CBSE Board 12th Topper: 500 में से 499 अंक लेकर टॉपर बनी थीं हंसिका, जानिए ​पिछले साल का हाल

CBSE Board 12th Topper: 500 में से 499 अंक लेकर टॉपर बनी थीं हंसिका, जानिए ​पिछले साल का हाल
पिछले साल 2019 में हंसिका शुक्ला ने किया था टॉप

CBSE Board 12th Topper 2020: हंसिका शुक्ला आईएफएस ऑफिसर बनना चाहती हैं. उनकी मां टीचर हैं जबकि पिता राज्य सभा में सेक्रेटरी स्तर के अधिकारी हैं.

  • Share this:
नई दिल्ली. केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड यानी सीबीएसई का इस साल का दसवीं और बारहवीं का रिजल्ट जल्द ही जारी कर दिया जाएगा. ऐसे में सभी की निगाहें इस बात पर हैं कि साल 2020 में सीबीएसई रिजल्ट में कौन टॉप करता है, कुल पास प्रतिशत कितना रहेगा और इस बार लड़कियां ही लड़कों पर भारी रहेंगी या लड़के बाजी मारेंगे. इन सबके बीच हम आपको सीबीएसई बोर्ड के पिछले साल के टॉपर्स के बारे में बताने जा रहे हैं. आइए जानते हैं पिछले साल सीबीएसई की 12वीं क्लास में टॉप करने वाली हंसिका शुक्ला के बारे में. हालांकि उन्हें ये स्थान करिश्मा के साथ साझा करना पड़ा.

मिले थे 499 अंक
हंसिका को पिछले साल बोर्ड की परीक्षा में 500 में से 499 अंक मिले. सिर्फ इंग्लिश ऐसा विषय था जिसमें हंसिका को 500 में से 499 अंक मिले बाकी के सभी विषयों में पूरे के पूरे 100 अंक मिले. हालांकि, पिछले साल हंसिका अकेली टॉपर नहीं थीं बल्कि उन्हें यह स्थान करिश्मा के साथ शेयर करना पड़ा. पिछले साल करिश्मा अरोड़ा को भी 499 अंक मिले थे. पिछले साल सीबीएसई का कुल रिजल्ट 83.01 प्रतिशत रहा था जो कि साल 2018 की तुलना में सिर्फ एक फीसदी ही ज्यादा था.

IFS बनना चाहती हैं हंसिका
हंसिका आईएफएस ऑफिसर बनना चाहती हैं. उनकी मां टीचर हैं जबकि पिता राज्य सभा में सेक्रेटरी स्तर के अधिकारी हैं. शायद इसीलिए सरकारी सेवा की तरफ उनका झुकाव होगा. हंसिका ने खुद से पढ़ाई की और किसी भी तरह की कोचिंग क्लासेज नहीं लीं. उन्होने सारे विषयों पर खुद से ही पढ़ाई की. हंसिका को म्यूज़िक में काफी रुचि है. वह आगे सोशियॉलजी के साथ पढ़ाई करना चाहती हैं. हंसिका ने मेरठ रोड पर स्थित गाजियाबाद के दिल्ली पब्लिक स्कूल से पढ़ाई की.



ये भी पढ़ें-
जरूरी खबर:फाइनल ईयर एग्जाम को लेकर कंफ्यूजन खत्म! HRD मंत्रालय ने उठाया ये कदम
बड़ी बात: जेईई मेन और नीट के बाद अब ये परीक्षा भी स्थगित, 22 अगस्त को एग्जाम


खुद में विश्वास करें
हंसिका ने कहा, 'कभी भी अविश्वास में विश्वास न करें. सफलता तब मिलती है जब आप अपने में विश्वास करते हैं. मुझे अंग्रेजी में 100 फीसदी रिजल्ट न आने की कोई दुख नहीं हैं. मैं कभी भी देश की टॉपर नहीं बनना चाहती थी बल्कि मैंने अपना 100 प्रतिशत अपने काम में दिया था.' हंसिका ने मीडिया को बताया कि उन्होंने पढ़ाई में अपना सौ प्रतिशत दिया और अपनी सफलता का श्रेय अपने परिवार और टीचर्स को दिया. उन्होंने बताया कि उनकी मां उनकी पढ़ाई से संबंधित हर चीज़ का ख्याल रखती थीं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading