CBSE 12th Results 2020: 400 स्टूडेंट्स का रिजल्ट रोका, परिणाम देखने में इसलिए परेशान हुए 12 लाख छात्र

CBSE 12th Results 2020: 400 स्टूडेंट्स का रिजल्ट रोका, परिणाम देखने में इसलिए परेशान हुए 12 लाख छात्र
इस साल ने ‘FAIL’ की जगह ‘Essential Repeat’शब्द का इस्तेमाल किया है.

cbseresults.nic.in पर तकनीकी समस्या के संबंध में CBSE की ओर से कहा गया, इस मुद्दे को दो घंटे में हल किया जाएगा.

  • Share this:
केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) ने सीबीएसई 12वीं के परिणाम दोपहर में जारी किए. बोर्ड के परिणाम आधिकारिक वेबसाइट cbseresults.nic.in के जरिए देखे नहीं जा सके, जिसकी छात्रों ने शिकायत की. जवाब में, बोर्ड के एक अधिकारी ने कहा कि राष्ट्रीय सूचना विज्ञान केंद्र (एनआईसी) ने सूचित किया है कि सीबीएसई के रिजल्ट तक पहुँचने में एक तकनीकी समस्या है. इस मुद्दे को दो घंटे में हल किया जाएगा.

एनआईसी द्वारा सूचित किया गया, सभी स्कूलों में पूर्ण परिणाम भेजे गए हैं. प्रत्येक स्कूल के लिए बनाई गई आधिकारिक ई-मेल आईडी से जांच की जा सकती है. छात्र अपने परिणाम स्कूलों से प्राप्त कर सकते हैं.

400 स्टूडेंट्स का रिजल्ट रोका
केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड, सीबीएसई ने 400 छात्रों का परिणाम जारी नहीं किया. क्योंकि बोर्ड निर्धारित मूल्यांकन योजना (decided assessment scheme) के अनुसार इसकी गणना करने में असमर्थ रहा. बोर्ड ने इन छात्रों के परिणाम की घोषणा बाद में सीबीएसई के आधिकारिक साइट cbse.nic.in पर करेगा. इस साल ने ‘FAIL’ की जगह ‘Essential Repeat’शब्द का इस्तेमाल किया है.
दरअसल बोर्ड ने वैकल्पिक मूल्यांकन योजना के आधार पर परिणाम घोषित किया है. चार बिन्दुओं पर आधारित इस योजना के तहत छात्र को उस विषय के आधार पर अंक दिए गए हैं, जिनमें उसे सर्वाधिक अंक मिले हैं. इस योजना के अनुसार जिन 400 छात्रों के अंकों की गणना नहीं हो पायी है, उनका परिणाम बाद में घोषित किया जाएगा.



ये भी पढ़ें-
CBSE 12th Result 2020: 12वीं के परिणाम जारी, जानिए कैसे मिलेगी मार्कशीट
CBSE Board 2020: सीबीएसई की वेबसाइट क्रैश, अब इस आसान तरीके से देखें रिजल्ट

आंकड़ों से समझें रिजल्ट-


सीबीएसई12वीं कक्षा में लड़कियों के उत्तीर्ण होने का प्रतिशत लड़कों की तुलना में 5.96 प्रतिशत अधिक रहा. इस वर्ष 12वीं कक्षा में कुल 88.78 प्रतिशत छात्र उत्तीर्ण हुए. पिछले साल की तुलना में इस साल 5.38 प्रतिशत अधिक छात्र उत्तीर्ण हुए.

इस साल लड़कियों का उत्तीर्ण प्रतिशत 92.15 रहा, जबकि लड़कों का उत्तीर्ण प्रतिशत 86.19 रहा. ट्रांसजेंडर का उत्तीर्ण प्रतिशत 66.67 दर्ज किया गया.

-क्षेत्रवार त्रिवेंद्रम क्षेत्र का प्रदर्शन सबसे अच्छा रहा, जहां के छात्रों का उत्तीर्ण प्रतिशत 97.67 रहा.
-बेंगलुरू क्षेत्र का उत्तीर्ण प्रतिशत 97.05 और चेन्नई क्षेत्र का उत्तीर्ण प्रतिशत 96.17 दर्ज किया गया.
-दिल्ली पश्चिम क्षेत्र का उत्तीर्ण प्रतिशत 94.61, दिल्ली पूर्व क्षेत्र का उत्तीर्ण प्रतिशत 94.24, पंचकुला क्षेत्र का उत्तीर्ण प्रतिशत 92.52 रहा.
- चंडीगढ़ क्षेत्र का उत्तीर्ण प्रतिशत 92.04, भुवनेश्वर क्षेत्र का उत्तीर्ण प्रतिशत 91.46 और भोपाल क्षेत्र का उत्तीर्ण प्रतिशत 90.95 दर्ज किया गया.
-अजमेर क्षेत्र का उत्तीर्ण प्रतिशत 87.60 रहा और नोएडा क्षेत्र से 84.87 प्रतिशत छात्र सफल रहे.
-गुवाहाटी क्षेत्र से 83.37 प्रतिशत, देहरादून क्षेत्र से 83.22 प्रतिशत, प्रयागराज क्षेत्र से 82.49 प्रतिशत और पटना क्षेत्र से 74.57 प्रतिशत छात्र सफल रहे.

विदेश का हाल
विदेशी स्कूलों में 12वीं कक्षा की परीक्षा के लिए 16,103 छात्रों ने पंजीकरण कराया था और 16,043 छात्रों ने परीक्षा दी. इनमें से 15,122 छात्र उत्तीर्ण हुए. विदेशी स्कूलों में 12वीं कक्षा में छात्रों का उत्तीर्ण प्रतिशत 94.26 दर्ज किया गया.

जवाहर नवोदय विद्यालय के छात्रों का 12वीं कक्षा में उत्तीर्ण प्रतिशत 98.70 रहा. केंद्रीय विद्यालय के छात्रों का उत्तीर्ण प्रतिशत 98.62 प्रतिशत दर्ज किया गया. सरकारी स्कूलों के छात्रों का उत्तीर्ण प्रतिशत 94.94 प्रतिशत रहा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading