लाखों छात्रों के लिए बड़ी खबर, सीबीएसई बोर्ड सिलेबस में 33 प्रतिशत की होगी कटौती, एग्जाम का पैटर्न भी बदलेगा!

लाखों छात्रों के लिए बड़ी खबर, सीबीएसई बोर्ड सिलेबस में 33 प्रतिशत की होगी कटौती, एग्जाम का पैटर्न भी बदलेगा!
साल 2021 से होगा पाठ्यक्रम में बदलाव.

केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (CBSE) ने सिलेबस (Syllabus) में बदलाव की पूरी तैयारी कर ली है. जल्द ही इसके बारे में स्कूलों को सूचित कर दिया जाएगा.

  • Share this:
नई दिल्ली. केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड यानी सीबीएसई (CBSE) के स्कूलों में पढ़ रहे लाखों छात्र-छात्राओं के लिए बड़ी खबर सामने आई है. इसके अनुसार, सीबीएसई बोर्ड अपने सिलेबस में 33 प्रतिशत की कटौती कर सकता है. सीबीएसई का नया सिलेबस (New Syllabus) पूरी तरह तैयार है और अब इसे जल्द ही संबंधित स्कूलों के साथ साझा किया जाएगा. माना जा रहा है कि अगले साल दसवीं और बारहवीं की बोर्ड परीक्षाओं से पहले तक सिलेबस में 33 फीसदी की कटौती की जा सकती है. इतना ही नहीं, अगले साल से बोर्ड एग्जाम का पैटर्न भी बदलने की सुगबुगाहट है.

जल्द जारी होगा संशोधित करिकुलम
टाइम्सनाउ की रिपोर्ट के अनुसार, मौजूदा हालात को देखते हुए सीबीएसई (CBSE) सिलेबस में बदलाव को लेकर एनसीईआरटी व अन्य हित धारकों के भी संपर्क में है. इसमें इस बात का भी ध्यान रखा गया है कि कोरोना वायरस के चलते देशभर के स्कूल फिलहाल खुलते नजर नहीं आ रहे हैं. इसके अलावा आनलाइन लर्निंग की स्लो स्पीड जैसे मुद्दों पर भी ध्यान रखा गया है. इन सभी बातों को देखते हुए बोर्ड कक्षा 9 से 12 तक के लिए संशोधित करिकुलम जारी करेगा. कक्षा 1 से लेकर 8वीं तक निर्देशों के अनुसार बदलाव करने को लेकर बोर्ड पहले ही स्कूलों को बता चुका है.

सिलेबस में ये हो सकते हैं बदलाव



1. सिलेबस में 25 से 33 प्रतिशत की कटौती की जा सकती है, हालांकि पूरा चैप्टर नहीं हटाया जाएगा.


2. चैप्टर के अंदर के गैरजरूरी हिस्सों को हटा दिया गया है ताकि कांसेप्ट पर असर न पड़े.
3. नए करिकुलम में आनलाइन क्लासेज को भी ध्यान में रखा गया है.
4. आनलाइन क्लासेज स्वीकार करने के लिए पेरेंट्स के लिए भी गाइडलाइन जारी की जाएगी.
5. मानसिक, भावनात्मक, शारीरिक, एकेडमिक लर्निंग पर फोकस,

ये भी पढ़ें
जल्द आएगा झारखंड बोर्ड का रिजल्ट, टॉपर्स की कॉपियां भी की जाएंगी सार्वजनिक

केरल बोर्ड ने जारी किए दसवीं के नतीजे, 98.8 फीसदी रहा रिजल्ट

एग्जाम पैटर्न
सीबीएसई ने इस बात को भी स्वीकार किया है कि सिर्फ सिलेबस में कटौती करके ही काम चलने वाला नहीं है. यही वजह है कि टर्म में आनलाइन असेस्मेंट, प्रोजेक्ट आधारित और इंटर ग्रुप एक्टिविटी पर भी विचार किया जा रहा है. हालांकि प्रैक्टिकल और इंटरनल नंबर के वेटेज में किसी तरह के बदलाव का सुझाव नहीं है. अपुष्ट खबरों के अनुसार सीबीएसई पेपर पैटर्न में दिए जाने वाले एमसीक्यू पार्ट को बढ़ाया जा सकता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading