Home /News /career /

यूपी बोर्ड के पाठ्यक्रम में हुए बदलाव, मार्कोपोलो की जगह पढ़ाई जाएगी रविंद्रनाथ टैगोर की ये कहानी

यूपी बोर्ड के पाठ्यक्रम में हुए बदलाव, मार्कोपोलो की जगह पढ़ाई जाएगी रविंद्रनाथ टैगोर की ये कहानी

ग्रेजुएट मैनेजमेंट एडमिशन काउंसिल (GMAC)  जी मैट का एग्जाम आयोजित कराती है.

ग्रेजुएट मैनेजमेंट एडमिशन काउंसिल (GMAC) जी मैट का एग्जाम आयोजित कराती है.

उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा परिषद ने पाठ्यक्रम में जोड़-घटाव पहली बार नहीं किया है. इससे पहले भी बोर्ड पाठ्यक्रमों में कई बदलाव कर चुका है. आइए आपको कुछ अहम बदलाव के बारे में बताते हैं.

    नई दिल्ली. उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा परिषद (यूपी बोर्ड) ने कक्षा नौवीं और कक्षा दसवीं के पाट्यक्रम में कुछ बदलाव किया है. इसके तहत अंग्रेजी के कठिन अध्याय में भी परिवर्तन किया गया है. पाठ्यक्रम में जोड़-घटाव का सिलसिला पहली बार नहीं चला है. इससे पहले भी बोर्ड पाठ्यक्रमों में कई बदलाव कर चुका है. आइए आपको कुछ अहम बदलाव के बारे में बताते हैं.

    क्या हुए हैं बदलाव
    -इस बदलाव के तहत कक्षा नौ के छात्र अब 'मार्कोपोलो' की कहानी नहीं पढ़ेंगे. मार्कोपोलो के स्थान पर रविंद्रनाथ टैगोर की कहानी 'काबुलीवाला' स्टूडेंट्स को पढ़ाई जाएगी.
    - इसके अलावा कविता 'द फेथफुल फ्रेंड' को हटा दिया गया है अब इसके स्थान पर शेक्सपियर की रचित 'द सेवन एजेस ऑफ मेन' पढ़ाई जाएगी.
    - कक्षा 11वीं के पाठ्यक्रम से मर्चेंज ऑफ वेनिस हटाकर 12वीं के पाठ्यक्रम में जोड़ दी गई है.
    काव्य (पोएट्री) 'टू द प्यूपिल' के स्थान पर अब 'इंडिया माय नेटिव लैंड' पढ़ाया जाएगा.
    इतना ही नहीं कक्षा 12वीं से छात्र-छात्राओं का पसंदीदा ड्रामा 'जूलियस सीजर' हटा दिया है.
    'लाइट ऑफ एशिया' जो कि कक्षा 11वीं और 12वीं दोनों के छात्रों के लिए जरूरी था अब कक्षा 11वीं को ही पढ़ाया जाएगा.

    ये भी पढ़ें- यूपी बोर्ड के पाठ्यक्रम में हुए बदलाव, मार्कोपोलो की जगह पढ़ाई जाएगी रविंद्रनाथ टैगोर की ये कहानी

    Tags: Better education opportunities, School Admission, UP Board Examinations

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर