छत्तीसगढ़ के गांव में बच्चों को पढ़ाने के लिए टीचर ने निकाला अनोखा तरीखा, देखें VIDEO

24 मार्च, 2020 से सभी स्कूल बंद हैं.
24 मार्च, 2020 से सभी स्कूल बंद हैं.

गाँव के स्कूल होने के नाते यह उम्मीद नहीं की जाती है कि सभी छात्र या अभिभावक डाटा कनेक्शन और स्मार्ट मोबाइल फोन का खर्च उठा सकें.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 18, 2020, 3:32 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. छत्तीसगढ़ के कोरिया में एक शिक्षक यह सुनिश्चित करने के लिए कई मील चलता है कि उसके छात्र इस महामारी के दौरान पढ़ाई में पीछे न रह जाएं. सोशल मीडिया पर एक अधिकारी द्वारा एक वीडियो शेयर किया गया जिसमें एक शिक्षक ग्रीन बोर्ड और लाउडस्पीकर के साथ गाँव में कक्षाएँ लेने जा रहै है.

ये वीडियो ट्वीटर पर Awanish Sharan ने @AwanishSharan हैंडल से शेयर की है. हैंडल ट्विटर पर दी गई जानकारी के मुताबिक वे Chhattisgarh Cadre से 2009 के बैच से IAS हैं.


इंटरनेट कनेक्शन नहीं होने पर भी छात्रों को पढ़ाया
छत्तीसगढ़ सरकार ने महामारी के समय शिक्षा प्रणाली में इंटरनेट कनेक्शन नहीं होने पर भी राज्य के सभी छात्रों को शामिल करने का प्रयास किया है.



छात्र घंटी बजाते ही खुशी से झूम उठते हैं
वीडियो में हम देख सकते हैं, कोरिया जिले में शिक्षक एक छाता, ग्रीन बोर्ड और लाउडस्पीकर लेकर अपनी मोटरसाइकिल पर जा रहा है और गाँव के छात्र घंटी बजाते ही खुशी से झूम उठते हैं. इस खुले स्कूल में विशेष व्यवस्थाएं देखी जा सकती हैं. छात्रों को एक दूसरे से छह फीट अलग खड़ा किया है. जो कि महामारी के समय में सामाजिक दूरी बनाए रख रहे हैं.

कविता के जरिए गिनती सिखा रहा है
छात्रों की खुशी को देखा जा सकता है, वे अपनी जगह पर खड़े होने के लिए जल्दी से जाते हैं. वीडियो में टीचर बच्चों को कविता के जरिए गिनती सिखा रहा है. छात्र जल्दी उत्तर देते हैं और वे पढ़ते हुए बेहद खुश नजर आ रहे है. इस प्रकार यह दिख रहा है कि छात्र निश्चित रूप से इसका आनंद ले रहे हैं.

ये भी पढ़ें-
बड़ी खबर: इस बार 2 लाख से ज्यादा स्टूडेंट्स नहीं दे पाए JEE Main एग्जाम
जम्मू-कश्मीर और असम में 21 Sep से खुलेंगे स्कूल, सरकार ने जारी की गाइडलाइन्स और SOP

स्कूलों के  बंद रहने के दौरान सीखने की प्रक्रिया जारी
वीडियो शेयर करने वाले अवनीश शरण ने यह भी बताया गया है कि छत्तीसगढ़ सरकार ने शिक्षा प्रणाली की बेहतरी के लिए और स्कूलों के  बंद रहने के दौरान सीखने की प्रक्रिया को जारी रखने के लिए कई ऐसे कदम उठाए हैं. गाँव के स्कूल होने के नाते यह उम्मीद नहीं की जाती है कि सभी छात्र या अभिभावक डाटा कनेक्शन और स्मार्ट मोबाइल फोन का खर्च उठा सकें. यही वजह है कि राज्य सरकार ने कक्षाओं को लेने के लिए शिक्षकों की नियुक्ति की व्यवस्था की है.

24 मार्च, 2020 से सभी स्कूल बंद हैं. अब कई राज्य सितंबर-अक्टूबर 2020 से फिर से स्कूल खोलने का प्लान कर रहे हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज