यूजीसी की गाइडलाइंस के तहत स्टूडेंट्स ने रखी प्रमोट करने की मांग, जानिए क्या है यूनिवर्सिटी का रुख

यूजीसी की गाइडलाइंस के तहत स्टूडेंट्स ने रखी प्रमोट करने की मांग, जानिए क्या है यूनिवर्सिटी का रुख
कोरोना वायरस के चलते देशभर में स्कूल और कॉलेज समेत अन्य शिक्षण संस्थान करीब ढाई महीने से बंद हैं.

देश में जारी किए गए लॉकडाउन (Lockdown) की वजह से अधिकतर राज्यों में पढ़ाई पर इसका गहरा असर पड़ा है.

  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
नई दिल्ली. कोरोना वायरस (Coronavirus) महामारी के चलते देशभर में परीक्षाएं या तो स्थगित हो गईं हैं या रद्द कर दी गई हैं, ऐसे समय में विश्वविद्यालय अनुदान आयोग यानी यूजीसी (UGC) ने छात्रों को राहत देने के लिए अपनी गाइडलाइंस जारी की थीं. अब सेंट्रल यूनिवर्सिटी आफ कश्मीर (Central University of Kashmir) के छात्रों ने इन्हीं गाइडलाइंस का हवाला देते हुए यूनिवर्सिटी प्रबंधन से प्रमोट किए जाने की मांग रखी है.

दरअसल, सेंट्रल यूनिवर्सिटी आफ कश्मीर (Central University of Kashmir) के छात्रों की मांग है कि यूजीसी की गाइडलाइंस (UGC Guidelines) के तहत उन्हें पिछले सेमेस्टर से प्रमोट कर दिया जाए ताकि वे अगले सेमेस्टर की पढ़ाई पर ध्यान केंद्रित कर सकें. इस बारे में यूनिवर्सिटी की स्टूडेंट्स फेडरेशन के अध्यक्ष गाजी अहमद खान ने कहा कि यूजीसी की गाइडलाइंस के बावजूद यूनिवर्सिटी ने प्रमोट किए जाने का कोई फैसला नहीं किया है. हमारे दो सेमेस्टर लंबित है, हम चाहते हैं कि हमें पिछले सेमेस्टर में प्रमोट किया जाए और इस सेमेस्टर में भी थोड़ी राहत दी जाए क्योंकि कोरोना वायरस के चलते हमें काफी परेशानियों का सामना करना पड़ा है.

क्लास नहीं ले सके अधिकतर स्टूडेंट्स
बता दें कि विश्वविद्यालय अनुदान आयोग यानी यूजीसी (UGC) ने कोरोना वायरस के चलते पढ़ाई पर पड़े प्रभाव को देखते हुए सिफारिश की थी कि इंटरमीडिएट सेमेस्टर के छात्रों को इंटरनल असेस्मेंट के आधार पर नंबर दिए जाने चाहिए और ऐसे राज्य जहां हालात काबू में आ गए हैं वहां जुलाई में परीक्षाएं आयोजित की जानी चाहिए. स्टूडेंट्स फेडरेशन की प्रवक्ता नादिया राशिद ने कहा कि लॉकडाउन के चलते स्टूडेंट्स क्लास अटैंड नहीं कर सके और हाईस्पीड इंटरनेट के अभाव के चलते आनलाइन क्लास भी अधिकतर छात्र नहीं ले सके.



यूनिवर्सिटी का ये है पक्ष


स्टूडेंट्स की इस मांग को लेकर यूनिवर्सिटी के कंट्रोलर आफ एग्जामिनेशन प्रोफेसर प्रवीन पंडित ने कहा कि छात्रों को अगले सेमेस्टर के लिए पहले ही प्रमोट किया जा चुका है, हालांकि ये तय नहीं है कि असेस्मेंट का तरीका क्या होगा. हमने इस बारे में अभी तक कोई फैसला नहीं किया है.

बड़ी खबर : हरियाणा बोर्ड दसवीं के नतीजे सोमवार को होंगे घोषित, यहां करें चेक

69000 सहायक शिक्षकों की भर्ती प्रक्रिया पर HC की लखनऊ बेंच ने लगाई रोक
First published: June 4, 2020, 7:52 AM IST
अगली ख़बर

फोटो

corona virus btn
corona virus btn
Loading