) ने डिसएबल़्ड कैटेगरी में साल 2017 में 12वीं कक्षा में टॉप किया. अजय तिरुवनंतपुरम के थॉमस हायर सेकेंडरी स्कूल (St Thomas Higher Secondary School in Thiruvananthapuram, Kerala) में पढ़ते थे और पार्शियली ब्लाइंड होते हुए भी उन्होंने 98 फीसदी अंक हासिल किए. अजय को परीक्षा में 500 में से 490 अंक मिले थे. तमाम मुश्किलों और संघर्षों के बावजूद उन्होंने टॉपर्स लिस्ट में अपने लिए जगह बनाई. अजय हर साल सीबीएसई की परीक्षा में बैठने वाले लाखों बच्चों के लिए प्रेरणा स्रोत बन गए हैं.

स्क्रीन रीडर सॉफ्टवेयर (Screen Reader Software) के ज़रिए दी परीक्षा
अजय को रेटिनाइटिस पिग्मेंटोसा की बीमारी थी. यह एक ऐसी बीमारी है जिसमें रेटिना की पिछली दीवार डैमेज हो जाती है. ऐसे में स्पष्ट देखने में दिक्कत होती है. राज ने मीडिया को दिए एक इंटरव्यू में बताया कि इंग्लिश लिटरेचर से आगे पढ़ना चाहते हैं और ग्रामीण इलाकों में टीचर बनकर काम करना चाहते हैं.

ये भी पढ़ें
Karnataka 2nd PUC Result 2020: जारी हुआ 12वीं का रिजल्ट, यहां करें चेक


बड़ी खबर: मई में होने वाला CA का एग्जाम रद्द, नवंबर के पेपर के साथ होगा आयोजित

अच्छे नंबर आने की थी पहले से उम्मीद
अजय ने बताया कि उन्हें इस बात की तो उम्मीद थी कि उनके अच्छे नंबर आएंगे लेकिन रैंक आने की उम्मीद नहीं थी. अजय ने अपनी सफलता को अपने माता-पिता, टीचर्स और दोस्तों को समर्पित किया. वे टीचर बनकर गांवों मे बच्चों की सहायता करना चाहते हैं. अजय हॉस्टल में रहते हैं और स्कूल से उन्हें स्कॉलरशिप व दूसरी सुविधाएं मिल रही थी. अजय राज कोझिकोड के रहने वाले हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading