Home /News /career /

बड़ी बातः 9वीं से 12वीं के छात्रों को सीबीएसई ने दी चेतावनी, कहा- रिवेंज पोर्नोग्राफी......

बड़ी बातः 9वीं से 12वीं के छात्रों को सीबीएसई ने दी चेतावनी, कहा- रिवेंज पोर्नोग्राफी......

देश के लाखों बच्‍चों की नजर हर साल सीबीएसई बोर्ड के रिजल्‍ट पर रहती है. इसी परिणाम के बाद इनके भविष्‍य की आगे की राह तय होती है.
पिछले साल 10वीं का रिजल्‍ट 2018 की तुलना में बेहतर रहा था. 2018 की तुलना में पास होने वाले स्‍टूडेंट्स का प्रतिशत पिछले साल 4.40 बढ़ा था. 2019 में पास का प्रतिशत 91.10 रहा था.

देश के लाखों बच्‍चों की नजर हर साल सीबीएसई बोर्ड के रिजल्‍ट पर रहती है. इसी परिणाम के बाद इनके भविष्‍य की आगे की राह तय होती है. पिछले साल 10वीं का रिजल्‍ट 2018 की तुलना में बेहतर रहा था. 2018 की तुलना में पास होने वाले स्‍टूडेंट्स का प्रतिशत पिछले साल 4.40 बढ़ा था. 2019 में पास का प्रतिशत 91.10 रहा था.

चूंकि कोरोना वायरस महामारी की वजह से स्टडी पूरी तरह से ऑनलाइन हो रही है और छात्रों का डिजिटल एक्सपोज़र भी बढ़ रहा है, इसलिए सीबीएसई ने इन खतरों से छात्रों को आगाह किया है. सीबीएसई छात्रों के लिए बल्कि उनके पैरेंट्स के लिए भी गाइडलाइन्स दी गई हैं

अधिक पढ़ें ...
    नई दिल्लीः सीबीएसई (CBSE) ने छात्रों को ऑनलाइन स्टडी के टाइम में तमाम खतरों से बचने के लिए चेतावनी जारी की है. इसमें ऑनलाइन फ्रेड्स को लेकर लिमिट सेट करने, किसी समस्या में पड़ने पर माता-पिता को रिपोर्ट करने से लेकर रिवेंज पोर्नोग्राफी तक शामिल है. चूंकि कोरोना वायरस महामारी की वजह से स्टडी पूरी तरह से ऑनलाइन हो रही है और छात्रों का डिजिटल एक्सपोज़र भी बढ़ रहा है, इसलिए सीबीएसई ने इन खतरों से छात्रों को आगाह किया है.

    सीबीएसई ने शेयर किया साइबर सेफ्टी हैंडबुक
    सीबीएसई ने कक्षा 9 से 12 के छात्रों के लिए साइबर सेफ्टी हैंडबुक शेयर किया है. इस हैंडबुक में न सिर्फ छात्रों के लिए बल्कि उनके पैरेंट्स के लिए भी गाइडलाइन्स दी गई हैं, ताकि वे मुद्दे की संवेदनशीलता को समझ पाएं, और जान पाएं कि क्या करना है और क्या नहीं करना है. इसमें कहा गया है कि छात्रों को ऑनलाइन फ्रेंडशिप के लिए लिमिट सेट करनी चाहिए. साथ ही यह भी जानना जरूरी है कि क्या शेयर करना है और क्या नहीं शेयर करना है. क्या लिखना है, कौन सी फोटो शेयर करनी है और कौन सी वीडियों शेयर करनी है, यह जानना काफी जरूरी है. क्योंकि जो चीज़ एक बार ऑनलाइन चली जाती है उसके बारे में यह सुनिश्चित करना मुश्किल हो जाता है कि उसे कौन-कौन देखेगा और किस तरह से यूज करेगा.

    अधिकारियों ने कहा किसी फोटो, वीडियो या दूसरे मटीरियल को सोशल मीडिया पर बिना दूसरे की स्वीकृति के शेयर नहीं किया जाना चाहिए. क्योंकि किसी भी संबंध में यह काफी महत्त्वपूर्ण होता है. युवाओं को रिजेक्शन का सामना करने की शक्ति विकसित करना होगा.

    पैरेट्स को भी दी सलाह
    सीबीएसई ने पैरेंट्स को भी सलाह दी है कि वे अपने बच्चों के अंदर ऐसी समझ विकसित करें ताकि वे जान सकें कि किससे क्या शेयर करना है. अभी तक ऑनलाइन कसेंट के लिए कोई न्यूनतम आयु निश्चित नहीं की गई है. कई बार फेक अकाउंट बनाकर भी कुछ लोग बच्चों से दोस्ती करते हैं जो कि बाद में उन्हें नुकसान पहुंचा सकते हैं. सीबीएसई ने इसके लिए सुझाव दिया कि कभी भी किसी ऐसे व्यक्ति की फ्रेंड रिक्वेस्ट भी ऐक्सेप्ट न करें जिन्हें नहीं जानते हैं और ऐसे लोगों से कुछ भी शेयर न करें.

    रिवेंज पोर्नोग्राफी को लेकर दी चेतावनी
    हैंडबुक में कहा गया है कि 14 साल से 18 साल के टीनेजर्स इसके सबसे बड़ विक्टिम हैं और इसी आयु वर्ग के टीनेजर्स ही इस काम को सबसे ज्यादा अंजाम भी देते हैं. इसमें कहा गया है कि कोई भी व्यक्ति ईर्ष्या में, संबंधों को तोड़ लेने पर या बात न करने पर भी ऐसा कर सकता है.

    हाल ही में सोशल मीडिया साइट इन्स्टाग्राम पर बने इसी तरह के एक ग्रुप को लेकर काफी विवाद हुआ था, जिसमें छोटी लड़कियों के आपत्तिजनक फोटोज़ शेयर किए जा रहे थे और किए गए बातचीत के स्क्रीनशॉट भी शेयर किए जा रहे थे.

    Tags: Cbse, Cbse board, CBSE board results

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर