NEET Results 2020: कोयंबटूर के छात्र ने नीट ओएमआर शीट में लगाया छेड़छाड़ का आरोप

नीट रिजल्ट में लगातार कई तरह की अनियमितताओं की खबर आ रही है.
नीट रिजल्ट में लगातार कई तरह की अनियमितताओं की खबर आ रही है.

एनटीए द्वारा जारी आंसर-की से मिलान करने पर मनोज के 594 अंक आए थे. लेकिन रिजल्ट जारी होने पर जब फैमिली ने देखा कि उसके सिर्फ 248 अंक ही आए थे तो फैमिली को काफी झटका लगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 21, 2020, 8:35 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. नेशनल टेस्टिंग एजेंसी, एनटीए (National Testing Agency, NTA) द्वारा नीट का रिजल्ट घोषित किए जाने के कुछ दिन बाद ही एक छात्र ने आरोप लगाया है कि उसकी ओएमआर शीट के साथ छेड़छाड़ हुई है. इंडिया टुडे की रिपोर्ट के मुताबिक छात्र का नाम केएस मनोज है. छात्र ने अपनी ओएमआर शीट को डाउनलोड करके एनटीए द्वारा जारी की गई आंसर-की से अपने अंकों को क्रॉस-वेरिफाई किया था. एनटीए द्वारा जारी आंसर-की से मिलान करने पर मनोज के 594 अंक आए थे. लेकिन रिजल्ट जारी होने पर जब फैमिली ने देखा कि उसके सिर्फ 248 अंक ही आए थे तो फैमिली को काफी झटका लगा.

इंडिया टुडे की खबर के मुताबिक मनोज के पिता ने कहा कि 248 अकं देखकर हमें काफी झटका लगा, क्योंकि हमने ओएमआर शीट को डाउनलोड किया था आंसर-की से चेक किया था. उस वक्त कुल 594 अंक आ रहे थे. छात्र के परिवार ने ईमेल के जरिए इसकी शिकायत दर्ज कराई है. पिछले कुछ दिनों में इस तरह की काफी शिकायतें आ चुकी हैं.

एक छात्रा ने नीट रिजल्ट की मूल्यांकन प्रणाली को लेकर बॉम्बे हाईकोर्ट में याचिका दायर की थी. नीट रिजल्ट में छात्रा को जीरो मार्क्स प्राप्त हुए. हाईकोर्ट की नागपुर पीठ में अपनी याचिका दायर कर छात्रा ने कहा कि उसे 720 में कम से कम 600 मार्क्स प्राप्त करने की उम्मीद थी. लेकिन, फाइनल स्कोर कार्ड देख कर उसे सदमा लग गया है. वहीं, छात्रा का पक्ष रख रहे अधिवक्ता अश्विन पांडेय ने कहा कि 12वीं में छात्रा को 81.85 प्रतिशत मार्क्स हासिल हुए हैं. नीट परीक्षा में उसे 600 अंक प्राप्त होने की उम्मीद थी, जबकि, उसे शून्य अंक दिए गए हैं. राजस्थान की एक घटना में भी एक छात्र को एनटीए द्वारा जारी रिजल्ट में 729 में से कुल 329 अंक दिए गए थे जबकि बाद में जांच करने पर पता चला कि उसके 650 अंक आए हैं और वह छात्र एसटी कैटेगरी में ऑल इंडिया टॉपर था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज